Breaking News:

उत्तराखंड : निकाय चुनाव का मतदान 18 नवंबर को -

Monday, October 15, 2018

व्यंग्यः कितना दर्द दिया मीटू के टीटू ने…..! -

Monday, October 15, 2018

टिहरी गढ़वाल के बंगसील स्कूल में सफाई अभियान की अनोखी पहल -

Monday, October 15, 2018

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

राज्यपाल ने किया पंतनगर विश्वविद्यालय एवं जी.जी.आई.सी.का भ्रमण -

Saturday, October 13, 2018

मिस बॉलीवुड के लिए कॉम्पीटिशन का आयोजन -

Saturday, October 13, 2018

उद्यमी के घर पर भीड़ ने किया हमला -

Saturday, October 13, 2018

उत्तराखण्ड व हरियाणा के मध्य जल्द बहुद्देशीय परियोजनाओं के सम्बन्ध में एमओयू -

Saturday, October 13, 2018

दो दशक के बाद भारत और चीन के बीच फुटबॉल मैच -

Saturday, October 13, 2018

14 अक्टूबर को हाम्रो दशैं कार्यक्रम का भव्य आयोजन -

Friday, October 12, 2018

अस्पताल की लापरवाही से एक नवजात हो जाता जिंदा दफन , जानिए ख़बर

newborn-baby

नई दिल्ली। दिल्ली के एक नामचीन अस्पताल की लापरवाही की वजह से एक नवजात को जिंदा दफन कर दिया जाता। अस्पताल ने नवजात को मृत घोषित करके परिजनों को सौंप दिया। मगर दफनाते समय नवजात के शरीर में हलचल होने पर परिजनों को उसके जिंदा होने का पता चला। पीड़ित परिजनों ने तुरंत सौ नंबर पर कॉल कर घटना की सूचना पुलिस को दी। वहीं, अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि महिला का प्रसव नहीं, बल्कि गर्भपात हुआ था। ऐसे मामलों में अक्सर बच्चों की मौत हो जाती है। मामले की जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। पीड़ित पिता रोहित ने बताया कि उन्होंने पत्नी को रविवार सुबह पेट दर्द की शिकायत के बाद सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया था। सुबह करीब सवा पांच बजे उन्हें डॉक्टरों ने बताया कि पत्नी को अविकसित बच्च पैदा हुआ है। बच्चे का वजन पांच सौ ग्राम से कम है और वह मृत है। इसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें बच्च सौंप दिया। सुबह करीब आठ बजे नवजात को दफनाते समय रोहित को उसके शरीर में कुछ हरकत दिखी। इसके बाद जब उन्होंने नवजात को पॉलीथिन से बाहर निकालकर देखा तो उसकी सांसें चल रही थीं। रोहित ने तुरंत सौ नंबर पर कॉल करके घटना के बारे में पुलिस को बताया। सफदरजंग अस्पताल के ी रोग विभाग की प्रमुख डॉ. प्रीतिमा मित्तल ने बताया कि महिला का प्रसव नहीं , बल्कि गर्भपात हुआ था। बच्च साढ़े चार से पांच महीने का था और उसका वजन पांच सौ ग्राम से कम था, ऐसे में अक्सर बच्चे की मौत हो जाती है। अस्पताल के डॉक्टरों ने नवजात को मृत घोषित करने से पहले उसका चिकित्सीय परीक्षण किया था नहीं? इसकी जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। साथ ही इस मामले से जुड़े अन्य पहलुओं की भी जांच की जाएगी। पीड़ित परिजनों ने बताया कि नवजात के जिंदा होने की सूचना मिलने के बाद अस्पताल प्रबंधन ने उसे नर्सरी में दाखिल करा दिया है, जहां उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। नवजात की सेहत पर सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों की विशेष टीम नजर रख रही है। दक्षिणी दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले में पुलिस को पीड़ित परिवार द्वारा की गई पीसीआर कॉल के अलावा कोई लिखित शिकायत अभी तक नहीं मिली है। शिकायत मिलने के साथ ही इस मामले की जांच शुरू कर दी जाएगी। पुलिस ने अभी तक अस्पताल प्रबंधन से भी संपर्क नहीं किया है।

Leave A Comment