Breaking News:

बैंक की एक शाखा में तीन साल से ज्यादा नहीं रहेंगे अधिकारी -

Monday, February 19, 2018

शत्रुघ्‍न सिन्हा का प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना… -

Monday, February 19, 2018

पीएम मोदी को पाकिस्तान का 2.86 लाख का बिल -

Monday, February 19, 2018

गुजरात निकाय चुनाव: बीजेपी ने दी कांग्रेस को शिकस्त -

Monday, February 19, 2018

भाजपा मुख्यालय का पता बदला -

Sunday, February 18, 2018

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में पिछली बार से 17% कम वोटिंग -

Sunday, February 18, 2018

लिंगानुपात में 17 राज्यो में आई गिरावट -

Sunday, February 18, 2018

पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी आफ इंडिया देहरादून चैप्टर द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन -

Sunday, February 18, 2018

आग से पूरा गांव हो गया खाक -

Sunday, February 18, 2018

विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन को सीएम ने जब उतारा मंच से…. -

Saturday, February 17, 2018

चार प्रस्ताव केंद्र सरकार द्वारा स्वीकृति प्रदान -

Saturday, February 17, 2018

कब होगी करोड़ों रूपये की रिकवरी : रघुनाथ सिंह नेगी -

Saturday, February 17, 2018

केंद्र सरकार पैडमैन से ली सीख , जानिये खबर -

Saturday, February 17, 2018

आज रिलीज होगी अय्यारी -

Friday, February 16, 2018

5100 करोड़ की संपत्ति जब्त, नीरव मोदी के 17 ठिकानों पर छापे -

Friday, February 16, 2018

सिक्के नहीं लिए तो होगी दंडात्मक कार्रवाई -

Friday, February 16, 2018

‘पैडमैन’ देख न पाने का नहीं रहेगा मलाल मलाला को -

Friday, February 16, 2018

‘नयन मटक्का गर्ल’ दिखती है ऐसी जानिए खबर -

Friday, February 16, 2018

राशन कार्ड हो आनलाइन, जानिए खबर -

Thursday, February 15, 2018

सरकार को जगाने के लिए कर रहा आंदोलन : अन्ना हजारे -

Thursday, February 15, 2018

आगामी विस सत्र में पेश हो पंचायतीराज एक्ट: किशोर

kk

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने मुख्यमंत्री हरीश रावत एवं पंचायतीराज मंत्री प्रीतम सिंह को पत्र लिखकर आगामी विधानसभा सत्र में उत्तराखण्ड राज्य का पंचायती राज एक्ट प्रस्तुत करने, केन्द्र सरकार द्वारा जिला पंचायत एवं क्षेत्र पंचायतों के बजट में की गई कटौती की भरपाई के लिए बजट में प्रावधान किये जाने की मांग की। इसके अलावा उन्होंने पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि मद में पंचायतों को पुनः केन्द्र सरकार से धनराशि दिलवाने के लिए राज्य सरकार के स्तर पर मजबूत पैरवी किये जाने, केन्द्र सरकार द्वारा मनरेगा मद में की गई कटौती को वापस लिये जाने की मांग तथा पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण देकर उनकी क्षमता विकास के उपाय करवाये जाने के सुझाव दिये हैं। उपाध्याय ने अपने पत्र में कहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा १४वे वित्त आयेाग की धनराशि में जिला पंचायत एवं क्षेत्र पंचायत के बजट में शत-प्रतिशत कटौती के कारण उत्तराखण्ड में वर्तमान समय में तीनों स्तर की पंचायतों में कई प्रकार की असमंजस एवं आक्रोश पनप रहा है। पंचायतों पर कई मामलों में भले ही केन्द्र सरकार के दिशा निर्देश लागू होते हों लेकिन राज्य सरकार की भी पंचायतों के प्रति सीधे तौर पर जवाबदेही है। उत्तराखण्ड राज्य निर्माण के बाद पहली कांग्रेस की निर्वाचित सरकार के कार्यकाल में पंचायतों के आर्थिक सुदृढ़ीकरण की दिशा में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए पंचायत प्रतिनिधियों केा मानदेय, जिला पंचायत अध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा, क्षेत्र विकास निधि का गठन तथा राज्य वित्त की मद से क्षेत्र पंचायतों को धन दिये जाने सम्बन्धी अनेक फैसले लेकर उनको विधिवत रूप से लागू भी किया गया। 2007 से 2012 तक भाजपा सरकार के कार्यकाल में पंचायत प्रतिनिधियों एवं राज्य सरकार के बीच संवादहीनता की स्थिति रही, लेकिन वर्तमान सरकार के कार्यकाल में पंचायतों के आर्थिक सुदृढीकरण की दिशा में पहल करते हुए विद्युत उत्पादन हेतु लघु जल विद्युत परियोजना एवं सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पादन का अधिकार पंचायतों को देने के साथ-साथ सीमान्त पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि के माध्यम से अतिरिक्त बजट भी उपलब्ध कराने का काम किया गया। इसके लिए कांग्रेस पार्टी सरकार की सराहना करती है।

Leave A Comment