Breaking News:

उत्तराखंड : निकाय चुनाव का मतदान 18 नवंबर को -

Monday, October 15, 2018

व्यंग्यः कितना दर्द दिया मीटू के टीटू ने…..! -

Monday, October 15, 2018

टिहरी गढ़वाल के बंगसील स्कूल में सफाई अभियान की अनोखी पहल -

Monday, October 15, 2018

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

राज्यपाल ने किया पंतनगर विश्वविद्यालय एवं जी.जी.आई.सी.का भ्रमण -

Saturday, October 13, 2018

मिस बॉलीवुड के लिए कॉम्पीटिशन का आयोजन -

Saturday, October 13, 2018

उद्यमी के घर पर भीड़ ने किया हमला -

Saturday, October 13, 2018

उत्तराखण्ड व हरियाणा के मध्य जल्द बहुद्देशीय परियोजनाओं के सम्बन्ध में एमओयू -

Saturday, October 13, 2018

दो दशक के बाद भारत और चीन के बीच फुटबॉल मैच -

Saturday, October 13, 2018

14 अक्टूबर को हाम्रो दशैं कार्यक्रम का भव्य आयोजन -

Friday, October 12, 2018

कश्मीर में बेडरूम जिहादी एक्टिव

Security-agencies-have-expressed

श्रीनगर। कश्मीर में सिक्युरिटी एजेंसियों एक नई चुनौती का सामना कर रही है। यह है बेडरूम जिहादी। ये सोशल मीडिया के इस्तेमाल में माहिर हैं। ये अपने घरों में आराम से बैठकर न सिर्फ अफवाहें फैलाते हैं बल्कि घाटी के नौजवानों को भी भड़काते हैं। सिक्युरिटी एजेंसियों को डर है कि ये नए किस्म के जिहादी इसी महीने शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा से पहले सोशल मीडिया के जरिये साम्प्रदायिक दंगे भड़का सकते हैं। वरिष्ठ अधिकारियों की मानें तो यही नया युद्ध क्षेत्र है और यही नई लड़ाई है। लेकिन यह लड़ाई पारंपरिक हथियारों से परंपरागत युद्ध क्षेत्रों में नहीं लड़ी जा रही बल्कि नए दौर के जिहादी युद्ध छेडने के लिए कंप्यूटरों और स्मार्टफोनों का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसा वह कहीं से भी, कश्मीर के भीतर और बाहर, अपने घर में सुरक्षित बैठे हुए या सड़क पर, नजदीक के कैफे या फुटपाथ पर कहीं से भी कर सकते हैं। न्यूज एजेंसी के मुताबिक सीनियर अफसरों का कहना है, ष्इन जिहादियों ने सोशल मीडिया को एक नए किस्म का बैटलग्राउंड बना लिया है। इन्हें लड़ने के लिए परंपरागत हथियारों की जरूरत नहीं है और न ही ज्यादा जगह की। ये नए जिहादी जंग छेड़ने के लिए कम्प्यूटर और स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं। ये अपने घरों, कश्मीर या बाहर कहीं भी सुरक्षित बैठकर अपनी साजिशों को अंजाम दे सकते हैं। ये सड़कों के किनारे भी बैठे हो सकते हैं या पास के किसी साइबर कैफे में भी। सिक्युरिटी एजेंसियां 29 जून से शुरू होने वाली और 40 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा को लेकर चिंतित हैं। इस बात की आशंका है कि यात्रा से पहले या उसके दौरान वॉट्सऐप, फेसबुक और ट्विटर के जरिये नए जिहादियों का ग्रुप घाटी में साम्प्रदायिक दंगे भड़का सकता है। एक सीनियर पुलिस अफसर ने कहा, ष्ये एक वर्चुअल बैटलग्राउंड है, जहां शब्दों को हथियार बनाकर युद्ध लड़ा जाता है। यंग माइंड्स पर इसका असर पड़ता है। सोफे या बेड पर बैठा कोई भी शख्स हजारों चैट ग्रुप्स में कोई खबर प्लांट कर सकता है जिससे पूरा राज्य साम्प्रदायिक दंगों की चपेट में आ सकता है। जम्मू हो सकता है अफवाहों का शिकार कई अफसर यह महसूस करते हैं कि जम्मू अगले कुछ दिनों में अफवाहों का शिकार हो सकता है और अथॉरिटीज के पास इससे निपटने के लिए बेहद कम वक्त है। सोशल चैट ग्रुप्स सिर्फ जम्मू-कश्मीर में ही एक्टिव नहीं हैं। ये दिल्ली, देश के बाकी हिस्सों और यहां तक कि विदेशों से भी राज्य के लोगों से कॉन्टैक्ट में हैं। अफसर हाल की एक घटना का एग्जाम्पल देते हुए बताते हैं कि छिपे हुए दुश्मन से निपटना कितना मुश्किल है। वे कहते हैं कि कश्मीरी पंडित कम्युनिटी का एक कॉन्स्टेबल लापता हो गया था। उसकी बॉडी नॉर्थ कश्मीर के कुपवाड़ा में बरामद हुई थी। इस मामले में जांच शुरू होने से पहले ही कम्युनिटी के लोगों ने सोशल मीडिया पर यह पोस्ट कर दिया कि कॉन्स्टेबल को आतंकियों ने किडनैप किया था और वह शहीद हुआ है। लेकिन बाद में एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि कॉन्स्टेबल के एक साथी ने ही उसका मर्डर किया था।

Leave A Comment