Breaking News:

उत्तराखंड सरकार की हाईकोर्ट ने की तारीफ -

Monday, December 11, 2017

शादीशुदा जोड़ों का अनोखा शो ‘‘आपकी खूबसूरती उनकी नज़र से’’ -

Monday, December 11, 2017

जज्बा हो तो सब मुमकिन है, जानिये खबर -

Monday, December 11, 2017

जन क्रांति विकास मोर्चा ने ड्रग माफियाओं का फूंका पुतला -

Monday, December 11, 2017

गरीब बच्चो का हक न मारे रावत सरकार : आम आदमी पार्टी -

Monday, December 11, 2017

पर्वतीय क्षेत्र में विकास मील का पत्थर होगा साबित : मुख्यमंत्री -

Monday, December 11, 2017

मैड संस्था ने नगर निगम को सुझाया साफ़ सफाई रूपी “रास्ते” -

Monday, December 11, 2017

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

कश्मीर में बेडरूम जिहादी एक्टिव

Security-agencies-have-expressed

श्रीनगर। कश्मीर में सिक्युरिटी एजेंसियों एक नई चुनौती का सामना कर रही है। यह है बेडरूम जिहादी। ये सोशल मीडिया के इस्तेमाल में माहिर हैं। ये अपने घरों में आराम से बैठकर न सिर्फ अफवाहें फैलाते हैं बल्कि घाटी के नौजवानों को भी भड़काते हैं। सिक्युरिटी एजेंसियों को डर है कि ये नए किस्म के जिहादी इसी महीने शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा से पहले सोशल मीडिया के जरिये साम्प्रदायिक दंगे भड़का सकते हैं। वरिष्ठ अधिकारियों की मानें तो यही नया युद्ध क्षेत्र है और यही नई लड़ाई है। लेकिन यह लड़ाई पारंपरिक हथियारों से परंपरागत युद्ध क्षेत्रों में नहीं लड़ी जा रही बल्कि नए दौर के जिहादी युद्ध छेडने के लिए कंप्यूटरों और स्मार्टफोनों का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसा वह कहीं से भी, कश्मीर के भीतर और बाहर, अपने घर में सुरक्षित बैठे हुए या सड़क पर, नजदीक के कैफे या फुटपाथ पर कहीं से भी कर सकते हैं। न्यूज एजेंसी के मुताबिक सीनियर अफसरों का कहना है, ष्इन जिहादियों ने सोशल मीडिया को एक नए किस्म का बैटलग्राउंड बना लिया है। इन्हें लड़ने के लिए परंपरागत हथियारों की जरूरत नहीं है और न ही ज्यादा जगह की। ये नए जिहादी जंग छेड़ने के लिए कम्प्यूटर और स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं। ये अपने घरों, कश्मीर या बाहर कहीं भी सुरक्षित बैठकर अपनी साजिशों को अंजाम दे सकते हैं। ये सड़कों के किनारे भी बैठे हो सकते हैं या पास के किसी साइबर कैफे में भी। सिक्युरिटी एजेंसियां 29 जून से शुरू होने वाली और 40 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा को लेकर चिंतित हैं। इस बात की आशंका है कि यात्रा से पहले या उसके दौरान वॉट्सऐप, फेसबुक और ट्विटर के जरिये नए जिहादियों का ग्रुप घाटी में साम्प्रदायिक दंगे भड़का सकता है। एक सीनियर पुलिस अफसर ने कहा, ष्ये एक वर्चुअल बैटलग्राउंड है, जहां शब्दों को हथियार बनाकर युद्ध लड़ा जाता है। यंग माइंड्स पर इसका असर पड़ता है। सोफे या बेड पर बैठा कोई भी शख्स हजारों चैट ग्रुप्स में कोई खबर प्लांट कर सकता है जिससे पूरा राज्य साम्प्रदायिक दंगों की चपेट में आ सकता है। जम्मू हो सकता है अफवाहों का शिकार कई अफसर यह महसूस करते हैं कि जम्मू अगले कुछ दिनों में अफवाहों का शिकार हो सकता है और अथॉरिटीज के पास इससे निपटने के लिए बेहद कम वक्त है। सोशल चैट ग्रुप्स सिर्फ जम्मू-कश्मीर में ही एक्टिव नहीं हैं। ये दिल्ली, देश के बाकी हिस्सों और यहां तक कि विदेशों से भी राज्य के लोगों से कॉन्टैक्ट में हैं। अफसर हाल की एक घटना का एग्जाम्पल देते हुए बताते हैं कि छिपे हुए दुश्मन से निपटना कितना मुश्किल है। वे कहते हैं कि कश्मीरी पंडित कम्युनिटी का एक कॉन्स्टेबल लापता हो गया था। उसकी बॉडी नॉर्थ कश्मीर के कुपवाड़ा में बरामद हुई थी। इस मामले में जांच शुरू होने से पहले ही कम्युनिटी के लोगों ने सोशल मीडिया पर यह पोस्ट कर दिया कि कॉन्स्टेबल को आतंकियों ने किडनैप किया था और वह शहीद हुआ है। लेकिन बाद में एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि कॉन्स्टेबल के एक साथी ने ही उसका मर्डर किया था।

Leave A Comment