Breaking News:

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

पहल : तीन बेटियों ने डेढ़ सौ परिवारों के पास घर-घर पहुंचाया खाने का सामान -

Thursday, April 2, 2020

हम सब उत्तराखंड पुलिस को सहयोग करे: दीपक सक्सेना -

Thursday, April 2, 2020

लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Thursday, April 2, 2020

डीडी उत्तराखंड का प्रसारण 24 घंटे का हुआ -

Wednesday, April 1, 2020

फेक न्यूज या गलत जानकारी देने पर प्रशासन द्वारा होगी कानूनी कार्रवाई -

Wednesday, April 1, 2020

लाकडाऊन के दौरान रखे संयम: पीआरएसआई देहरादून चैप्टर -

Wednesday, April 1, 2020

लॉकडाउन : डीएम के आदेश को रखा ठेंगे पर, जानिए खबर -

Wednesday, April 1, 2020

मुंबई की सड़कों पर खाना बाँटते नज़र आये अली फजल, जानिए कैसे -

Wednesday, April 1, 2020

आंखों के आगे अंधेरा लेकिन छात्रों में ज्ञान का प्रकाश फैला रहे ब्रजभूषण

ak alag pehchan

बेगूसराय | दूसराें को ज्ञान रूपी प्रकाश को प्रकाशित करने का कार्य शिक्षक द्वारा किया जाता है जी हां, लेकिन एक ऐसे शिक्षक हैं बरौनी-एक पंचायत स्थित मध्य विद्यालय के सहायक शिक्षक ब्रजभूषण सिंह। खुद देख नहीं सकते, इनके जीवन में आंखों के आगे हमेशा अंधेरा है, लेकिन छात्रों में ज्ञान का प्रकाश फैला रहे हैं। ब्रजभूषण सिंह को वर्ग कक्ष में जाने के लिए किसी सहारे की जरूरत नहीं होती है। बेंत की छड़ी उनकी हर राह को आसान बना देती है। बिहार विभाजन से पूर्व 1982 में पूरे राज्य भर में विकलांगता वर्ष मनाया गया था। उसी दौरान तत्कालीन बिहार सरकार के आदेश पर 40 प्रतिशत दृष्टि क्षमता वाले अंध विकलांगों की सरकारी सेवा में नियुक्ति की गई थी। ब्रजभूषण सिंह की धनबाद में 25 जुलाई, 1982 को शिक्षक पद पर नियुक्ति की गई। 1994 में जिला स्थानांतरण के तहत इनकी प्रतिनियुक्ति बेगूसराय जिले के बरौनी 01 पंचायत स्थित मध्य विद्यालय बरौनी 01 में हुई थी। शिक्षक सिंह काफी सरल एवं सहज ढंग से पढ़ाते हैं यह बात बोलते नहीं थकते है उनके पढ़ाये हुए छात्र । वह जो भी पढ़ाते हैं, वह उन्हें याद रहता हैं।

 

 

Leave A Comment