Breaking News:

एक साथ एक समय चुनाव करवाने से धन, ऊर्जा व समय की होगी बचतः सीएम -

Sunday, September 23, 2018

जिलाधिकरी मंगेश घिल्डियाल चन्द्रशिला से तुंगनाथ धाम तक की साफ सफाई -

Sunday, September 23, 2018

मुंबई के एक शख्स ने एक ही लड़की की दो बार बचाई जान , जानिए खबर -

Sunday, September 23, 2018

रणवीर-दीपिका को टालनी पड़ी अपनी शादी,जानिए खबर -

Sunday, September 23, 2018

रमेश सिप्पी, शर्मन जोशी ने छात्रों से की खास मुलाकात , जानिये खबर -

Sunday, September 23, 2018

राज्यपाल ने की ‘ज्ञान कुंभ’ की तैयारियों की समीक्षा की -

Saturday, September 22, 2018

यात्री वाहन खाई में पलटा, 13 की मौत -

Saturday, September 22, 2018

ई हेल्थ-सेवा डेशबोर्ड का सीएम ने शुभारम्भ किया -

Saturday, September 22, 2018

मिस उत्तराखंड प्रतियोगिता “फस्ट लुक” आयोजित -

Saturday, September 22, 2018

सीएम ने किया ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान के तहत श्रमदान -

Saturday, September 22, 2018

जल्द नजर आएंगे विराट कोहली बड़े पर्दे,जानिए खबर -

Saturday, September 22, 2018

30 साल से बिना वेतन के संभालते हैं गंगाराम जी ट्रैफिक, जानिए खबर -

Saturday, September 22, 2018

रमेश सिप्पी को भा गई दून की वादियां, उत्तराखंड फिल्म इंडस्ट्री का भविष्य -

Saturday, September 22, 2018

रोटी डे क्लब 23 सितंबर को मनाएगा रोटी दिवस महोत्सव -

Friday, September 21, 2018

शौचालयों के संबंध में कैग की रिपोर्ट पर निदेशक की स्पष्टीकरण , जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

उत्तराखंड : सदन में पटल पर रखी गई कैग की रिपोर्ट -

Friday, September 21, 2018

पर्यटन स्थलों को स्वच्छ रखना सभी की सामूहिक जिम्मेदारीः राज्यपाल -

Friday, September 21, 2018

डीएम मंगेश घिल्डियाल राइंका खेड़ाखाल में जाकर बच्चों को पढ़ाया -

Friday, September 21, 2018

Asia Cup 2018: भारत-पाकिस्तान के बीच फिर होगा मुकाबला, जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

इस साल दो पीढ़ियों ने एक साथ बनाया गणेशोत्सव और मुहर्रम -

Friday, September 21, 2018

आखिर कैसे बदली गांव की सूरत, जानिये ख़बर ..

village-make

पहली नजर में इन तस्वीरों को देखने के बाद आपको यही लगेगा की ये पेंटिंग्स हैं। लेकिन आपको बता दें कि ये कोई पेंटिंग नहीं बल्कि इंडोनेशिया का एक खूबसूरत गांव है, जिसकी शकल- सूरत बदलने के पीछे एक प्रिंसिपल का आइडिया ने ऐसा कमाल किया कि सरकार लाखों रुपए खर्च कर रही है। इंडोनेशिया का छोटा सा गांव काम्पुंग पेलंगी कभी दिखने में स्लम एरिया की तरह लगता था। लेकिन आज रेनबो विलेज में तब्दील हो गया है। दरअसल, इस कॉन्सेप्ट के पीछे एक जूनियर हाई स्कूल के प्रिंसिपल का बहुत बड़ा योगदान है, जिसने इस गांव की पूरी सूरत ही बदल दी। बताया जाता है कि 54 साल के इंडोनेशिया के कुछ गांव को देखकर काफी प्रभावित हुए थे। उन्हें अहसास हुआ कि इस स्लम एरिया में भी काफी बदलाव की जरूरत है, जिसके बाद वो अपने इस प्रस्ताव को लेकर सेन्ट्रल जावा कम्यूनिटी से मिले। सरकार ने उनके प्रस्ताव पर काम करना शुरू कर दिया और अब तक करीब 14 लाख रुपए खर्च करके 390 घरों में से 232 स्लम घरों को अलग-अलग रंगों से पेंट किया जा चुका है।

Leave A Comment