Breaking News:

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

मीका सिंह को छेड़छाड़ मामले में कोर्ट में पेश किए जाएंगे -

Friday, December 7, 2018

सड़क पर बच्चे का जन्म, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गन्ना किसानों का बकाया भुगतान जल्द, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

फैशन में करियर की अपार संभावनाएंः पूर्व मिस इंडिया इको ख्याती -

Thursday, December 6, 2018

उत्तराखंड : 1111 पुरूष व महिला होमगार्डस की नई भर्तियां जल्द -

Thursday, December 6, 2018

उत्तराखंड : जिलाधिकारियों के पाले में केदारनाथ फिल्म की रिलीज -

Thursday, December 6, 2018

गौतम गंभीर कोटला पर आखिरी बार थामेंगे बल्ला -

Thursday, December 6, 2018

आँखों में आंसू लिए अपने हक की लड़ाई लड़ रही शीला रावत, जानिए खबर

देहरादून | देहरादून निवासी शीला रावत संयम स्वभाव एवं जरूरतमंद बच्चो के शिक्षा के प्रति गंम्भीर रहने वाली आज अपने उस हक के लिए आवाज उठा रही है जो सात साल से एक संस्था के लिए अपना कर्म दिया पर उनके उस कर्म का ईनाम संस्था द्वारा नौकरी से निकाल के दिया है जी हां यह यह बयान दिया है यूसैक देहरादून में कार्यरत रही शीला रावत ने | विदित हो यूसैक द्वारा बिना कारण बताये, 7 साल से नियमित रूप से कार्य कर रही शीला रावत को अचानक बाहर का रास्ता दिखा दिया। कारण जानने कार्यालय पहुंची तो, गेट में भीतर से ताला जड़ा हुवा था। विदित हो की पिछले करीब दो माह से अपने अधिकारों के प्रति अकेली लड़ती आ रही शीला को आज विवश हो, कार्यालय के बाहर धरने पर बैठना पड़ा है । यही नहीं अपनी पीड़ा मीडिया , सोशल मीडिया /व्यक्तिगत रूप से बयां की तो विभिन्न सामाजिक/राजनितिक संगठनों से जुड़े लोग उनका समर्थन कर रहे है । इस विषय पर जब शीला रावत से विस्तृत जानकारी माँगी गयी तो उन्होंने कहा की मई इस संस्था में संविदा पर कार्यरत थी लेकिन कुछ समय पहले नए निदेशक नियुक्त होने के बाद संस्था निदेशक द्वारा हमे कार्यमुक्त कर दिया गया जब की इसी संविदा पर कुछ और भी लोग भी कार्यकर्त थे पर उनको नहीं हटाया गया मेरे आवाज उठाने पर टेक्निकल गलत न हो इस पर अब उन सभी संविदा पद को हटा दिया गया |

Leave A Comment