Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

अज्ञात बीमारी से एक माह में छह लोगों की हो चुकी मौत,जानिए ख़बर

गोपेश्वर । चमोली जिले के गैरसैंण विकासखंड के मटकोट गांव में बीते एक माह से अज्ञात बीमारी (सिरदर्द, बुखार, कमजोरी) को लेकर ग्रामीण दहशत में हैं। बताया जा रहा हैै कि गांव में अब तक बीमारी से ग्रसित छह लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 50 से अधिक बीमार श्रीनगर और हल्द्वानी के अस्पतालों में भर्ती हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि चिकित्सा विभाग बीमारी की गंभीरता को नजरअंदाज कर रहा है। वहीं, चिकित्सकों का कहना है कि मरीजों में संक्रामक बीमारी के कोई लक्षण नहीं हैं, शिविरों के माध्यम से उपचार किया जा रहा है। गैरसैंण विकासखंड मुख्यालय से मात्र दस किमी दूरी पर स्थित मटकोट गांव में बीते एक माह से सन्नाटा पसरा है। ज्यादातर परिवारों में बीमारी के चलते बच्चे, युवा और बुजुर्ग बिस्तर पर पड़े हैं। गांव के संपन्न परिवार अपने परिजनों का उपचार बेस अस्पताल श्रीनगर और हल्द्वानी में करवा रहे हैं, लेकिन गरीब परिवार गैरसैंण अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं। जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र होने के बावजूद चिकित्सक और दवाइयों की कमी बनी हुई है। बीते माह में गांव में अज्ञात बीमारी से पीड़ित ज्वाला सिंह, मेहरबान सिंह, पारी देवी, विमला देवी, डुमली देवी सहित छह लोगों की मौत हो गई, जबकि धर्मा देवी हल्द्वानी बेस चिकित्सालय के आइसीयू में भर्ती है। बीमारी को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह गैर जिम्मेदार नजर आ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि दो हफ्ते पहले गांव में लगाए गए शिविर में कोई चिकित्सक मौजूद नहीं रहा, जबकि शनिवार को लगाया गया शिविर भी खानापूर्ति साबित हुआ। गांव से एक किमी दूर सड़क पर लगाए शिविर में ना ही किसी प्रकार की जांच की व्यवस्था थी और न ही कोई विशेषज्ञ चिकित्सक उपस्थित रहा। वर्तमान समय में 500 आबादी वाले गांव में 150 से अधिक बीमार बताए जा रहे हैं, जिन्हें उच्चस्तरीय उपचार की जरूरत है।

Leave A Comment