Breaking News:

दुःखद : सीएम के ओएसडी गोपाल रावत का कोरोना के चलते निधन -

Tuesday, September 22, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 42651, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सराहनीय कार्य : जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा सामाग्री किये वितरित -

Tuesday, September 22, 2020

बेटी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र एवं वन मंत्री ने ‘आनन्द वन’ का किया लोकापर्ण -

Tuesday, September 22, 2020

महाआरती का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में न हो विलम्ब : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र -

Tuesday, September 22, 2020

राज कम्युनिकेशन के सफलतापूर्वक 15 वर्ष हुए पूरे, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज प्रदेश में मिले 814 कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

IPL : भारतीय खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर उठ रहे सवाल -

Monday, September 21, 2020

अनुराग-पायल केस में कंगना के बयान से खलबली, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने थानो में एग्री बिजनेस ग्रोथ सेंटर का किया लोकार्पण -

Monday, September 21, 2020

केदारनाथ आपदा : सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज देहरादून में चार सौ से अधिक कोरोना मरीज मिले, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

कोरोना महामारी मे मदद का हाथ बढ़ा रहे विरेन्द्र सिंह रावत -

Sunday, September 20, 2020

देहरादून स्थित सभी कोर्ट एक ही परिसर में स्थापित हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, September 20, 2020

चीन को खुफिया जानकारी देने पर पत्रकार समेत तीन गिरफ्तार -

Sunday, September 20, 2020

उत्तराखंड कांग्रेस ने एक सप्ताह तक के सभी सार्वजनिक कार्यक्रम किये रद्द -

Sunday, September 20, 2020

ब्रांडेड कपड़े के नाम पर नकली माल, रहे सावधान, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

भारत में खेल प्रेमियों के लिए आने वाला समय उत्साहजनक -

Sunday, September 20, 2020

अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गईः सीएम त्रिवेन्द्र

देहरादून । मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सी.आई.आई. द्वारा आयोजित उत्तर भारत वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि कोरोना महामारी से भारत ही नहीं बल्कि विश्व की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। देश में औद्योगिक गतिरोध उत्पन्न हुआ है, इस कान्फ्रेंस से नई आशा एवं विश्वास का संचार होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 22 मार्च से प्रदेश में लॉक डाउन हो गया था। प्रदेशवासियों एवं उद्योग जगत ने संयम से लॉक डाउन का पालन किया है। उत्तराखंड में अभी तक कोरोना के 51 पाजिटिव मामले आए हैं, जिसमें से 33 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। उत्तराखंड के पर्वतीय जिले कोरोना के प्रभाव से मुक्त हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सी.आई.आई. समाज के सक्षम वर्ग का प्रतिनिधित्व करता है और ऐसे समय में सी.आई.आई अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन सरकार के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर कर रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में सी.आई.आई. की राज्य ईकाई निरन्तर राज्य सरकार के सम्पर्क में रही है। मुख्यमंत्री राहत कोष में भी उद्योग जगत के प्रतिनिधियों ने अहम योगदान दिया है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि भारत सरकार के आदेश के बाद राज्य में उद्यमियों की सुविधा के लिए उद्योग के संचालन की अनुमति हेतु एकल खिड़की की व्यवस्था की गई है। इस व्यवस्था के माध्यम से 20 अप्रैल से अभी तक 1171 उद्योगों को संचालन की अनुमति दी गई है। लॉक डाउन की अवधि में कोविड-19 से सुरक्षा हेतु आवश्यक उपायों के दृष्टिगत आवश्यक वस्तुओं का उत्पादन करने वाली ईकाइयों को बंदी से मुक्त रखा गया है। राज्य में फार्मा तथा खाद्य पदार्थ उत्पादन की 1884 ईकाइयों के संचालन की अनुमति दी गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आई.टी.सी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, नेस्ले, ब्रिटानिया व डाबर जैसे बड़े उद्योग अपना उत्पादन प्रारम्भ कर चुके हैं। ऑटो सेक्टर की टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, अशोका ली लैंड व महिन्द्रा ने भी उत्पादन प्रारम्भ कराने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। कोविड-19 आपदा से राज्य की आर्थिकी पर पड़ रहे दुष्प्रभावों के निराकरण के लिए प्रदेश की आर्थिकी को सुदृढ़ करने के विभिन्न उपायों एवं विकल्पों का त्वरित अध्ययन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए सेवानिवृत्त आई.ए.एस अधिकारी इन्दु कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सिडकुल औद्योगिक क्षेत्रों में लीज, रेंट के भुगतान की अन्तिम तिथि 30 अप्रैल 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 तक विस्तारित किया गया है। लम्बित जल संयोजन, उपयोग प्रभार, सीवर शुल्क आदि भुगतान करने की तिथि 31 मई 2020 तक, जल एवं वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम के तहत सहमति के स्वतः नवीनीकरण की तिथि 30 जून 2020 तक बढ़ाई गई है। इसके अलावा भवन एवं अन्य निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को 2-2 हजार रूपये की वित्तीय सहायता दी गई है। मार्च से मई 2020 तक औद्योगिक और वाणिज्यिक श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं से फिक्स्ड डिमाण्ड चार्ज के भुगतान में आस्थगन की सुविधा तथा विलम्ब से बिलों के भुगतान में लेट सरचार्ज में छूट एवं लॉक डाउन के दौरान विद्युत बिल भुगतान करने में असमर्थ रहने पर विद्युत संयोजन काटने पर रोक लगाई है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव उद्योग मनीषा पंवार एवं उद्योग निदेशक सुधीर नौटियाल भी उपस्थित थे।

Leave A Comment