Breaking News:

राजनीति नहीं, राष्ट्रनीति में आना चाहता हूँः अमर सिंह -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड के 90 प्रतिशत गांवो में इन्टरनेट कनेक्टिविटी जल्द -

Tuesday, January 15, 2019

डाॅ. सुजाता संजय फॉग्सी वीमेन एम्पावरमेंट अवार्ड से सम्मानित -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड में 10 प्रतिशत आर्थिक आरक्षण जल्द लागू: मुख्यमंत्री -

Tuesday, January 15, 2019

द्रोणनगरी में निकली भगवान जगन्नाथ की भव्य रथयात्रा -

Monday, January 14, 2019

शिक्षा विभाग के खिलाफ शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा नेखोला मोर्चा -

Monday, January 14, 2019

इस वर्ष प्रदेश के सभी गांव जुड़ेंगे सड़क मार्ग से, जानिए ख़बर -

Monday, January 14, 2019

इमरान हाशमी के नन्हे बेटे ने जीती कैंसर से जंग,जानिए खबर -

Monday, January 14, 2019

राज्यपाल ने सड़क दुर्घटनाओं पर जतायी चिन्ता -

Monday, January 14, 2019

ऋषिकेश पहुंची स्वस्थ भारत साइकिल यात्रा, टीएचडीसी ने किया स्वागत -

Sunday, January 13, 2019

केदारधाम ओढ़ी बर्फ की चादर, कार्य प्रभावित -

Sunday, January 13, 2019

वेब मीडिया एसोसिएशन : उत्तराखण्ड राज्य कार्यकारिणी का हुआ गठन -

Sunday, January 13, 2019

भारतीय टीम में हार्दिक पंड्या,राहुल की जगह इन खिलाड़ियों को मिला मौका -

Sunday, January 13, 2019

3 साल से गायब हैं ‘मुन्नाभाई’ के ऐक्टर ,जानिए खबर -

Sunday, January 13, 2019

पीआरएसआई देहरादून चैप्टर ने स्वस्थ भारत यात्रा अभियान के अंतर्गत सक्रिय भागीदारी निभाई -

Saturday, January 12, 2019

पूर्व सीएम हरीश रावत ने ‘मशरूम व खिचड़ी सक्रांत पार्टी’ का किया आयोजन -

Saturday, January 12, 2019

भारतीय हिमालय क्षेत्र से पलायन पर शोध पुस्तक की समीक्षा -

Saturday, January 12, 2019

जल्द रिलीज होगी जॉन अब्राहम की ‘रोमियो अकबर वॉटर’ -

Saturday, January 12, 2019

IND vs AUS: महेंद्र सिंह धोनी ने छुआ खास मुकाम,जानिए खबर -

Saturday, January 12, 2019

सात साहित्यकारों को मिला सारस्वत सम्मान, उत्तराखण्ड के युवा कवि एवम सम्पादक राज शेखर भट्ट भी हुए सम्मानित -

Saturday, January 12, 2019

कश्मीर पर UN की रिपोर्ट को भारत ने किया खारिज

भारत ने जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार के हनन को लेकर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है. भारत ने यूएन की इस रिपोर्ट पर कड़ी आपत्त‍ि जताई है. विदेश मंत्रालय ने इस रिपोर्टो का तीखा जवाब देते हुए कहा है कि ये तथ्यात्मक रूप से गलत, किसी खास मकसद से और शरारत के तहत है. हम इस रिपोर्ट की मंशा पर सवाल उठाते हैं. मंत्रालय ने कहा कि इसमें ऐसी जानकारी दी गई है जिसका कोई आधार ही नहीं है. ये रिपोर्ट भेदभाव वाली और भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के खिलाफ है. भारत ने कहा कि यह भी चिंता की बात है कि इस रिपोर्ट में यूएन से घोषित आतंकवादियों को नेता और हथियारबंद गुट कहा गया है.  रिपोर्ट को काफी हद तक अपुष्ट सूचना को चुनिंदा तरीके से एकत्र करके तैयार किया गया है. पूरे जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है. पाकिस्तान ने भारत के इस राज्य के एक हिस्से पर अवैध और जबरन कब्जा कर रखा है. संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) ने जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालात और कथित मानव अधिकारों के उल्लंघन पर पहली बार अपनी रिपोर्ट जारी की है. यह रिपोर्ट पाक अधिकृत कश्मीर के बारे में भी है. बता दें कि संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर दोनों में कथित मानवाधिकार उल्लंघन पर अपनी तरह की पहली रिपोर्ट गुरुवार को जारी की और इन उल्लंघनों की अंतरराष्ट्रीय जांच कराने की मांग की. वैश्विक मानवाधिकार निगरानी संस्था ने पाकिस्तान को शांतिपूर्ण कार्यकर्ताओं के खिलाफ आतंक रोधी कानूनों का दुरूपयोग रोकने और असंतोष की आवाज के दमन को भी बंद करने को कहा. रिपोर्ट में कहा गया है कि मानवाधिकार उल्लंघन की अतीत की और मौजूदा घटनाओं के तुरंत समाधान की जरूरत है. इसमें कहा गया है, ‘कश्मीर में राजनीतिक स्थिति के किसी भी समाधान में हिंसा का चक्र रोकने के संबंध में प्रतिबद्धता और पूर्व में व मौजूदा मानवाधिकार उल्लंघनों को लेकर जवाबदेही होनी चाहिए. नियंत्रण रेखा के दोनों तरफ लोगों पर नुकसानदेह असर पड़ा है और उन्हें मानवाधिकार से वंचित किया गया या सीमित किया गया.’ रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 1980 के दशक के अंत से जम्मू कश्मीर राज्य में विभिन्न तरह के हथियारबंद समूह सक्रिय हैं. भारतीय सुरक्षा बलों के हाथों हिज्बुल मुजाहिद्ददीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में अप्रत्याशित विरोध प्रदर्शन का भी जिक्र रिपोर्ट में किया गया है. इस तरह के प्रत्यक्ष सबूत हैं कि इन समूहों ने आम नागरिकों का अपहरण और उनकी हत्याएं , यौन हिंसा सहित विभिन्न तरह से मानवाधिकारों का उल्लंघन किया है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इन समूहों को किसी भी तरह के समर्थन से पाकिस्तान सरकार के इनकार के दावों के बावजूद विशेषज्ञों का मानना है कि पाकिस्तानी सेना नियंत्रण रेखा के पार कश्मीर में उनकी गतिविधियों में सहयोग करती है. रिपोर्ट में सशस्त्र बल (जम्मू कश्मीर) विशेषाधिकार कानून, 1990 को तुरंत निरस्त करने और मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपी सुरक्षा बलों के खिलाफ अदालतों में मुकदमा चलाने के लिए केंद्र सरकार से पूर्व की अनुमति की बाध्यता को भी हटाने की मांग की गयी है.

Leave A Comment