Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

एंबुलेंस नहीं मिली, शव को हाथ ठेले पर लेकर निकल पड़ा

telangana_man

तेलंगाना। ओडिशा के दाना मांझी का मामला अभी लोग भूले भी नहीं की इस तरह की एक और घटना सामने आ गई है। इस तरह का एक मामला तेलंगाना में सामने आया है जहां एक बुजुर्ग के साथ ऐसा कुछ हुआ जो इंसानियत को शर्मसार करने के लिए कापफी है। दरअसल यहां एक बुजुर्ग भिखारी की पत्नी का निधन हो गया लेकिन उसके शव को ले जाने की व्घ्यवस्घ्था नहीं हो पाई। पैसों की कमी के चलते यह भिखारी एंबुलेंस का इंतजाम नहीं कर पाया। इसके बाद वो हैदराबाद से 60 किमी दूर स्थित अपने गांव पहुंचने के लिए हाथठेले पर पत्नी का शव रखकर पैदल निकल पड़ा। दुर्भाग्घ्य ने यहां भी उसका साथ नहीं छोड़ा और इतनी दूर चलने के बाद वो रास्ता भटकने की वजह से अगले दिन किसी दूसरे ही गांव पहुंच गया। इस व्यक्ति की पहचान रामुलु के रूप में हुई है जिसकी पत्नी कविता की लेप्रोसी के चलते शुक्रवार को मौत हो गई थी। रामुलु पत्नी के शव को अंतिम संस्कार के लिए अपने गांव ले जाना चाहता था लेकिन एंबुलेंस के लिए पैसे का इंतजाम नहीं कर पाया। इसके बाद उसने हाथठेले पर पत्नी का शव रख और उसे गांव लेकर रवाना हो गया। दुर्भाग्य तो देखिये कि वो रात में रास्ता भटक गया और 60 किमी चलने के बाद वो अपने गांव सांगारेîóी की बजाय किसी दूसरे गांव विक्रमाबाद पहुंच गया। गांव के लोगों ने उसे शव के साथ देखातो पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर एंबुलेंस की व्ययवस्था करवाई जिसके बाद वो अपने मेंढक जिले में स्थित अपने गांव सांगारेîóी पहुंच सका। विक्रमाबाद के सर्कल इंस्पेक्टर जी रवि के अनुसार पत्नी के देहांत के बाद वो अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार गांव में करना चहता था। एंबुलेंस वालों ने उससे इसके लिए 5 हजार रुपए मांग लिए। पैसे नहीं होने की वजह से वो ठेले पर ही शव लेकर रवाना हो गया। यहां से उसे एंबुलेंस के माध्यम से उसके गांव पहुंचाया गया है।

Leave A Comment