Breaking News:

भारती एक्सा एवं एयरटेल पेमेंट बैंक में गठजोड़, जानिये खबर -

Saturday, August 18, 2018

केरल को उत्तराखण्ड देगा 5 करोड़ का आर्थिक सहयोगः मुख्यमंत्री -

Saturday, August 18, 2018

एशियाड खेल : ओलिंपिक पदक विजेता लिएंडर पेस ने खेलने से किया इनकार -

Saturday, August 18, 2018

हरकी पैड़ी पर विसर्जित किया जाएगा पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थिया -

Saturday, August 18, 2018

बेनाप भूमि पर किसानों को मिलेगा मालिकाना हक, जानिये खबर -

Saturday, August 18, 2018

पूर्व पीएम अटल की अंतिम यात्रा में शामिल हुए सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, August 17, 2018

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी हुए पंचतत्व में विलीन, पुत्री ने दी मुखाग्नि -

Friday, August 17, 2018

पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी को उत्तराखंड से विशेष था विशेष लगाव, जानिए खबर -

Friday, August 17, 2018

20 नवंबर को एक दूजे के होंगे रणवीर-दीपिका जानिए खबर -

Friday, August 17, 2018

फेक आईडी के प्रति रहें सचेतः डीआईजी -

Thursday, August 16, 2018

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर सीएम त्रिवेंद्र की श्रद्धांजलि -

Thursday, August 16, 2018

एशियन गेम्स : भारत ने भेजे 571 खिलाड़ी, जानिए खबर -

Thursday, August 16, 2018

नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी -

Thursday, August 16, 2018

कंगना की ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी लुक -

Thursday, August 16, 2018

राज्य हित में टीम भावना से काम किए जाने की आवश्यकता: मुख्यमंत्री -

Wednesday, August 15, 2018

एक-दूसरे के पति को किडनी देकर दो महिलाओं ने की मदद ,जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

देहरादून देश के दस शीर्ष रेलवे स्टेशनों की सूची में , जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के न्यू इंडिया के सपने को करना है साकार : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 15, 2018

प्रदेश में हरेला पर्व हो सरकारी तौर पर आयोजित -

Wednesday, August 15, 2018

पत्रकार चारूचन्द के स्वास्थ्य का हाल जानने पहुंचे महानिदेशक सूचना दीपेन्द्र चौधरी एवं मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट -

Tuesday, August 14, 2018

अस्पताल की लापरवाही से एक नवजात हो जाता जिंदा दफन , जानिए ख़बर

newborn-baby

नई दिल्ली। दिल्ली के एक नामचीन अस्पताल की लापरवाही की वजह से एक नवजात को जिंदा दफन कर दिया जाता। अस्पताल ने नवजात को मृत घोषित करके परिजनों को सौंप दिया। मगर दफनाते समय नवजात के शरीर में हलचल होने पर परिजनों को उसके जिंदा होने का पता चला। पीड़ित परिजनों ने तुरंत सौ नंबर पर कॉल कर घटना की सूचना पुलिस को दी। वहीं, अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि महिला का प्रसव नहीं, बल्कि गर्भपात हुआ था। ऐसे मामलों में अक्सर बच्चों की मौत हो जाती है। मामले की जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। पीड़ित पिता रोहित ने बताया कि उन्होंने पत्नी को रविवार सुबह पेट दर्द की शिकायत के बाद सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया था। सुबह करीब सवा पांच बजे उन्हें डॉक्टरों ने बताया कि पत्नी को अविकसित बच्च पैदा हुआ है। बच्चे का वजन पांच सौ ग्राम से कम है और वह मृत है। इसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें बच्च सौंप दिया। सुबह करीब आठ बजे नवजात को दफनाते समय रोहित को उसके शरीर में कुछ हरकत दिखी। इसके बाद जब उन्होंने नवजात को पॉलीथिन से बाहर निकालकर देखा तो उसकी सांसें चल रही थीं। रोहित ने तुरंत सौ नंबर पर कॉल करके घटना के बारे में पुलिस को बताया। सफदरजंग अस्पताल के ी रोग विभाग की प्रमुख डॉ. प्रीतिमा मित्तल ने बताया कि महिला का प्रसव नहीं , बल्कि गर्भपात हुआ था। बच्च साढ़े चार से पांच महीने का था और उसका वजन पांच सौ ग्राम से कम था, ऐसे में अक्सर बच्चे की मौत हो जाती है। अस्पताल के डॉक्टरों ने नवजात को मृत घोषित करने से पहले उसका चिकित्सीय परीक्षण किया था नहीं? इसकी जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। साथ ही इस मामले से जुड़े अन्य पहलुओं की भी जांच की जाएगी। पीड़ित परिजनों ने बताया कि नवजात के जिंदा होने की सूचना मिलने के बाद अस्पताल प्रबंधन ने उसे नर्सरी में दाखिल करा दिया है, जहां उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। नवजात की सेहत पर सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों की विशेष टीम नजर रख रही है। दक्षिणी दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले में पुलिस को पीड़ित परिवार द्वारा की गई पीसीआर कॉल के अलावा कोई लिखित शिकायत अभी तक नहीं मिली है। शिकायत मिलने के साथ ही इस मामले की जांच शुरू कर दी जाएगी। पुलिस ने अभी तक अस्पताल प्रबंधन से भी संपर्क नहीं किया है।

Leave A Comment