Breaking News:

दर – दर भटक रही है अपने बच्चे के साथ यह महिला, जानिए खबर -

Thursday, January 18, 2018

बिग बॉस के इस प्रतिभागी का चेहरा सर्जरी से हुआ खराब, जानिए है कौन -

Thursday, January 18, 2018

प्रदेश में भू कानून में परिवर्तन की मांग को लेकर “हम” का धरना -

Thursday, January 18, 2018

शासकीय योजनाओं का हो व्यापक प्रचार-प्रसार : डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय -

Thursday, January 18, 2018

केंद्रीय वित्तमंत्री के समक्ष सीएम ने रखी ग्रीन बोनस की मांग -

Thursday, January 18, 2018

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह -

Wednesday, January 17, 2018

पर्वतीय राज्यों को मिले 2 प्रतिशत ग्रीन बोनस : सीएम -

Wednesday, January 17, 2018

सिर दर्द हो तो करे यह उपाय …. -

Monday, January 15, 2018

उत्तरायणी महोत्सव में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम -

Monday, January 15, 2018

सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का दिया प्रस्तुतीकरण -

Monday, January 15, 2018

सीएम ने ईको फ्रेण्डली किल वेस्ट मशीन का किया उद्घाटन -

Monday, January 15, 2018

औद्योगीकरण को बढ़ावा देने को लेकर प्रदेश में सिंगल विंडो सिस्टम लागू -

Monday, January 15, 2018

युवा क्रिकेटर के लिए भारतीय तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मांगी मदद -

Sunday, January 14, 2018

कक्षा सात की बालिका ने प्रधानमंत्री के लिए लिखी चिट्ठी, जानिए खबर -

Sunday, January 14, 2018

हरियाली डेवलपमेंट फाउंडेशन ने की गरीब, अनाथ एवं बेसहारा लोगो की मदद -

Sunday, January 14, 2018

रेडिमेड वस्त्रों के 670 सेंटर स्थापित किये जायेंगेः सीएम -

Sunday, January 14, 2018

सीएम ने 14 विकास योजनाओं का किया शिलान्यास -

Saturday, January 13, 2018

एसिड अटैक पीडि़ता कविता बिष्ट महिला सशक्तिकरण की ब्रांड एम्बेसेडर होंगी

kavita

एसिड अटैक पीडि़ता कविता बिष्ट उत्तराखंड में महिला सशक्तिकरण की ब्रांड एम्बेसेडर होंगी। न्यू कैंट रोड़ स्थित सीएम आवास में उत्तराखंड के महिला सशक्तिकरण व बाल विकास विभाग तथा सिडकुल के सहयोग से ‘‘पावर फाउंडेशन’’ द्वारा संचालित जेंडर समानता पर राष्ट्रीय अभियान ‘‘वी मेन फाॅर जैंडर इक्वेलिटी’’ का शुभारम्भ करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भरोसा दिलाया कि ‘‘वी मेन रियली सपोर्ट वूमेन इन उत्तराखंड। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए महिला शिक्षा, महिला स्वास्थ्य, महिलाओं के आर्थिक स्वावलम्बन के साथ ही देश व समाज की मुख्य धारा में महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने पर विशेष तौर फोकस करना होगा। मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि भारतीय समाज व संस्कृति में महिलाओं को सम्मानजनक स्थान दिया है। महिलाओं को मां, देवी व दुर्गा के रूप में देखा गया है। महिलाएं अपने परिवार को मजबूत करने के साथ ही अब समाज व देश को मजबूत करने में योगदान दे रही हैं। जब भी अवसर मिला है महिलाओं ने अपनी योग्यता को सिद्ध किया है। प्रकृति ने महिलाओं को यह अनूठी विशेषता दी है कि महिलाओं को जो भी उत्तरदायित्व सौंपा जाता है उसे वे पूरे परफेक्शन के साथ करती हैं। प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी इसका प्रतीक हैं। मुख्यमंत्री रावत ने एसिड अटैक पीडि़ता कविता बिष्ट के साहस की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने जिस तरह के आत्मविश्वास के साथ संघर्ष किया और आज न केवल स्वावलम्बी हैं बल्कि दूसरी महिलाओं को भी प्रेरित कर रही हैं, वह दुर्गा का ही एक रूप है। उन्होंने राज्य में महिला सशक्तिकरण के लिए कविता बिष्ट को ब्रांड एम्बेसेडर बनाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री रावत ने उपस्थित स्कूली छात्रों, पुलिस के जवानों व अन्य लोगों को महिलाओं का सम्मान करने व महिलाओं पर होने वाले अन्याय का प्रतिकार करने की शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि निश्चित रूप से इस तरह के अभियानों से समाज प्रेरित होगा। उन्होंने राज्य के तेरह जिलों में तेरह डिग्री कालेजों में ‘‘जेंडर समानता’’ पर परिचर्चाएं आयोजित करने को कहा। सीएम ने कहा कि हमें महिला सशक्तिकरण व जेंडर समानता के लिए चार बातों पर फोकस करना होगा। पहला, महिलाओं को शिक्षित करना होगा। समाज में रोल माॅडल के तौर पर काम कर रही महिलाएं काॅलेजों व अन्य स्थानों पर जाकर अन्य महिलाओं में आत्मविश्वास उत्पन्न करें। दूसरा, पोष्टिक तत्वों की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य के लिए काम करने की आवश्यकता है। हमें प्रसन्नता है कि राज्य सरकार की पहल से कुछ जिलों में मातृत्व मृत्यु दर में कमी आई है। तीसरा, महिलाओं के स्किल डेवलपमेंट के माध्यम से उनके आर्थिक स्वावलम्बन पर भी ध्यान देना होगा। चतुर्थ, शासन व निर्णय प्रक्रिया में महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करते हुए विकास की मुख्य धारा में लाना होगा।

Leave A Comment