Breaking News:

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

ऑटो-रिक्शा चालकों ने की आर्थिक सहायता की मांग -

Sunday, May 24, 2020

दुःखद : महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या -

Sunday, May 24, 2020

अन्नपूर्णा रोटी बैंक चैरिटेबल ट्रस्ट पुलिस कर्मियों को पुष्प भेंट किया सम्मान -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो कि संख्या हुई 317 -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड: राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 298 -

Sunday, May 24, 2020

पानी में डूबकर दम घुटने से हुई युवती की मौत -

Saturday, May 23, 2020

उत्तराखंड में कोरोना का कहर , मरीजो की संख्या हुई 244 -

Saturday, May 23, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कांस्टेबल स्व0 संजय गुर्जर की पत्नी को 10 लाख रूपये का चेक सौंपा -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 173 हुई -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना की मार: ठेले पर फल बेच जीविका चलाने को मजबूर यह कलाकार -

Saturday, May 23, 2020

सचिन आनंद एंव गणेश चन्द्र ठाकुर चुने गए कोरोना वॉरियर्स ऑफ द डे -

Friday, May 22, 2020

देहरादून : सीएमआई अस्पताल में उत्तराखंड के प्रथम लेज़र एवं कॉस्मेटिक गायनेकोलॉजी क्लिनिक का हुआ शुभारम्भ -

Friday, May 22, 2020

उत्तराखंड सरकार का देवस्थानम बोर्ड की बैठक बुलाना गलत : मंत्री प्रसाद नैथानी -

Friday, May 22, 2020

उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम बोर्ड की पहली बैठक हुई, जानिए खबर -

Friday, May 22, 2020

‘ब्लेंड लाइफ’ गाना एक मिलियन टिकटोक व्यूज के साथ युवाओ का बना पहली पसंद -

Friday, May 22, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 151 , जानिए खबर -

Friday, May 22, 2020

अजब गजब : छत पर उगाएं सब्जी 2 लाख तक हो सकती है इनकम

ajab gajab

नई दिल्ली। दुनिया भर में शहरों का विस्तार तेज होने से अर्बन फार्मिंग का चलन बढ़ता जा रहा है। छतों पर, पार्किंग में या फिर कहीं भी उपलब्ध सीमित जगह का इस्तेमाल अब सब्जियों की खेती में किया जा रहा है। ऐसा एक खास तकनीक के इस्तेमाल से संभव होता है। इसमें सिर्फ 200 वर्ग फुट जैसी छोटी जगह पर सब्जियां उगाई जा सकती हैं। जानकारी, सही सलाह से लगभग 1 लाख रुपए का वन टाइम खर्च से आप घर बैठे सालाना 2 लाख रुपए तक की सब्जियां उगा सकते हैं। इस तकनीक की खास बात यह है कि इसमें मिट्टी का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं होता है। इससे पौधों के लिए जरूरी पोषक तत्वों को पानी के सहारे सीधे पौधों की जड़ों तक पहुंचाया जाता है। तकनीक की भाषा में इसे हाइडन्न्पानिक्स कहा जाता है। हाइडन्न्पानिक्स एक तकनीक है और इसे अलग अलग तरह से इस्तेमाल में लाया जा सकता है। आप इस सिस्टम को अपने स्तर पर भी तैयार कर सकते हैं। वहीं इस क्षेत्र में काम कर रही कई कंपनियां भी आपको शौकिया गार्डन से लेकर कमर्शियल फार्म तक स्थापित करने में मदद कर सकती हैं। -इस बारे में हाइडन्न्पानिक्स कंपनी ‘हमारी कंपनी हमारी कृषि को स्थापित करने वाले अभिषेक शर्मा के मुताबिक ये तकनीक लोगों को रोजगार देने का अच्छा जरिए हो सकती है, क्योंकि परंपरागत कृषि के मुकाबले इसके मार्जिन बेहतर हैं। शर्मा के मुताबिक अगर कोई शख्स 10 टावर के जरिए 400 पडिं मे वर्तमान सलाद उगाता है, तो साल भर में हर पडिं आसानी से 5 किलो लेटिस का उत्पादन कर सकता है। यानी 400 पडिं से 2000 किलो सालाना तक लेटिस उग सकता है। फिलहाल लेटिस की कीमत भारत में 180 रुपए किलो है, शर्मा के मुताबिक अगर थोक में 100 रुपए किलो भी मिलते हैं तो अच्छी कंडीशन में साल में 2 लाख रुपए की उपज संभव है। – वहीं उनके मुताबिक आम स्थितियों में आप आसानी से एक साल में अपना निवेश निकाल सकते हैं। अगले साल रिटर्न ज्यादा होगा क्योकिं आपको सिर्फ रखरखाव, बीज और न्यूटिन्न्एंट का खर्च ही करना है। यानी आप अपनी छत के सिर्फ 150 से 200 वर्ग फुट के इस्तेमाल से एक साल में ही अपना एक लाख का निवेश निकाल कर लाभ में आ सकते हैं। इस तकनीक के जरिए नियंत्रित माहौल में खेती होती है, इसलिए अक्सर किसान हाइडन्न्पानिक्स की वजह से ऐसे सब्जियों का उत्पादन करते हैं जिसकी मार्केट कीमत ज्यादा होती है। इस तकनीक में पानी, फर्टिलाइजर और कीटनाशक की खपत भी 50 से 80 फीसदी तक घट जाती है। हमारी कृषि में छपे एक आर्टिकल के मुताबिक इस तकनीक से पैदावार 3 से 5 गुना तक बढ़ जाती है। – इस तकनीक में शुरुआती खर्च ज्यादा होता है। हालांकि बाद में लागत काफी कम होने से मुनाफ़ा बढ़ जाता है। नेट शेड या पलिंिहाउस की वजह से मौसम का असर इन फसलों पर काफी कम हो जाता है। इस तकनीक के जरिए या तो आप अपनी छत पर खुद के लिए ताजी अच्छी सब्जियां उगा सकते हैं। वहीं आप इसे अपने कारोबार में बदल सकते हैं। इस्राइल, दक्षिण अफ्रिकाऔर साउदी अरब जैसे देश जहां जगह या पानी की कमी है, वहां ये तकनीक सफल कारोबार में बदल चुकी है। इन देशों में किसान अपने घरों की छत के साथ साथ मलिं, आफिस की छतों पर गार्डन स्थापित कर रहे हैं।

Leave A Comment