Breaking News:

राजनीति नहीं, राष्ट्रनीति में आना चाहता हूँः अमर सिंह -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड के 90 प्रतिशत गांवो में इन्टरनेट कनेक्टिविटी जल्द -

Tuesday, January 15, 2019

डाॅ. सुजाता संजय फॉग्सी वीमेन एम्पावरमेंट अवार्ड से सम्मानित -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड में 10 प्रतिशत आर्थिक आरक्षण जल्द लागू: मुख्यमंत्री -

Tuesday, January 15, 2019

द्रोणनगरी में निकली भगवान जगन्नाथ की भव्य रथयात्रा -

Monday, January 14, 2019

शिक्षा विभाग के खिलाफ शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा नेखोला मोर्चा -

Monday, January 14, 2019

इस वर्ष प्रदेश के सभी गांव जुड़ेंगे सड़क मार्ग से, जानिए ख़बर -

Monday, January 14, 2019

इमरान हाशमी के नन्हे बेटे ने जीती कैंसर से जंग,जानिए खबर -

Monday, January 14, 2019

राज्यपाल ने सड़क दुर्घटनाओं पर जतायी चिन्ता -

Monday, January 14, 2019

ऋषिकेश पहुंची स्वस्थ भारत साइकिल यात्रा, टीएचडीसी ने किया स्वागत -

Sunday, January 13, 2019

केदारधाम ओढ़ी बर्फ की चादर, कार्य प्रभावित -

Sunday, January 13, 2019

वेब मीडिया एसोसिएशन : उत्तराखण्ड राज्य कार्यकारिणी का हुआ गठन -

Sunday, January 13, 2019

भारतीय टीम में हार्दिक पंड्या,राहुल की जगह इन खिलाड़ियों को मिला मौका -

Sunday, January 13, 2019

3 साल से गायब हैं ‘मुन्नाभाई’ के ऐक्टर ,जानिए खबर -

Sunday, January 13, 2019

पीआरएसआई देहरादून चैप्टर ने स्वस्थ भारत यात्रा अभियान के अंतर्गत सक्रिय भागीदारी निभाई -

Saturday, January 12, 2019

पूर्व सीएम हरीश रावत ने ‘मशरूम व खिचड़ी सक्रांत पार्टी’ का किया आयोजन -

Saturday, January 12, 2019

भारतीय हिमालय क्षेत्र से पलायन पर शोध पुस्तक की समीक्षा -

Saturday, January 12, 2019

जल्द रिलीज होगी जॉन अब्राहम की ‘रोमियो अकबर वॉटर’ -

Saturday, January 12, 2019

IND vs AUS: महेंद्र सिंह धोनी ने छुआ खास मुकाम,जानिए खबर -

Saturday, January 12, 2019

सात साहित्यकारों को मिला सारस्वत सम्मान, उत्तराखण्ड के युवा कवि एवम सम्पादक राज शेखर भट्ट भी हुए सम्मानित -

Saturday, January 12, 2019

इन्वेस्टर्स समिट : 1 लाख 20 हजार करोड़ रूपए से अधिक का हुआ एमओयू

uk-cm

देहरादून | विभिन्न क्षेत्रों में 601 एमओयू किए गए। दो दिवसीय इन्वेस्टर्स समिट के सफल आयोजन पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने प्रधानमंत्री सहित सभी प्रतिभागियों का आभार जताया। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने देहरादून में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट की सफलता के लिए राज्य सरकार को बधाई देते हुए कहा कि इतने बड़े स्तर पर निवेशक सम्मेलन का सफलता पूर्वक आयोजन काबिलेतारीफ है। जैसे पृथ्वी शाॅ ने शतक लगाकर शानदार शुरूआत की वैसे ही मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने निवेशक सम्मेलन द्वारा उत्तराखण्ड में विकास की शानदार शुरूआत की है। केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अर्थव्यवस्था किसी भी देश व प्रदेश की रीढ़ होती है। इसे मजबूत करने के लिए अधिकतम निवेश की जरूरत होती है। उत्तराखण्ड में पर्याप्त प्राकृतिक व मानव संसाधन हैं। स्थायी सरकार है। निवेश के लिए सबसे बड़ी जरूरत बेहतर कानून व्यवस्था होती है। कानून व्यवस्था की दृष्टि से उत्तराखण्ड आदर्श राज्य है। यहां पर्यटन, एरोमा, योग, आयुश व वैलनैस की काफी सम्भावनाएं हैं। इनमें दुनियाभर से लोग यहां आ सकते हैं। प्रधानमंत्री जी ने इसे स्पीरीचुअल इको जोन ठीक कहा है। यहां के वातावरण में विशेष प्रकार की स्पिरीचुअल वाईब्रेशन है। उत्तराखण्ड के लोग बड़े मन के हैं। मन का बड़ा होना ही अध्यात्म है। राज्य सरकार जिस प्रकार से प्रयास कर रही है, उससे रिवर्स माईग्रेशन जल्द ही प्रारम्भ होगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पिछले वर्षों में देश की अर्थव्यवस्था में अनेक बड़े संरचनात्मक परिवर्तन किए गए हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि 2030 तक भारत दुनिया की टाॅप तीन अर्थव्यस्थाओं में आ जाएगा। यहां आर्थिक अवसरों की विविधता दुनिया में सबसे ज्यादा है। जीएसटी भारत के लिए वरदान साबित होने जा रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि इंवेस्टर्स समिट में उद्यमियों व निवेशकों से उम्मीद से बढ़कर रेस्पोेंस मिला है। कुल मिलाकर 601 एमओयू हुए हैं। 1 लाख 20 हजार करोड़ रूपए से अधिक का एमओयू हुआ है। इस माह में और भी निवेशकों के प्रस्ताव मिलने वाले हैं। इन्वेस्टर्स समिट द्वारा प्रदेश के विकास का लान्चिंग पैड तैयार हो चुका है। वर्ष 2025 में उत्तराखण्ड का अलग स्वरूप होगा। शहीद राज्य आंदोलनकारियों के सपनों के अनुरूप एक खुशहाल उत्तराखण्ड बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में इस सम्मेलन का आयोजन किया गया। केंद्र सरकार का पूरा सहयोग मिला। उन्होंने कन्ट्री पार्टनर जापान व चेक गणराज्य के राजदूतों का भी आभार व्यक्त किया। उन्होंने सिंगापुर के सूचना प्रसारण मंत्री का भी धन्यवाद किया। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में प्रतिभाग करने आए उद्यमियों, निवेशकों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने सफल आयोजन के लिए इससे जुड़े सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को बधाई दी। उत्तराखण्ड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल बिहारी वाजपेयी ने न केवल उत्तराखण्ड का निर्माण किया था बल्कि इसे विशेष राज्य का दर्जा दिया और विशेष औद्योगिक पैकेज दिया। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में राज्य सरकार ने इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन कर औद्योगिक विकास का धरातल तैयार किया है। हम पूंजी निवेश के लिए जो वातावरण बना रहे हैं वो कहीं और नहीं मिल सकता है। रसना प्राईवेट लिमिटेड के चेयरमैन पिरूज खमबटा ने कहा कि मुख्यमंत्री रावत ने एक चुम्बक की तरह निवेशकों को आकर्षित किया। उन्होंने अहमदाबाद में रोड़ शो के दौरान जिस प्रकार पक्ष रखा उससे हमें लगा कि अगर इन्वेस्टर्स समिट में शामिल नहीं हुए तो बड़ा नुकसान हो जाएगा। इससे भी बड़ी बात है कि नीतियों के संबंध में जो सुझाव दिए गए उन पर काम भी किया गया और दस नई नीतियां बनाई गईं। इनमें कुछ नीतिया तो महाराष्ट्र व गुजरात में भी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में फूड प्रोसेसिंग की बहुत सम्भावनाएं हैं। एरोमा के द्वारा यहां के किसानों की आय काफी बढ़ाई जा सकती है। यहां के एरोमा को उत्तराखण्ड की खुशबु के तौर पर पहचान दिलाई जा सकती है। डिक्सान टेक्नोलोजी के सुनील वाचानी ने इलेक्ट्रोनिक्स सेक्टर पर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि समय आ गया है जब उत्तराखण्ड में निवेश के लिए उद्यमी आगे आएं। एमिटी यूनिवर्सिटी के चांसलर डाॅ. असीम चैहान ने प्रदेश में स्कूल शिक्षा, स्किल डेवलपमेंट व रिसर्च में काम करने की इच्छा जताई। भेल के एमडी श्री अनिल सोबती ने कहा कि भेल का उत्तराखण्ड से गहरा नाता है। यहां का पाॅलिसी फ्रेम वर्क, शानदार कनेक्टीवीटी, पर्याप्त स्किल, समृद्ध संस्कृति, राजनीतिक इच्छा शक्ति निवेश को प्रोत्साहित करते हैं। सीआईआई के सचित जैन ने कहा कि उत्तराखण्ड पहला राज्य है जहां इस प्रकार का इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, डीजीपी अनिल रतूड़ी, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव मनीषा पंवार, आयुक्त उद्योग सौजन्या सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंजीत नेगी द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘केदारनाथ से साक्षात्कार’’ का विमोचन भी किया।

Leave A Comment