Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया जनता से संवाद, जानिए खबर -

Sunday, May 31, 2020

प्रदेश में खेती को व्यावसायिक सोच के साथ करने की आवश्यकताः सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, May 31, 2020

अनलॉक के रूप में लॉकडाउन , जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 749 -

Saturday, May 30, 2020

रहा है भारतीय पत्रकारिता का अपना एक गौरवशाली इतिहास -

Saturday, May 30, 2020

पहचान : फ्री ऑन लाइन कोचिंग दे रहे फुटबाल कोच विरेन्द्र सिंह रावत, जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

एक वर्ष की सफलता ने प्रधानमंत्री मोदी को बनाया विश्व नेता : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, May 30, 2020

श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली के आयोजन स्थलों पर पौधारोपण होगा : नैथानी -

Friday, May 29, 2020

हरेला पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगाः सीएम -

Friday, May 29, 2020

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन -

Friday, May 29, 2020

अस्पताल के मुख्य गेट पर तफड़ता रहा मरीज

hospital-haridwar

हरिद्वार। जिला अस्पताल के मुख्य गेट पर एक वृद्ध उपचार के लिए तड़फता रहा, लेकिन किसी भी चिकित्सक व कर्मी की नजर उसपर नहीं पड़ी। जबकि वहां पहुंचने वाले मरीज तड़फते मरीज को देखकर वहां के कर्मियों की मानवता की चर्चा जरूर करते देखे गये। जिला अस्पताल के मुख्य गेट पर सुबह से एक वृद्ध को उपचार के लिए तड़फता रहा। मगर किसी ने भी उसकी कोई सुध नहीं ली। ऐसा नहीं कि उसपर किसी चिकित्सक व कर्मी की नजर नहीं पड़ी। लेकिन किसी ने उस गरीब की दशा व परिस्थितियों की ओर कोई ध्यान नहीं दिया। जिसको देखकर लगा कि वहां पर कार्यरत कर्मियों में मानवता मर चुकी है। बताया जा रहा हैं कि अस्पताल में पहुंचने वाले हर शक्स ने इस मामले की जानकारी वहां कार्यरत कर्मियों को दी। मगर उन्होंने उपचार के लिए तड़फते वृद्ध को अस्पताल के भीतर ले जाकर उसे भर्ती करने की जहमत नहीं उठायी। आरोप हैं कि एक मरीज ने जब एक चिकित्सक को इस मामले की जानकारी दी तो उसको जो जबाव चिकित्सक से मिला उसको चिकित्सक से उम्मीद नही थी। चिकित्सक ने कहा यदि उसको दर्द हो रहा हैं तो खुद उठाकर भर्ती कर दे। वरना अपना काम करे, हमें ना बताये कि हमें क्या करना है। एक चिकित्सक से ऐसा जबाब मिलने की उम्मीद उसको नहीं थी इसलिए वह जिला अस्पताल के चिकित्सकों व कर्मियों को कोसते हुए वहां से चला गया। ऐसा यह कोई पहला मामला नहीं हैं इससे पूर्व भी कई ऐसे मामले प्रकाश में आये है। जोकि उपचार के अभाव में जिला अस्पताल के मेन गेट पर ही गरीब मरीज दम तोड़ चुके है।

Leave A Comment