Breaking News:

निओ विज़न संस्था पिछले 8 वर्षों से गरीब बच्चों को दे रहा निःशुल्क शिक्षा -

Sunday, January 19, 2020

यश वर्मा शतक बनाने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बने, जानिए खबर -

Sunday, January 19, 2020

जरा हटके : छोटे नोट भी बना सकते है आप को लखपति, जानिए खबर -

Saturday, January 18, 2020

सफलता : ठगी में नाइजीरियन समेत दो गिरफ्तार -

Saturday, January 18, 2020

जरूरतमंद विद्यार्थियों को ट्रैक सूट वितरित -

Saturday, January 18, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने पीएम मोदी से की भेंट, जानिए खबर -

Saturday, January 18, 2020

डब्लयूआईसी ने मनाया रस्किन बॉन्ड के कार्यों का जश्न -

Saturday, January 18, 2020

सीएम त्रिवेंद्र दिल्ली में केन्द्रीय मंत्रियों से की मुलाकात, जानिए खबर -

Friday, January 17, 2020

75 हजार घूस लेते पकड़ा गया यूपीसीएल का जेई -

Friday, January 17, 2020

जल्द खत्म होगा आदमखोर गुलदार का आतंक, जानिए खबर -

Friday, January 17, 2020

माँ गंगा के तट पर होगा माँ बगलामुखी महायज्ञ, जानिए खबर -

Friday, January 17, 2020

सुगंधित हुआ दून हाट, जानिए खबर -

Friday, January 17, 2020

छात्रों के बनाये डिजाइन ड्रेस को जेल के कैदियों के साथ की जाएगा साझा, जानिए खबर -

Thursday, January 16, 2020

उत्तराखंड : ड्रोन से होगी मगरमच्छ और घड़ियाल की गणना -

Thursday, January 16, 2020

गंगा में अमिताभ बच्चन की समधिन रितु नंदा की अस्थियां विसर्जित -

Thursday, January 16, 2020

उत्तराखंड : बंशीधर भगत बने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष -

Thursday, January 16, 2020

कार खाई में गिरी, पांच की मौत -

Thursday, January 16, 2020

उत्तराखंड: तीन दिन भारी बारिश और ओलावृष्टि की सम्भावना, जानिए खबर -

Wednesday, January 15, 2020

सराहनीय : आईपीएस अफसर ने अपनी बेटी का आंगनबाड़ी में कराया दाखिला -

Wednesday, January 15, 2020

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी एवं सीएम त्रिवेन्द्र ने नवी मुम्बई में ‘‘उत्तराखण्ड भवन‘‘ का किया लोकार्पण -

Wednesday, January 15, 2020

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार !

देहरादून । उत्तराखंड की राजनीति में एक बार फिर हलचल शुरु हो गई है। प्रदेश में अब अगला चुनाव 2022 में विधानसभा के लिए होना है और इसे लेकर कांग्रेस में खदबदाहट शुरु हो गई है। 2016 में सत्तासीन पार्टी को झटका देने वाले और तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत की सरकार को गिराने वाले नेताओं के लिए भी पार्टी के दरवाजे खुल गए हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि अब तक सीबीआई केस में गिरफ्तारी की आशंका के बीच झूल रहे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी पुराने गिले-शिकवे मिटाने को तैयार हैं। उत्तराखंड में सबसे खराब स्थिति में पहुंच गई कांग्रेस के पास 11 से ज्यादा विधायक होते अगर 2016 में 10 नेता बगावत कर पार्टी न छोड़ते। माना जाता है कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के लिए यह निजी झटका था लेकिन 2017 में ऐतिहासिक हार झेलने वाले रावत अब पुरानी बातों को दफन करने को तैयार हैं लेकिन शर्तों के साथ। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि गिले-शिकवे तो रहेंगे ही लेकिन पार्टी की भलाई के लिए नाराजगी को साइड करने के लिए भी वह तैयार हैं। हालांकि हरीश रावत इसके लिए एक शर्त भी रखते हैं और वह शर्त है समय की, रावत कहते हैं कि अभी, जबकि पार्टी को मजबूत बनाने की जरूरत है, तब जो आएगा उसका स्वागत होगा। बाद में जब सारे संकट गुजर जाएंगे तब आने का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। हरीश रावत तो बागियों को माफ करने को तैयार हैं लेकिन पार्टी के युवा नेता इसमें बहुत इच्छुक नजर नहीं आते। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी कहते हैं कि पार्टी को संकट में डालने वालों को कभी माफ नहीं करना चाहिए। वह आशा जताते हैं कि पार्टी आलाकमान कोई भी फैसला लेते समय स्थानीय कार्यकर्ताओं की भावनाओं का ध्यान जरूर रखेगा।

Leave A Comment