Breaking News:

बेसहारा व गरीबों को बेहतर स्वास्थ सुविधा उपलब्ध कराने का व्रत ले भावी चिकित्सक- सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, October 19, 2019

रांची टेस्ट में विराट होंगे विराट कोहली -

Saturday, October 19, 2019

PMC बैंक के खाताधारक की चौथी मौत -

Saturday, October 19, 2019

हाईकोर्ट ने दी पूर्व मुख्यमंत्रियों को एक माह की मोहलत -

Saturday, October 19, 2019

भारत की पहली नेत्रहीन महिला आईएएस से सीखे जीवन जीना -

Friday, October 18, 2019

मणिपुरी नृत्य किया छात्रों को मनमोहित, जानिए खबर -

Friday, October 18, 2019

ऋषिकेश लूट मामला: पुलिस पर गिर सकती है गाज -

Friday, October 18, 2019

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत सरकारी सुविधाएं एक ही स्थान पर मिले : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, October 18, 2019

वादों की उत्तराखंड सीएम ने की समीक्षा -

Friday, October 18, 2019

मनाए दिपावली पर रहे ध्यान इतना….. -

Thursday, October 17, 2019

दून में लगातार बढ़ रहा आपराधों का ग्राफ, जानिए खबर -

Thursday, October 17, 2019

हरे वृक्षों का धड़ल्ले से हो रहा कटान, जानिए खबर -

Thursday, October 17, 2019

थल सेनाध्यक्ष से सीएम त्रिवेंद्र ने की मुलाकात -

Thursday, October 17, 2019

पत्रकार विरोधी नीतियों को लेकर पत्रकार संगठन हुए लामबंद -

Thursday, October 17, 2019

पंचायत चुनाव के बाद भाजपा ने दिए दायित्व बांटने के संकेत -

Wednesday, October 16, 2019

करवाचौथ: बाजारों में हुई जमकर खरीदारी -

Wednesday, October 16, 2019

दुर्घटना : स्कूटी सवार दो की मौत -

Wednesday, October 16, 2019

चार दशकों के बाद जमारानी बांध का होगा निर्माण -

Wednesday, October 16, 2019

टीएचडीसी का नहीं होगा निजीकरण : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, October 16, 2019

प्रथम स्मार्ट वेंडिंग जोन का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Wednesday, October 16, 2019

ई-सिगरेट पर प्रतिबंध को लेकर एक हज़ार से अधिक डॉक्टरों ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

देहरादून । भारत के 24 राज्यों और तीन केंद्र शासित प्रदेशों के 1000 से अधिक चिकित्सकों नेे इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ईएनडीएस) पर प्रतिबंध लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। जिसमें ईएनडीएस ई-सिगरेट, ई-हुक्का आदि भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में इन डॉक्टरों ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि यह बहुत जरूरी है कि युवाओं के बीच ईएनडीएस महामारी बन कर फैल जाए, इससे पहले इस पर रोक लगाई जाए। पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले ये 1061 डॉक्टर इस बात से बेहद चिंतित हैं कि एक सार्वजनिक स्वास्थ्य मामले पर, व्यापार और उद्योग संगठन ई-सिगरेट के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा दे रहे हैं। ई-सिगरेट को ई-सिग, वेप्स, ई-हुक्का, वेप पेन भी कहा जाता है, जो इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ईएनडीएस) हैं। कुछ ई-सिगरेट नियमित सिगरेट, सिगार या पाइप जैसे दिखते हैं। कुछ यूएसबी फ्लैश ड्राइव, पेन और अन्य रोजमर्रा की वस्तुओं की तरह दिखते हैं। जो युवाअेंा को बेहद आकर्षित करने वाले होते है। डॉक्टर के समूह ने 30 संगठनों द्वारा आईटी मंत्रालय को लिखे गए एक पत्र पर चिंता व्यक्त की है और कहा है कि यह एक सार्वजनिक स्वास्थ्य का मामला है और इसलिए इसे खतरे में डालकर व्यावसायिक हितों की रक्षा नहीं की जानी चाहिए। मीडिया रिपोर्ट के 30 संगठनों ने इंटरनेट पर ईएनडीएस के प्रचार पर प्रतिबंध न लगाने के लिए आईटी मंत्रालय को लिखा था। उल्लेखनीय है कि 28 अगस्त, 2018 को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (एमओएचएफडब्ल्यू) ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को ईएनडीएस पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक परामर्शिका जारी की थी। इस साल मार्च में एमओएचएफडब्ल्यू द्वारा नियुक्त स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक पैनल ने एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है। जिसमें ईएनडीएस पर 251 शोध अध्ययनों का विश्लेषण किया गया। पैनल ने निष्कर्ष निकाला कि ईएनडीएस किसी भी अन्य तंबाकू उत्पाद जितना ही खराब है और निश्चित रूप से असुरक्षित है। टाटा मेमोरियल अस्पताल के उप निदेशक एंव हैड नेक कैंसर सर्जन डॉ. पंकज चतुर्वेदी ने कहा, यह कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि निकोटीन को जहर माना जाए। यह दुखःद है कि ईएनडीएस लॉबी ने डॉक्टरों के एक समूह को लामबंद किया है, जो ईएनडीएस उद्योग के अनुरूप भ्रामक, विकृत जानकारी साझा कर रहे हैं। मैं भारत सरकार की सराहना करता हूं कि सार्वभौमिक स्वास्थ्य सेवा के अपने लक्ष्य के अनुरूप, इसने निकोटीन वितरण उपकरणों (ईएनडीएस) के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। भारत सरकार को अब यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यह कमजेार न हो ।”

Leave A Comment