Breaking News:

सरकार ने मानी आयुर्वेदिक कालेजों के आन्दोलनरत छात्रों की माँग, जानिए खबर -

Thursday, November 21, 2019

बैंक शाखाओं में कार्य का समय 10 बजे से 4 बजे तक -

Thursday, November 21, 2019

फिल्म हब के रूप में तेजी से विकसित हो रहा उत्तराखंड: डॉ बिष्ट -

Thursday, November 21, 2019

जरा हट के : महिलाओं को दिया जा रहा ऐपण आर्ट का प्रशिक्षण -

Thursday, November 21, 2019

अवैध निर्माणों पर एमडीडीए हुआ सख्त, जानिए खबर -

Thursday, November 21, 2019

शूट की जा रही फिल्म ‘‘सौम्या गणेश‘‘ का सीएम त्रिवेंद्र ने मुहूर्त शॉट लिया -

Thursday, November 21, 2019

गोवा : अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शुभारंभ, विशेष सत्र में उत्तराखंड को स्थान -

Wednesday, November 20, 2019

शिक्षकों की कमी से प्रभावित हो रही छात्रों की पढ़ाई, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

सिपाही को ट्रैक्टर से कुचलने वाले आरोपी चालक गिरफ्तार -

Wednesday, November 20, 2019

मिस रेडिएंट स्किन और मिस ब्यूटीफुल हेयर उप प्रतियोगिताओं का आयोजन, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

कोटद्वार में मुख्यमंत्री ने मुस्लिम योग शिविर का किया उद्घाटन -

Wednesday, November 20, 2019

उत्तराखंड : महसूस हुए भूकंप के झटके -

Tuesday, November 19, 2019

उत्तराखण्ड : समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल निलंबित -

Tuesday, November 19, 2019

मैट्रो से नही दून-ऋषिकेश व हरिद्वार को मिनी मैट्रो से जोड़ा जायेगा -

Tuesday, November 19, 2019

भोजपुरी फिल्म प्रोड्यूसर एवं फिल्म निर्देशक सीएम से की भेंट -

Tuesday, November 19, 2019

केदारनाथ परिसर में बनेगा भगवान शिव की पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाओं का नया संग्रहालय, जानिए खबर -

Tuesday, November 19, 2019

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

अब नहीं रही दबंग महिला आईएएस अफसर ,जानिये क्यों

IAS

यूपी की एक महिला आईएएस अफसर ने अपनी 18 साल पुरानी आपबीती सुनाई है। इसमें उन्होंने बताया कि कैसे एक एमएलए ने उन्हें ठंडा करने की कोशिश की। जब इसकी शिकायत उन्होंने अपने पर के अफसरों से की तो भी उन्हीं पर दबाव बनाया गया और इसके बाद नोटिस जारी कर उनका तबादला कर दिया गया। अफसर का कहना है कि अब वो भी मजे में हैं। सचिवालय में कुर्सी तोड़ती हैं और बच्चों पर ध्यान देती हैं। दरअसल, एक गुमनाम आईडी से ये कहानी कोरा पर पोस्ट की गई है। कोरा एक सोशल मीडिया प्लेटफर्मिं है, जहां लोग सवाल-जवाब की शक्ल में संवाद करते हैं। कोरा पर ये कहानी इंग्लिंश में पोस्ट की गई है। इस पोस्ट को 11 मार्च यानी यूपी चुनाव के नतीजों से पहले डाला गया है, जिसमें 23 मार्च तक अपडेशन हुआ है। पोस्ट में लिखा है- ’मैं एक महिला आईएएस अफसर हूं। सुनते ही दिमाग में ताकतवर अफसर की तस्वीर बन रही होगी, लेकिन ये सच नहीं है। मैं दबंग नहीं हूं। या कहूं कि अब नहीं रही। 18 साल पहले मुझे ठीक कर दिया गया था। ये उसी वाकये की कहानी है, जिसमें अब कुछ नया जुड़ने जा रहा है।’ ’1999 में यूपी के एक जिले में बतौर एसडीएम मेरा अप्वाइंटमेंट हुआ। वहां रूलिंग पार्टी का युवा एमएलए था। उसकी उम्र करीब 30 साल थी। वो पढ़ा-लिखा भी था। चुनाव आयोग को दिए शपथ-पत्र में उसने खुद को दिल्ली यूनिर्विसिटी का ग्रेजुएट बताया था। वह बैकवर्ड कास्ट से था। यहां कास्ट का जिक्र करना जरूरी है, क्योंकि ये यूपी है। विधायक के पापा भी जिले के जाने-माने नेता थे। उसकी मां जिला पंचायत की अध्यक्ष थीं।’ ’एक बार एमएलए के सपोर्टर मेरे कार्यालय तहसील में प्रोटेस्ट कर रहे थे। इसकी वजह उनके आर्म्स, शराब और खनन के लाइसेंस के काम में देरी होना था। मैंने उनसे कहा कि मामला उच्च अफसरों के पास चला गया है और इस मामले पर फाइनल डिसीजन उनका ही होगा। इस पर उन्होंने मेरी मेज से फाइलें उठाकर फेंक दीं। पेपरवेट फेंक दिए। क्लर्क और बाकी स्टाफ को बुरी तरह पीट दिया। मैंने उन लोगों को डांटते हुए कहा कि इन हरकतों का अंजाम बुरा होगा, लेकिन उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया।’

Leave A Comment