Breaking News:

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कमलेश कर रही है 18 सालों से पशु-पक्षियों की मदद , जानिये खबर

pehchan pahal

दिल में जब समाज के प्रति कुछ अलग करने की चाहत हो तो भगवान् भी आप का साथ देता है जी हां ऐसा ही कुछ ख़ास किया है जो उम्र 57 साल, शरीर स्लिप डिस्क के दर्द से परेशान लेकिन बेजुबानों के लिए यह कमलेश का प्यार ही है 17 सालों से लगातार उनकी सेवा में लगी हैं। कमलेश चौधरी अब तक दो हजार से ज्यादा पशु-पक्षियों का इलाज करा चुकी हैं। यही नहीं, वह रोजाना इन्हें खाने से लेकर दवाइयां तक अपने हाथों से खिलाती हैं। इनके जुनून और जज्बे को हर कोई सलाम करता है। बचपन से पशु और पक्षियों को पालने का शौक रखने वाली कमलेश चौधरी (57) अपने परिवार के साथ मॉडल टाऊन स्थित गुजरावालां टाउन-2 में रहती हैं। पति ऋषिपाल चौधरी दिल्ली जलबोर्ड के डायरेक्टर पद से रिटायर्ड हैं। परिवार में बेटा वरुण, बेटी पूजा के अलावा बहू शामभवी हैं। कमलेश बताती हैं कि बेटा, बेटी और बहू तीनों डॉक्टर हैं। घर में भगवान का दिया सबकुछ है। बचपन से पशु और पक्षियों का शौक कब जुनून में बदल गया पता ही नहीं चला। कमलेश ने इसकी शुरुआत साल 2001 से पहाड़गंज स्थित आरामबाग से की थी। यहां 14 साल सेवा करने के बाद सिविल लाइन स्थित कैंप में रहने चली गईं। अब दो सालों से मॉडल टाउन इलाके में पशु-पक्षियों की सेवा में जुटी हैं।

Leave A Comment