Breaking News:

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

मोदी- माल्या को भारत लाने की कोशिशों में अब तक कितना खर्च, जानिए खबर -

Tuesday, February 20, 2018

दामाद ने सास पर पत्नी को देह व्यापार में धकेलने का लगाया आरोप -

Tuesday, February 20, 2018

नरसिंग देवता महायज्ञ का हुआ शुभारंभ -

Tuesday, February 20, 2018

11 हजार से अधिक बच्चों के साथ सीएम ने गाया वंदेमातरम -

Tuesday, February 20, 2018

बैंक की एक शाखा में तीन साल से ज्यादा नहीं रहेंगे अधिकारी -

Monday, February 19, 2018

शत्रुघ्‍न सिन्हा का प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना… -

Monday, February 19, 2018

पीएम मोदी को पाकिस्तान का 2.86 लाख का बिल -

Monday, February 19, 2018

गुजरात निकाय चुनाव: बीजेपी ने दी कांग्रेस को शिकस्त -

Monday, February 19, 2018

भाजपा मुख्यालय का पता बदला -

Sunday, February 18, 2018

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में पिछली बार से 17% कम वोटिंग -

Sunday, February 18, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह

CS

देहरादून | मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सचिवालय में हिमोत्थान परियोजना के राज्य स्तरीय स्टीयरिंग कमेटी की बैठक की अध्यक्षता की। कहा कि हिमोत्थान सोसाइटी को मृदा परीक्षण कर किसानों को हेल्थ कार्ड भी देना चाहिए। किसानों को बताया जाय कि किस मिट्टी में कौनसी फसल का उत्पादन हो सकता है। आर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने के लिए भी कार्य करना चाहिए। इसके साथ ही कौशल विकास पर भी फोकस करने की जरूरत है।उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए। इससे उत्तराखंड की पहचान बनेगी। बैठक में बताया गया कि हिमोत्थान जल स्रोतों की मैपिंग और सूख रहे स्रोतों के पुनर्जीवीकरण के लिए 300 गांवों में कार्य कर रहा है। इसके साथ ही अपने फेडरेशन के माध्यम से जल की गुणवत्ता पर भी कार्य किया जा रहा है। बताया गया कि विभिन्न कृषि उत्पादों के बीज का उत्पादन भी किया जा रहा है। इस वर्ष 300 क्विंटल बीज का उत्पादन कर किसानों को वितरित किया गया है। इससे फसल का उत्पादन बढ़ा है। हिमोत्थान सोसाइटी ग्राम्य विकास, कृषि, वानिकी, पशुपालन, शिक्षा, डेरी आदि विभागों और विशेषज्ञ संस्थानों के साथ मिलकर कार्य कर रहा है। बताया गया कि 10 पर्वतीय जनपदों में 35 क्लस्टर के माध्यम से 650 गांवों में कार्य किया जा रहा है। इससे 63000 लोगों को लाभ मिल रहा है। 18000 घरों के लिए 10 फसलों के उत्पादन और बाजार लिंकेज का कार्य किया जा रहा है। वर्ष 2018 से 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए मिशन मोड में कार्य करने की योजना बनाई गई है। पशुओं को चारा उपलब्ध कराने के लिए 1100 हैक्टर जमीन पर उत्पादन किया जा रहा है। इससे 500 गांवों के 25000 परिवारों को लाभ मिल रहा है। 100 गांवों में 12 क्लस्टर बनाकर 2000 पशुपालकों को बकरी पालन का लाभ दिया जा रहा है। इसके अलावा स्वरोजगार, शिक्षाए, स्वच्छता, शुद्ध पेयजल, कौशल विकास की दिशा में भी कार्य किया जा रहा बैठक में अध्यक्ष हिमोत्थान सोसाइटी विभा पूरी दास, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास मनीषा पंवार, अपर सचिव युगल किशोर पंत, एमडी वन निगम एस.टी.एस.लेप्चा, हिमोत्थान के अरूण पांधी, प्रोफेसर बी.के.जोशी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave A Comment