Breaking News:

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

आगामी महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा : त्रिवेन्द्र सिंह रावत

CM-CM

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हरिद्वार में आयोजित ’’इनोवेशन समिट’’ में प्रतिभाग किया। हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण व टैक्नोमीडिया प्राइवेट लिमिटेड की ओर से हरिद्वार में आयोजित होने वाले आगामी महाकुम्भ को भव्य रूप से आयोजित करने के उद्देश्य से इस दो दिवसीय ’’इनोवेशन समिट’’ का अयोजन किया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि महाकुम्भ का सफल आयोजन शासन-प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। यह देश और प्रदेश के लिए एक अवसर भी है। कुम्भ न केवल भारत बल्कि विश्व की आस्था का केंद्र भी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्लास्टिक गृह में परिवर्तित हो रही पृथ्वी की रक्षा के लिए आगामी महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा। इसके लिए सरकार द्वारा पहल शुरू की जा रही है। जिसमें प्लास्टिक का प्रयोग कर रहे व्यक्तियों को कपड़े या जूट का थैला उपलब्ध कराया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के बाद सबसे पहली चर्चा कुम्भ मेला को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने की थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के शहरी विकास मंत्री द्वारा जिला प्रशासन और संत समाज के साथ मिलकर इस पर समय से कार्य और बातचीत भी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्भ के अनुभवी अधिकारी इस समिट के माध्यम से आज जो भी प्लान और संसाधन कुम्भ की दृष्टि से आवश्यक समझते हो, उन्हें उपलब्ध करायें। इन संसाधनों को सरकार द्वारा पूरा करने की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पास योग्य अधिकारी हैं, जो जन-सहभागिता से महाकुम्भ को सम्पन्न कराकर विश्व पटल पर ख्याति अर्जित करते आये हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हरिद्वार विकास प्राधिकरण के (हैश) पोर्टल तथा विकास विभाग के प्रगति पोर्टल की लाॅचिंग भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनवरी वर्ष 2019 तक प्रदेश में गौमुख से लेकर राज्य की अंतिम सीमा में गंगा को गंदे नालो से मुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गौ वंश को सड़कों पर आवारा, घायल तथा बीमार होने से बचाना भी सरकार का लक्ष्य है, जिसे सरकार शीघ्र प्राप्त करेगी। मुख्यमंत्री ने देवी की 52 शक्ति पीठों की एक संयुक्त प्रतिकृति का तीर्थ स्थल जनपद हरिद्वार में तैयार करने की भी घोषणा की। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि कुम्भ मेले को ऐतिहासिक बनाया जायेगा। इसके लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से भी मिलकर हरिद्वार में रिंग रोड की मांग रखी गयी। जिसके लिए केंद्रीय मंत्री ने सहमति व्यक्त की है। वर्ष 2021 से पहले राज्य सरकार भूमि अधिग्रहण कर केन्द्र सरकार को उपलब्ध करायेगी। मेला क्षेत्र का विस्तार बिजनौर रोड की तरफ किया जायेगा। कार्यक्रम में देश के विभिन्न कुम्भ क्षेत्रों में मेला सम्पन्न कराने वाले विशेषज्ञ अधिकारियों ने अपने अनुभाव तथा वर्ष 2021 हरिद्वार कुम्भ को और अधिक व्यवस्थित बनाने के लिए विचार भी साझा किये।

Leave A Comment