Breaking News:

बच्चों के जन्म एवं विवाह पर पौधे अवश्य लगाए : वन मंत्री हरक सिंह -

Thursday, July 18, 2019

स्नातकोत्तर महाविद्यालय ऋषिकेश को विवि का परिसर बनाने को मिली हरी झंडी -

Thursday, July 18, 2019

एसीजेएम अनुराधा गर्ग हुई बर्खास्त , जानिए खबर -

Thursday, July 18, 2019

समाज में महिलाओं को हुनरमंद बनाया जाना समय की जरूरत : मुख्यमंत्री -

Thursday, July 18, 2019

सिंधु की क्वॉर्टर फाइनल में एंट्री, जानिए ख़बर -

Thursday, July 18, 2019

अक्षय कुमार की फिल्म ‘मिशन मंगल’ का ट्रेलर रिलीज , जानिए ख़बर -

Thursday, July 18, 2019

हरेला के महत्व पर मुख्यमंत्री ने लिखा ब्लॉग -

Wednesday, July 17, 2019

हंस फाउंडेशन की सहयोग से बनेगा आदर्श विद्यालय -

Wednesday, July 17, 2019

रिक्शा चलाने वाले का बेटा बना IAS अफसर, जानिए खबर -

Wednesday, July 17, 2019

दिव्‍यांग फैन ने पैर से बनाई सलमान की तस्‍वीर, जानिए ख़बर -

Wednesday, July 17, 2019

वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए चुनी जाएगी रेसलिंग टीम, जानिए ख़बर -

Wednesday, July 17, 2019

संजय दत्त को पसंद आया ‘ओ साकी साकी’ गाने के रीमेक -

Tuesday, July 16, 2019

शराब बॉटलिंग प्लांट के खिलाफ पूर्व सीएम भुवन चंद्र खंडूड़ी , जानिए खबर -

Tuesday, July 16, 2019

पांच वर्षीय बालिका के साथ दुराचार करने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Tuesday, July 16, 2019

उफनती गोरी नदी में गिरी कार, तीन लोगों की मौत -

Tuesday, July 16, 2019

हरेला पर्व : रिस्पना से ऋषिपर्णा अभियान के तहत सीएम त्रिवेंद्र ने किया वृक्षारोपण -

Tuesday, July 16, 2019

बजाज हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड के होम्स एंड लोन्स के साथ प्रॉपर्टी ढूँढें और फाइनेंस कराएं -

Tuesday, July 16, 2019

विराट को नहीं मिली आईसीसी वर्ल्ड कप टूर्नमेंट की टीम में जगह -

Monday, July 15, 2019

बिहार में टैक्‍स फ्री हुई ‘सुपर 30’, जानिये ख़बर -

Monday, July 15, 2019

सरकारी योजनाओं व अधिकारों की जानकारी महिलाओं को होना आवश्यक -

Monday, July 15, 2019

उत्तराखण्ड में पहली बार हो रहा है हिमालयी राज्यों का कान्क्लेव, जानिये खबर

देहरादून | उत्तराखण्ड में पहली बार हिमालयी सरोकार से जुड़े कान्क्लेव का आयोजन हो रहा है जिसमें तमाम हिमालयी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, प्रशासकों, अधिकारियोंं व विशषज्ञों द्वारा प्रतिभाग किया जाएगा। इसमें मुख्यतः उत्तराखण्ड, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, सिक्किम, आसाम, अरूणाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, त्रिपुरा, मिजोरम व मणिपुर राज्यों के मुख्यमंत्री व प्रतिनिधि अपने विचार रखेंगे। व्यापक विचार विमर्श के बाद एक हिमालयन ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा जो कि नीति आयोग को प्रेषित किया जाएगा।

ग्लोबल वार्मिंग से हिमालय के इको सिस्टम का संरक्षण

बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग के कारण भारतीय संस्कृति व सभ्यता के मूल स्त्रोत हिमालय व यहां की जीवनदायिनी नदियों पर संकट मंडरा रहा है। हिमालयी इकोलॉजी की रक्षा के साथ कैसे विकास का लाभ यहां के लोगों तक पहुंचाया जा सकता है, कान्क्लेव का मुख्य एजेंडा रहेगा। हिमालय के संसाधनों का उपयोग कैसे यहां की अर्थव्यवस्था को उन्नत करने में किया जा सकता है ताकि यहां के युवा को रोजगार के लिए पलायन न करना पड़े। हिमालय भारतीय सभ्यता का केंद्र बिंदु तो है ही, इसका सामरिक महत्व भी काफी ज्यादा है। सभी हिमालयी राज्यों की सीमाएं दूसरे देशों से जुड़ी हुई हैं। इस दृष्टि से भी कान्क्लेव में चर्चा की जा सकती है।

जल संरक्षण व जल संवर्धन पर भी रहेगा फोकस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलशक्ति मंत्रालय बनाकर जल संरक्षण व जल संवर्धन की बड़ी पहल की है। इसमें हिमालयी राज्यों की सहभागिता बहुत जरूरी है। ग्लेशियरों, नदियों, झीलों, तालाबों व वनों को ग्लोबल वार्मिंग से बचाना भी कान्क्लेव का प्रमुख एजेंडा रहेगा।

सस्टेनेबल डेवलपमेंट की बनेगी कार्ययोजना

एक ओर जहां हिमालय का संरक्षण जरूरी है वहीं यहां के दूरदराज के गांवों में आधारभूत सुविधाओं का विकास कर स्थानीय लोगों के लिए आजीविका उपलब्ध करवाना भी आवश्यक है। इसके लिए सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर विशेष ध्यान देना होगा। कान्क्लेव में हिमालयी राज्यों में सतत विकास की कार्ययोजना भी तैयार की जाएगी।

नीति आयोग को सौंपा जाएगा ड्राफ्ट

हिमालयन कान्क्लेव में वैचारिक मंथन के बाद प्राप्त निष्कर्षों को एक ड्राफ्ट का रूप देते हुए नीति आयोग को सौंपा जाएगा। इससे नीति आयोग को हिमालयी राज्यों के लिए नीति निर्धारण करने में मदद मिलेगी। नीति आयोग को हिमालयी राज्यों की आकांक्षाओं, आवश्यकताओं व क्षमताओं के बारे में पता चलेगा।


Leave A Comment