Breaking News:

अगर तैयारी पूरी थी तो परिणाम क्यों नहीं, जानिए खबर -

Wednesday, May 23, 2018

देश मे तापमान 40 डिग्री के पार, उत्तराखण्ड में अलर्ट -

Wednesday, May 23, 2018

स्वरोजगार से लगेगा पलायन पर अंकुश : मुख्यमंत्री -

Wednesday, May 23, 2018

दिल्ली सरकार ने 575 निजी स्कूलों को दिया बढ़ी फीस वापस करने का आदेश -

Wednesday, May 23, 2018

पीएम द्वारा चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के प्रगति की सराहना, जानिए ख़बर -

Wednesday, May 23, 2018

कुमारस्वामी बने कर्नाटक के सीएम, विपक्षी ने दिखाई एकता -

Wednesday, May 23, 2018

उत्तराखण्ड में होगी टी.वी. सीरियल स्पिलिट विला सीजन 11 की शूटिंग जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

कुमारस्वामी कल लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ -

Tuesday, May 22, 2018

हाईकोर्ट ने एकलपीठ के आदेश को किया रद्द, निकाय चुनाव कराने का रास्ता साफ -

Tuesday, May 22, 2018

फिल्म ‘सूरमा’ का नया पोस्टर रिलीज, फिल्म 13 जुलाई को होगी रिलीज -

Tuesday, May 22, 2018

एसबीआई का घाटा 7718 करोड़ पर पहुंचा जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने केदारनाथ धाम में 10 बैड के अस्पताल का किया उद्घाटन -

Monday, May 21, 2018

शराब दुकानों के आवंटन में करोड़ो का खेल : विकेश सिंह नेगी -

Monday, May 21, 2018

एक खतरनाक वायरस जो चमगादड़ से फैलता है जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

पुजारी ने सीएम नायडू पर लगाया 100 करोड़ के घोटाले का आरोप, जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

हरियाणा बोर्ड ने 10वीं का रिजल्‍ट जारी किया, 51% बच्‍चे पास -

Monday, May 21, 2018

आंध्र प्रदेश स्पेशल ट्रेन में ग्वालियर के पास 4 डिब्बों में लगी आग जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

भारत ने किया ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

उत्तराखंड पुलिस ने किया मांउण्ट एवरेस्ट फतह, मुख्यमंत्री ने दी बधाई -

Sunday, May 20, 2018

पीएम मोदी कल करेंगे राष्ट्रपति पुनित के साथ बैठक -

Sunday, May 20, 2018

अपने आक्रोश को बनाया अपना हथियार बनीं पैरा ऐथलीट चैंपियन

kanchan lakhani

कंचन लखानी ने अपने आक्रोश को अपना हथियार बना लिया। 4 सितंबर 2008 को हुए एक हादसे ने अचानक उनकी जिंदगी बदल कर रख दी। एक रेल हादसे में उनका हाथ कट गया और स्पाइनल इंजरी के चलते कमर से नीचे के हिस्से ने काम करना बंद कर दिया। इसके बाद वह निराशा में डूब गईं, उनके मन में आत्महत्या करने के खयाल आने लगे। एक दिन वह अपने जीवन के बारे में सोच रही थीं। उस समय उन्होंने अपने अवसाद से बाहर निकलकर अपनी तकदीर खुद लिखने का फैसला कर लिया। उन्होंने कड़े परिश्रम के बाद राष्ट्रीय स्तर की पैरा ऐथलीट बनकर 2017 में उन्होंने राष्ट्रीय पैरा ऐथलेटिक्स चैंपियनशिप में तीन स्वर्ण पदक जीते। जिसे दुनिया कमजोरी समझती थी, उसे उन्होंने चुनौती के तौर पर लिया और दुनिया के सामने एक उदाहरण बनकर सामने आईं। कंचन लखानी के मुताबिक 2008 से पहले वह रावल इंटरनैशनल स्कूल में प्राथमिक कक्षा के बच्चों को पढ़ाती थीं, लेकिन निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर हुए एक हादसे ने उनकी जिंदगी पूरी तरह से बदल दी। हादसे में उन्होंने अपना एक हाथ खो दिया। स्पाइनल इंजरी की वजह से कमर के निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया। जब होश आया तो उन्होंने खुद को हॉस्पिटल में पाया। जब पता लगा कि पूरी जिंदगी वीलचेयर पर रहना पड़ेगा तो वह अवसाद का शिकार हो गईं। अस्पताल से जब वह घर पहुंचीं तो अंदर से पूरी तरह टूट चुकी थीं। जब भी वीलचेयर पर बैठाया जाता था तो वह रोने लगतीं। कंचन ने बताया, ‘मैंने करीब 5-6 साल तक अपने आप को एक कमरे में एक तरह से बंद रखा और बहुत कम समय ही परिवार के साथ बिताती थी। बाहर से मिलने के लिए आने वाले लोग व रिश्तेदार तरह-तरह की बात करते थे और सहानुभूति जताते, जो मुझे तानों की तरह चुभते थे, लेकिन परिवार ने मेरा साथ नहीं छोड़ा और हिम्मत बढ़ाते रहे। काफी साल बीतने पर सोचा कि ऐसी ही रोती रहूंगी तो जिंदगी काटना मुश्किल होगा और डिप्रेशन से निकलने के प्रयास शुरू कर दिए। खुद को चुनौती दी और ऐसा करने की ठानी जिससे दुनिया मुझे जान सके।’ इसके बाद धीरे-धीरे उन्होंने गरीब बच्चों को पढ़ाना शुरू करने के साथ ही कविताएं लिखना शुरू किया और फैशन शो में भी भाग लिया। कंचन ने बताया कि उन्होंने आत्मचिंतन के बाद भविष्य में आने वाली परेशानियों का सामना करने के लिए खुद को तैयार किया। सामाजिक कार्यों में हिस्सा लेने के लिए मिशन जागृति से जुड़ीं और स्कूलों में जाकर बच्चों को जागरूक करने के साथ ही स्वच्छ भारत, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, पर्यावरण बचाओ जैसे अभियानों का भी हिस्सा बनीं। कंचन कहती हैं कि जिसे दुनिया ‘सामान्य’ होना कहती है, उस जिंदगी में शायद यह उपलब्धियां नहीं मिलतीं, लेकिन रेल हादसे में जीवन को नई दिशा दी और बताया कि कैसे बेफिकर होकर जीते हुए अपने मुकाम को हासिल किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि 2020 में पैरा ओलिंपिक होने वाले हैं। उसमें हिस्सा लेकर देश के लिए स्वर्ण पदक जीतना कंचन का ख्वाब है।

Leave A Comment