Breaking News:

देहरादून : युवक ने जहर खाकर की आत्महत्या -

Wednesday, September 23, 2020

जरा हटके : एसबीआई कार्ड ने गूगल के साथ की साझेदारी -

Wednesday, September 23, 2020

दुःखद : सीएम के ओएसडी गोपाल रावत का कोरोना के चलते निधन -

Tuesday, September 22, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 42651, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सराहनीय कार्य : जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा सामाग्री किये वितरित -

Tuesday, September 22, 2020

बेटी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र एवं वन मंत्री ने ‘आनन्द वन’ का किया लोकापर्ण -

Tuesday, September 22, 2020

महाआरती का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में न हो विलम्ब : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र -

Tuesday, September 22, 2020

राज कम्युनिकेशन के सफलतापूर्वक 15 वर्ष हुए पूरे, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज प्रदेश में मिले 814 कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

IPL : भारतीय खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर उठ रहे सवाल -

Monday, September 21, 2020

अनुराग-पायल केस में कंगना के बयान से खलबली, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने थानो में एग्री बिजनेस ग्रोथ सेंटर का किया लोकार्पण -

Monday, September 21, 2020

केदारनाथ आपदा : सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज देहरादून में चार सौ से अधिक कोरोना मरीज मिले, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

कोरोना महामारी मे मदद का हाथ बढ़ा रहे विरेन्द्र सिंह रावत -

Sunday, September 20, 2020

देहरादून स्थित सभी कोर्ट एक ही परिसर में स्थापित हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, September 20, 2020

चीन को खुफिया जानकारी देने पर पत्रकार समेत तीन गिरफ्तार -

Sunday, September 20, 2020

उत्तराखंड कांग्रेस ने एक सप्ताह तक के सभी सार्वजनिक कार्यक्रम किये रद्द -

Sunday, September 20, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश, । परमार्थ निकेतन में स्वामी चिदानन्द सरस्वती और साध्वी भगवती सरस्वती के पावन सान्निध्य और मार्गदर्शन में सोशल डिसटेंसिग का पालन करते हुये रामनवमी की शाम को वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ दीये जलाकर कोरोना रूपी अन्धकार को आत्मबल और आत्मविश्वास रूपी प्रकाश से दूर करने का मंत्र दिया। परमार्थ परिवार के सदस्यों ने भारत की प्रकाश और प्रेम की अद्भुत संस्कृति का संदेश देते हुये विश्व शान्ति की प्रार्थना की। स्वामी जी ने कहा कि कोरोना की लड़ाई पर विजय प्राप्त करने के लिये पूरे देश को एक साथ आना होगा। सारे वाद और विवादों से उपर उठकर कोरोना को हराने के लिये ’घर में ही रहो ना’ को ही मूल मंत्र बनाना होगा। स्वामी जी ने कहा कि पहले हम  हर चीज मिलकर करते थे, अगर कोई समस्या होती थी तो मिलकर लड़ते भी थे परन्तु ऐसा पहली बार हुआ है कि बिना मिले, घर पर रहकर ही कोरोना की लड़ाई को लड़ना है। स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि कोरोना वायरस के अन्धकार को दूर करने के लिये आत्मबल और आत्मविश्वास के प्रकाश को जागृत करना होगा। हम सभी को मिलकर कोरोना संकट के अंधकार को चुनौती देनी है, उसे हमारी एकता की ताकत को दिखाना है तथा भारत के एकत्व के प्रकाश से परिचय कराना है। आईये हम सब भारतवासी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गयी अपील को मिलकर साकार करें, 5 अप्रैल दिन रविवार को रात 9 बजे 9 मिनट के लिये घर की सभी लाइट बंद कर के घर के बाहर, बालकनी, छज्जे या छत पर मोमबत्ती, दीया, टाॅर्च या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर प्रकार की ताकत और 130 करोड़ भारतवासियों की एकता से परिचय कराये। स्वामी जी ने कहा कि हमें यह याद रखना होगा कि कोरोना वायरस से बचाने के लिये जो हमारे फं्रटलाइन वर्कर्स रात-दिन एक करके बिना अपनी परवाह किये हम सभी को बचाने हेतु हमारी सेवा में लगे है उनका सम्मान करें उनके साथ अभद्र व्यवहार न करें।
स्वामी जी ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी ने सोशल डिसटेंसिग को कोरोना वायरस से बचने के लिये रामबाण कहा है उसका प्रत्येक भारतवासी को पालन करना चाहिये। स्वामी जी ने रामनवमी की संध्या को संदेश देते हुये कहा कि आज के दिन एक ऐसे परम प्रकाश का जन्म हुआ था जिसमें मानवता को सत्य, प्रेम और करूणा के प्रकाश से भर दिया। भगवान श्री राम ने मर्यादा और मानवता का संदेश दिया आईये इन सद्गुणों को जीवन में धारण करें और कोरोना रूपी आपदा के समय अपने देश के साथ पूरी निष्ठा से खड़े रहें। स्वामी जी ने कहा कि 5 अप्रैल को 9 बजे 9 मिनट तक दीप जलाकर भारत को आगे बढ़ाना है तथा कोरोना वायरस के मुक्ति दिलाना है। स्वामी जी ने कहा कि भारत को तो अर्थ ही है भा-रत अर्थात जो भी करे प्रकाश के साथ करे और प्रकाशित होकर करे। ’तमसो मा ज्योर्तिगमय’ की शिक्षा लें जिस प्रकार दीपक बाहरी वातावरण को रोशनी से भर देता है उसी प्रकार लाॅकडाउन के समय अपने भीतरी वातावरण को प्रकाश भर दें। उन्होंने कहा कि कोरोना रूपी अन्धेरा कितना भी गहरा क्यों न हो वह कायम नहीं रह सकता बस इसके लिये हमें सोशल डिसटेंसिग और एकता रूपी दीप को  जलाना होगा। आईये संकल्प करें कि हम कोरोना को हराने के लिये हर नियम का पालन अवश्य करेंगे।

Leave A Comment