Breaking News:

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

आखिर कहा नवजात बच्चों को मिलती है ग्रेजुएशन, जानिए खबर

ajab-gajab

अजब गजब खबरों में यह खबर चौकाने वाला है जी हां ,अमेरिका के गैस्टोनिया में एक ऐसा अस्पताल है, जहां पर पैदा होनेवाला हर नवजात बच्चा अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री लेकर घर जाता है. जानकारी हो की अमेरिका के गैस्टोनिया प्रांत के कैरोमॉन्ट रीजनल मेडिकल सेंटर में जब नवजात बच्चे पूरी तरह से स्वस्थ्य होकर आईसीयू से अपने घर जाते हैं, उस उपरान्त अस्पताल का स्टाफ उस बच्चे की स्वस्थ्य जिंदगी के लिए और माता-पिता को नॉर्मल फिल कराने के लिए ग्रेजुएशन सेरेमनी रखते हैं. इसके पीछे अस्पताल का मानना है कि कोई भी नवजात बच्चा, जो अपनी जिंदगी की शुरूआत आईसीयू से करते हैं, तो वह बच्चा और उसके माता-पिता बहुत परेशानी झेलते हैं, ऐसे में बच्चे को एहसास के साथ उनके माता-पिता को भी साहस देने के लिए ऐसा आयोजन किया जाता है. अस्पताल का मानना है कि बच्चे को तो यह मालूम नहीं होता है कि वह जिंदगी और मौत से लड़ रहा है, वहीं बच्चे के आईसीयू में होने के कारण मां-बाप भी काफी सदमे से गुजरते हैं.

Leave A Comment