Breaking News:

स्वामी हंसदेवाचार्य महाराज की अंतिम यात्रा में शामिल हुए सीएम -

Saturday, February 23, 2019

उत्तराखण्ड : प्रदेश में शुरू हुयी सीएम हेल्पलाईन 1905 -

Saturday, February 23, 2019

‘टोटल धमाल’ ने बॉक्स ऑफिस पर किया कमाल, जानिए खबर -

Saturday, February 23, 2019

पाकिस्तान के हर समान का हो बाॅयकाॅटः सतपाल महाराज -

Saturday, February 23, 2019

देहरादून : धरना स्थल बना अवैध पार्किंग -

Saturday, February 23, 2019

करीना कपूर खान बनीं ‘स्वस्थ इम्युनाइज्ड इंडिया’ कैम्पेन की एम्बेसेडर -

Friday, February 22, 2019

बाल मजदूरी कर रहे बच्चे को स्कूल में कराया दाखिला -

Friday, February 22, 2019

राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने शहीद मेजर विभूति व चित्रेश के घर जाकर व्यक्त की संवेदनाएं -

Friday, February 22, 2019

सीएम हेल्पलाईन 1905 बनेगी वरदान, जानिए ख़बर -

Friday, February 22, 2019

उत्तराखण्ड : नमामि गंगे के तहत 1354 करोड रूपए की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास -

Friday, February 22, 2019

उत्तराखण्ड में 5555 करोड़ की एनएच परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास -

Thursday, February 21, 2019

डीएवीपी में उत्तराखंड की वेब पोर्टल्स को दी जाएगी विशेष छूट -

Thursday, February 21, 2019

सुभाष चन्द्र बोस के जन्म दिवस पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें सरकार : जयदीप मुखर्जी -

Thursday, February 21, 2019

मुख्यमंत्री एप पर शिकायत और विशाल को वापस मिली चोरी हुई मोटरसाइकल -

Thursday, February 21, 2019

उत्तराखंड में वेरिफिकेशन के बाद मिलेगा कश्मीरी छात्रों को दाखिलाः मंत्री धन सिंह -

Thursday, February 21, 2019

वर्ल्ड कप 2019 : भारत-पाकिस्तान मैच पर हो सकती है चर्चा? -

Thursday, February 21, 2019

सलमान खान लेंगे कपिल शर्मा के खिलाफ ऐक्शन, जानिए खबर -

Thursday, February 21, 2019

मनाया जा रहा उत्तराखण्ड में वर्ष 2019 रोजगार वर्ष के रूप में, जानिए खबर -

Wednesday, February 20, 2019

दून में फ्लाईओवरों के नाम शहीदों के नाम पर रखे जाएंः यूकेडी -

Wednesday, February 20, 2019

उत्तराखण्ड के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करना सीएम त्रिवेन्द्र की प्राथमिकता, जानिए खबर -

Wednesday, February 20, 2019

कभी चराता था बकरियां आज है कामयाब निशानेबाज , जानिए ख़बर

जब जीवन ने हौसला हो तो यह कहावत  ‘हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती’ सत्य साबित होती है । जी हां हम बात कर रहे है भारत को स्वर्ण पदक दिलाने वाले निशानेबाज जीतू राय का जिनका जिंदगीनामा भी कुछ इसी तरह का रहा है। बचपन से ही दुश्वारियां साये की तरह उनकी जिंदगी में शामिल रहीं लेकिन बकरियां चराते, नेपाल के खेतों में वक्त बिताते हुए वह एक दिन गोल्ड कॉस्ट में कामयाबी की बुलंदी पर पहुंच जाएंगे, आज वह सब जानकर आसानी से यकीन करना मुश्किल सा हो जाता है। जानकारी हो कि जीतू राय भारतीय सेना में सूबेदार हैं। उन्होंने वर्ष 2014 म्यूनिख वर्ल्ड कप में 10 मीटर एयर पिस्टल में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। उसके तुरंत बाद मारिबोर में 50 मीटर एयर पिस्टल में सिल्वर और 10 मीटर एयर पिस्टल में उनको गोल्ड मेडल मिला। उनकी निशानेबाजी की सफलताएं यहीं पर नहीं थमी बल्कि नौ दिनों में उन्होंने तीन मेडल जीतकर अपने नाम कर लिए, साथ ही वर्ल्ड कप में दो मेडल जीतने वाले पहले भारतीय निशानेबाज भी बन गए।

Leave A Comment