Breaking News:

उत्तरकाशी : बस खाई में गिरी, 14 लोगों की मौत -

Sunday, November 18, 2018

शादी से पहले वोट डालने पहुंचे युवक और युवती -

Sunday, November 18, 2018

सीएम ने शांतिपूर्ण व उत्साहपूर्ण मतदान के लिए मतदाताओं का जताया आभार -

Sunday, November 18, 2018

निकाय चुनावः प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद -

Sunday, November 18, 2018

जरा हट के : ब्याज पर पैसे लेकर ग्रामीणों ने खुद बनाई डेढ़ सौ मीटर लम्बी सड़क -

Sunday, November 18, 2018

देहरादून : दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के सोमवार को दर्ज होंगे बयान -

Saturday, November 17, 2018

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला का निधन -

Saturday, November 17, 2018

मिस उत्तराखंड : मिस रेडिएंट स्किन एंड ब्यूटीफुल हेयर सब प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, November 17, 2018

सभी नागरिक अपने मताधिकार का करे प्रयोग : सीएम -

Saturday, November 17, 2018

मतदाता चुनेेंगे शहर की सरकार …. -

Saturday, November 17, 2018

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका अहम -

Friday, November 16, 2018

चैटर्जी बहनों द्वारा बांसुरी प्रदर्शन का आयोजन -

Friday, November 16, 2018

आखिरी दिन कांग्रेस ने रोड शो में झोंकी ताकत -

Friday, November 16, 2018

स्टिंग ऑपरेशन केस : उमेश शर्मा को मिली जमानत -

Friday, November 16, 2018

त्रिवेंद्र एवं अजय भट्ट ने मांगे भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट -

Friday, November 16, 2018

निकाय चुनाव : 9399 लाइसेंसी शस्त्रों को किया गया जमा -

Friday, November 16, 2018

भारतीय लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

स्टिंग मामला : नार्को व ब्रेन मैपिंग टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक -

Thursday, November 15, 2018

हिमालया ने लॉन्च किया ‘‘खुश रहो, खुशहाल रहो’’ -

Thursday, November 15, 2018

नजूल भूमि पर बसे किसी भी परिवार को उजड़ने नहीं दिया जायेगा : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

एआइसीटीई का लचीला रूख , इंजीनियरिंग कॉलेजों को राहत

AICTE

 

द्वाराहाट। अल्मोड़ा इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रति छात्रों की घटती रुचि पर अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीइ) भी पशोपेश में है। कभी 50 फीसद सीटें रिक्त रहने पर तकनीकी शिक्षण संस्थान बंद करने की बात करने वाली एआइसीटीइ ने अब मौके की नजाकत को भांपते हुए लचीला रुख अपना लिया है। अब परिषद के सदस्य सचिव प्रो. आलोक प्रसाद मित्तल ने कहा, लगातार तीन वर्षो में 30 प्रतिशत से कम प्रवेश वाले कॉलेज बंद किए जाएंगे। साथ ही सभी संस्थानों में एकरूपता लाने को 80 फीसद पाठ्यक्त्रम समान कर दिया गया है। यही नहीं आलोचनाओं से इतर प्राध्यापकों के टीचिंग ऑवर्स घटाकर 160 प्रति समेस्टर कर दिए गए हैं। बिपिन त्रिपाठी कुमाऊं प्रौद्योगिकी संस्थान में कार्यशाला का शुभारंभ करने पहुंचे एआइसीटीइ के सदस्य सचिव प्रो. मित्तल ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, भारत बेशक तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में सबसे श्रेष्ठ न हो, पर भारतीय तकनीक व प्रतिभा दुनिया में झंडा बुलंद कर रही। अमेरिका में 30 प्रतिशत भारतीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर कार्यरत हैं। कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना चलाने के लिए तकनीकी संस्थानों को परिषद बाकायदा वित्तीय मदद दे रहा। जम्मू कश्मीर के छात्रों के लिए हर संस्थान में 10 सीटें आरक्षित हैं। प्रो. मित्तल ने कहा, प्रधानमंत्री के स्मार्ट इंडिया प्रोग्राम के तहत श्मैराथॉनश् की तर्ज पर श्हैकाथॉनश् योजना शुरू की गई है। इसके तहत किसी प्रोग्राम को अपनी आपूर्ति करने के लिए हैक कर नया सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है। इस तकनीकी से चालू वर्ष में 28 मंत्रालयों तथा 20 राज्यों की समस्या का समाधान किया गया। कहा कि परिषद अब मात्र तकनीकी शिक्षा तक ही सीमित नही है। नए शोध तथा इस कार्य के लिए प्रोत्साहन के अतिरिक्त युवाओं में जागरूकता लाकर उनके मानसिक स्तर को ऊंचा करने की ओर भी काम शुरू कर दिया गया है। वहीं विद्यार्थियों की कौशल क्षमता बढ़ाने को नए कोर्स शुरू किए जा रहे।

Leave A Comment