Breaking News:

उत्तराखंड : दुकान खुलने का समय प्रातः 7 बजे से सांय 7 बजे तक हुआ -

Thursday, May 28, 2020

कोरोना कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या पहुँची 500 -

Thursday, May 28, 2020

टीवी अभिनेत्री का सड़क हादसे में हुई मौत -

Thursday, May 28, 2020

बिहार की बेटी ज्योति के मुरीद हुए विदेशी भी, जानिए खबर -

Thursday, May 28, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना’’ का शुभारंभ हुआ -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 493 -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री राहत कोष में आज यह दिए दान, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

देहरादून से विशेष ट्रेन द्वारा हज़ारो मजदूर बिहार एंव उत्तर प्रदेश के लिए रवाना, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 469, आज 69 मरीज मिले कोरोना के -

Wednesday, May 27, 2020

ऋषिकेश-धरासू हाइवे पर 440 मीटर लंबी टनल हुई तैयार, सीएम त्रिवेंद्र ने जताया आभार -

Wednesday, May 27, 2020

कोरोना का कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीज हुए 438 -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड सरकार पुलिस जवानों की माँग को उचित ठहराया पर ..

police-uk

प्रदेश में पुलिस जवानों द्वारा वेतन विसंगति दूर करने और एरियर भुगतान करने की जो मांग उठी है। वह देखी जाय तो कुछ हद तक ठीक लगती है, लेकिन यह भी सोचना जरूरी हो जाता है कि यह मांग आज क्यो उठ रही है। पुलिस विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस जवानों के वेतन विसंगति समिति की संस्तुति के आधार पर पुलिस विभाग के विभिन्न श्रेणी के पदो के वेतनमान में संशोधन/उच्चीकरण करने का शासनादेश 14 मार्च 2012 को कर दिया गया था। जिसमें स्पष्ट उल्लेख किया गया था कि पुलिस विभाग के विभिन्न श्रेणी के पदों के वेतनमान में संशोधन/उच्चीकरण संबंधी देयक 12.12.2011 से देय होंगे। इसी प्रकार से दिनांक 14.5.2012 को पुलिस महानिरीक्षक द्वारा शासन को पत्र भेज कर अनुरोध किया गया कि पुलिस विभाग के विभिन्न श्रेणी के पदो के वेतनमान में संशोधन/उच्चीकरण को दिनांक 1.1.2006 से अनुमन्य किया जाय। शासन स्तर पर इस संबंध में पूरा विचार करने के बाद अवगत कराया गया कि इस संबंध में 14.3.2012 द्वारा शासनादेश जारी कर निर्णय लिया गया है, कि 12.12.2011 की तिथि से अनुमन्य होगी। अब सवाल यह उठता है, कि जब पुलिस विभाग को शासन स्तर से स्पष्ट निर्देश मिल गये थे कि पुलिस विभाग के विभिन्न श्रेणी के पदों के वेतनमान में संशोधन/उच्चीकरण संबंधी देयक का लाभ 12.12.2011 से देय होंगे, तो तब किसी ने इस पर कोई प्रतिक्रिया क्यो नही की। पुलिस विभाग के सभी अधिकारियों और जवानों को इस संबंध में पूरी जानकारी थी। यह भी समझ नही आता है कि पुलिस विभाग कोई मामूली विभाग नही है, यह एक अनुशासित फोर्स है, जिसके ऊपर पूरे प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा का जिम्मा है। राजनीतिक पार्टियों के नेताओं द्वारा भी जिस प्रकार से इस अघोषित आन्दोलन को सहयोग देने के बयान आ रहे है, उससे यह समस्या और भी विकट हो जाती है। सत्ता में जो पार्टी है, यदि उसकी जगह कोई और पार्टी होती तो क्या तब भी वह इस प्रकार के गैर जिम्मेदाराना बयान देती। वहीं यह बात भी समझ नही आ रही है कि जब वेतन विसंगति का मामला केवल पुलिस विभाग का ही नही है। बल्कि अन्य कई ऐसे विभाग और भी है जिनके इससे भी अधिक मामले लंबित है। शायद पुलिस विभाग के अधिकारी अपने जवानों को इस बात को सही प्रकार से समझाने में असफल रहे है, जिस कारण ऐसे हालात उत्पन्न हो रहे है। लगभग सभी विभागों के कर्मचारियों को यह पता है कि जल्द ही सातवां वेतन आयोग आने वाला है, जिसके बाद वेतन विसंगति जैसी समस्याएं समाप्त हो जायेगी। ऐसे में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का सभी को इंतजार करना चाहिए।

Leave A Comment