Breaking News:

जल्द खुलेगा जैनेरिक दवाओं का स्टोर : डीएम -

Thursday, August 17, 2017

आयरन लेडी इरोम शर्मिला ने की शादी -

Thursday, August 17, 2017

एक बूढ़ी महिला बीमार पति को ठेले से खींच हॉस्पिटल पहुंची,खबर हुई वायरल -

Thursday, August 17, 2017

उत्तराखंड की संस्कृति के रंग दिखेंगे इस फैशन वीक-2017 में -

Thursday, August 17, 2017

गंगा संरक्षण रथ यात्रा को सीएम ने दिखायी हरी झण्डी -

Thursday, August 17, 2017

टॉपलेस हुई बिग बॉस कंटेस्टेंट, फोटो हुआ वायरल -

Thursday, August 17, 2017

यूपी – उत्तराखंड : सेना में भर्ती के लिए करे 20 सितंबर तक ऑनलाइन आवेदन -

Wednesday, August 16, 2017

भारत के इस क्रिकेटर की 4 साल बाद मैदान पर हुई वापसी -

Wednesday, August 16, 2017

आधार-पैन लिंकिंग पर आई बड़ी ख़बर, जानिये ख़बर … -

Wednesday, August 16, 2017

90 साल के नत्थे सिंह आजादी की रात से बना रहे तिरंगा -

Wednesday, August 16, 2017

बंद हो चुकी है अब तक 1.94 लाख कंपनियां…. -

Wednesday, August 16, 2017

डाॅ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम के नाम से जाना जाएगा सचिवालय का मुख्य भवन -

Tuesday, August 15, 2017

लाल किले पर दिखी उत्तराखण्ड की संस्कृति एवं वेशभूषा -

Tuesday, August 15, 2017

जेडीयू पूर्व मंत्री-सांसद समेत 21 लोगों को किया निलंबित -

Monday, August 14, 2017

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दस कैदियों की सजा होगी माफ ! -

Monday, August 14, 2017

जो सुई के छेद से निकल जाए ऐसा है दुनिया का सबसे छोटा सोने का तिरंगा, जानिये ख़बर -

Monday, August 14, 2017

आइंस्टीन का लेटर हुआ 14 लाख में नीलाम -

Monday, August 14, 2017

पूरा गांव व दो बसें मलबे में दफन, 50 लोगों की मौत -

Monday, August 14, 2017

नए नोट छापने में RBI के 13 हजार करोड़ रूपये हुए खर्च -

Saturday, August 12, 2017

बस मेरा बकाया चुका दो : दिनेश मोंगिया -

Saturday, August 12, 2017

आखिर कैसे बदली गांव की सूरत, जानिये ख़बर ..

village-make

पहली नजर में इन तस्वीरों को देखने के बाद आपको यही लगेगा की ये पेंटिंग्स हैं। लेकिन आपको बता दें कि ये कोई पेंटिंग नहीं बल्कि इंडोनेशिया का एक खूबसूरत गांव है, जिसकी शकल- सूरत बदलने के पीछे एक प्रिंसिपल का आइडिया ने ऐसा कमाल किया कि सरकार लाखों रुपए खर्च कर रही है। इंडोनेशिया का छोटा सा गांव काम्पुंग पेलंगी कभी दिखने में स्लम एरिया की तरह लगता था। लेकिन आज रेनबो विलेज में तब्दील हो गया है। दरअसल, इस कॉन्सेप्ट के पीछे एक जूनियर हाई स्कूल के प्रिंसिपल का बहुत बड़ा योगदान है, जिसने इस गांव की पूरी सूरत ही बदल दी। बताया जाता है कि 54 साल के इंडोनेशिया के कुछ गांव को देखकर काफी प्रभावित हुए थे। उन्हें अहसास हुआ कि इस स्लम एरिया में भी काफी बदलाव की जरूरत है, जिसके बाद वो अपने इस प्रस्ताव को लेकर सेन्ट्रल जावा कम्यूनिटी से मिले। सरकार ने उनके प्रस्ताव पर काम करना शुरू कर दिया और अब तक करीब 14 लाख रुपए खर्च करके 390 घरों में से 232 स्लम घरों को अलग-अलग रंगों से पेंट किया जा चुका है।

Leave A Comment