Breaking News:

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

बढ़ सकती है आधार लिंक करने की आखिरी तारीख -

Thursday, December 7, 2017

अपर निदेशक सूचना ने दिवंगत पत्रकार की पत्नी को तीन लाख का चैक सौंपा -

Wednesday, December 6, 2017

तो इटली में विराट और अनुष्का बधेंगे शादी के बंधन में …! -

Wednesday, December 6, 2017

एबीवीपी ने मनाया सामाजिक समरसता दिवस -

Wednesday, December 6, 2017

सीएम ने मृतक होमगार्ड जवानों की पत्नियों को 5-5 लाख की धनराशि किये वितरित -

Wednesday, December 6, 2017

भीख मांगते मिली थी मेजर की बेटी, जानिए खबर -

Tuesday, December 5, 2017

17 दिसम्बर को आयोजित मैराथन में भाग जरूर ले , जानिये खबर -

Tuesday, December 5, 2017

अजब गजब : भारत में बसी थी दुनिया की पहली न्यूड कॉलोनी

nudist

यह जानकारी चौंका सकती है। शायद इस पर यकीन भी न हो। लेकिन यह सच है। दुनिया की पहली न्यूडिस्ट कॉलोनी भारत में स्थापित हुई थी। न्यूडिस्ट कॉलोनी यानी ऐसी जगह, जहां बिना कपड़ों के रहा जा सकता है। और यह भी आज की बात नहीं है। यह हुआ था लगभग 125 साल पहले, 1891 में। वर्ल्ड की पहली न्यूडिस्ट कॉलोनी स्थापित हुई थी, मुंबई के पास थाणे में। इस कॉलोनी का नाम था- द फेलोशिप ऑफ द नेकेड ट्रस्ट। इसके संस्थापक थे चार्ल्स एडवार्ड गॉर्डन क्रॉफर्ड। ब्रिटिश इंडिया में चार्ल्स डिस्ट्रिक्ट एंड सेशन जज थे। ‘गे गुरु’ कहे जाने वाले एडवर्ड कारपेंटर विक्टोरिया कालीन इंग्लैंड में कवि थे। गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर से उनकी दोस्ती थी। एडवर्ड को चार्ल्स द्वारा लिखे गए चार लैटर मिले थे, जिनमें चार्ल्स ने अपने पते में द फेलोशिप ऑफ नेकेड ट्रस्ट का उल्लेख किया था। यह न्यूडिस्ट क्लब बहुत छोटा था। इसके तीन मेम्बर थे चार्ल्स क्रॉफर्ड और एंड्रयू व केलॉग काल्डरवुड। चार्ल्स एक विधुर थे, जबकि एंड्रयू और काल्डरवुड एक मिशनरी के बेटे थे। बाद में एक महिला ने भी सदस्यता चाही थी, लेकिन वह कभी शामिल नहीं हुई।चार्ल्स क्रॉफर्ड ने अपने एक पत्र में लिखा था- हमने दो दिनों का हॉलीडे बिना कपड़ों के मनाया। हम सुबह ब्रेकफास्ट से रात तक ऐसे ही रहे। इस दौरान उन्होंने नौकरों को छुट्टी दे रखी थी। इसके एक साल के भीतर ही चार्ल्स ने एथेल नामक एक महिला से पुनर्विवाह कर लिया और रत्नागिरि चले गए। इस तरह न्यूडिस्ट कॉलोनी बंद हो गई।

Leave A Comment