Breaking News:

भारतीय फुटबॉलर प्रथमेश ने किया रैंप -

Monday, October 14, 2019

कवि सम्मेलन : प्यार से भी हम मर जाते, आपने क्यों हथियार खरीदा… -

Monday, October 14, 2019

तीन निजी शिक्षण संस्थानों के खिलाफ दर्ज हुए केस, जानिए खबर -

Monday, October 14, 2019

आम लोगों के लिए लगाया प्याज मेला , जानिए ख़बर -

Monday, October 14, 2019

उत्तराखंड : मंत्रिमण्डल की बैठक होगी पेपरलेस -

Monday, October 14, 2019

जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

दून में लाइफस्टाइल फैशन वीक हुआ शुरू -

Sunday, October 13, 2019

चमोली में मैक्स गिरी खाई में नौ लोगों की मौत -

Sunday, October 13, 2019

एक वर्ष हो गए अभी भी घोषित नहीं हुए परीक्षा परिणाम , जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

“भारत भारती” के नाम से राज्य में प्रतिवर्ष हो एक कार्यक्रम -

Sunday, October 13, 2019

जापान में 60 साल का सबसे भीषण तूफान -

Saturday, October 12, 2019

बिग बॉस धारावाहिक के खिलाफ रक्षा दल -

Saturday, October 12, 2019

अज्ञात बीमारी से एक माह में छह लोगों की हो चुकी मौत,जानिए ख़बर -

Saturday, October 12, 2019

विरासत: कत्थक डांसर गरिमा आर्य व शाहिद नियाजी की प्रस्तुति -

Saturday, October 12, 2019

छड़ी यात्रा से उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, October 12, 2019

समय पर इलाज कराइए, जोड़ों के दर्द को दूर भगाइए -

Friday, October 11, 2019

फैशन वीक कल से , जानिए खबर -

Friday, October 11, 2019

पर्यावरणविद चंडी प्रसाद भट्ट को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पुरस्कार -

Friday, October 11, 2019

गाजियाबाद से पिथौरागढ़ हवाई सेवा शुरू, जानिए ख़बर -

Friday, October 11, 2019

अस्पताल ईलाज के दौरान मौत पर ईलाज का भुगतान बिल करे माफ : अपने सपने संस्था -

Friday, October 11, 2019

एक वर्ष में लगाए जायेंगे दस लाख पौधे, जानिए खबर

देहरादून । गाँधी व लाल बहादुर शास्त्री जयंती के अवसर पर सुप्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना, फिल्म निर्मात्री, कवित्री, व्यवसायी, पर्यावरणविद्, समाज सेविका व नमामि गंगे परियोजना की प्रमोटर आरुषि निशंक ने अनोखी मुहीम की शुरुवात की है जिसके तहत वह साल भर में 10 लाख से अधिक पेड़ लगाएंगी। इसके कार्य को सफल बनाने के लिए उन्होंने युवाओं, शिक्षण संस्थाओं, गैर सरकारी संस्थाओं को अपने साथ जोड़ा है। इस मुहीम के तहत सेल्फी विद स्पर्श ट्री कैंपेन भी चलाई जाएगी जिसमें हर एक को एक पेड़ लगा कर या अपने घर में ला कर सेल्फी लेनी है और सोशल मीडिया में प्रोम्नोटे करनी है ताकि अधिक से अधिक लोग तक यह सन्देश जाये और वह इस कार्य में अपनी भागीदारी निभाएं. दिल्ली के यमुनेश्वर घाट, रामघाट और यमुना बाजार घाट से इस अभियान की शुरुवात हुई है। कार्यक्रम में 300 छात्रों के साथ श्री यू पी सिंह, यूनियन वाटर रिसोर्स सेक्रेटरी और रोसी अग्रवाल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर फाइनेंस नमामि गंगे भी उपस्थित थे. इस अभियान में दिल्ली यूनिवर्सिटी के अनेक कॉलेज जिनमें मोती लाल नेहरू कॉलेज, श्याम लाल कॉलेज, दयाल सिंह कॉलेज, शहीद भगत सिंह कॉलेज, कॉलेज ऑफ वोकेशनल स्टडीज, वैंकटेवश्वर कॉलेज, जाकिर हुसैन कॉलेज, रामानुजन कॉलेज व अन्य शामिल हैं। इस कार्य को सफल बनाने के लिए आरुषि अपनी टीम के साथ दिल्ली के अलावा १५ राज्यों में जाएँगी जिनमें उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, हरयाणा आदि शामिल हैं। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक और जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी आरुषि के इस कार्य की सराहना की। इस अभियान पर चर्चा करते हुए आरुषि निशंक ने कहा, ष्आज गाँधी व लाल बहादुर शास्त्री जी की पवन जयंती के मौके पर इस अभियान की शुरुवात करना अपने आप में सौभाग्य है। पेड़ प्रकृति की वो देन है जिसका कोई विकल्प उपलब्ध नहीं है। पेड़ हमारा सबसे घनिष्ठ मित्र है। हमारे द्वारा लगाया गया पेड़ सिर्फ हमें ही लाभ नहीं पहुँचाता बल्कि आने वाली कई पीढ़ियों को लाभ पहुँचाता है। हवा, पानी, खाने-पीने की सामग्री, ईंधन, वस्त्र, जानवरों का चारा अन्य कार्यों में प्रयोग करने के लिए लकड़ी सब हमें पेड़ों से ही मिलता है। पेड़ पर्यावरण से कार्बन डाईऑक्साईड लेकर बदले में ऑक्सीजन देते हैं। आज हम सभी से निवेदन करते हैं की 1 पेड़ लगाएं, अपने घर लाएं और कहा जाये तो एक पेड़ को गोद लें और अपने बच्चे की तरह उसकी देख रेख करें। हमें दिवाली, न्यू ईयर, बर्थडे आदि पर भी पौंधे उपहार में देने चाहिए। आरुषि केंद्र सरकार की नमामि गंगे परियोजना की प्रमोटर हैं और साथ ही साथ हिमालय तथा नदियों की स्वछता अवा संवर्धन के समर्पित अभियान स्पर्श गंगा की राष्ट्रीय संयोजक भी हैं। इसके अलावा इनके द्वारा महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में देश विदेश में अनेक कार्यक्रम आयोजित करती आ रही हैं। आरुषि सुप्रसिद्ध कत्थक गुरु पदम् विभूषण बिरजू महाराज की शिष्या हैं और भारत सरकार के भारत विदेश सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद् की कलाकार हैं. ये एक दर्जन से साधिक देशों में अपनी कत्थक की प्रस्तुति दे चुकी हैं। कत्थक के अलावा आरुषि विगत 10 वर्षों से सामाजिक क्षेत्रों में पर्यावरण संस्करण व संवर्धन, नारी सशक्तिकरण और पवित्र गंगा नदी अवं उसकी सहायक नदियों की स्वछता अवं संरक्षण के कार्यों में संलग्न हैं।

Leave A Comment