Breaking News:

108 सेवा : आधा दर्जन आंदोलनरत कर्मियों की तबीयत बिगड़ी -

Wednesday, May 22, 2019

मिसेज इंडिया प्रतियोगिता का देहरादून में हुआ ऑडिशन -

Wednesday, May 22, 2019

शर्मसार : शिक्षक ने पांचवीं की छात्रा के साथ किया दुष्कर्म -

Wednesday, May 22, 2019

ऑक्‍सिजन की नली के साथ 300 किलोमीटर दूर वोट डालने पहुंची महिला -

Wednesday, May 22, 2019

वर्ल्ड कप से पहले पब्जी खेलते दिखे टीम इंडिया के खिलाड़ी -

Wednesday, May 22, 2019

भंसाली की फिल्म ‘मलाल’ का ट्रेलर लॉन्च ले गए 6 साल पीछे , जानिए ख़बर -

Wednesday, May 22, 2019

पुण्यतिथि पर याद किए गए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी -

Tuesday, May 21, 2019

एक जून से फूलों की घाटी का दीदार, जानिए खबर -

Tuesday, May 21, 2019

गवर्नर्स कप गोल्फ प्रतियोगिता 24 मई से होगी प्रारम्भ -

Tuesday, May 21, 2019

भारत के विश्व कप में महेंद्र सिंह धोनी की भूमिका बहुत बड़ी : रवि शास्त्री -

Tuesday, May 21, 2019

पुरे जोश में नजर आयी फिल्म ’83’ की टीम,जानिए ख़बर -

Tuesday, May 21, 2019

केदार यात्रा में घोड़े-खच्चर संचालकों ने मचाई लूट -

Tuesday, May 21, 2019

धूमधाम से मना एसएन मैमोरियल स्कूल का वार्षिकोत्सव ’नवरस’ -

Monday, May 20, 2019

अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी नहीं रखने होंगे साथ, जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

उत्तराखंड बोर्ड का 10वीं व 12वीं का रिजल्ट 30 मई को -

Monday, May 20, 2019

अटल आयुष्मान योजना के मरीजों से अवैध वसूली पर होगी कार्यवाही -

Monday, May 20, 2019

पाकिस्तानी क्रिकेटर की 2 वर्षीय बेटी का कैंसर से निधन -

Monday, May 20, 2019

‘लाल कप्तान ‘ का फर्स्ट लुक रिलीज,जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

जब तक शरीर साथ देगा तब तक लिखता रहूंगाः रस्किल बांड -

Sunday, May 19, 2019

स्थाई राजधानी बनाये जाने की मांग को लेकर धरना जारी रखा, जानिए खबर -

Sunday, May 19, 2019

कुल्हड़ में गोबर से बिजली किया पैदा

गोबर गैस प्लांट से बिजली बनाना तो सबको मालूम है. लेकिन कुल्हड़ में गोबर से बिजली पैदा करने का अनोखा प्रयोग हो रहा है, बाराबंकी जिले के एक गॉव में. यह गाँव है पूरेझाम तिवारी जो सुलतानपुर रोड पर हैदरगढ़ कस्बे से पाँच किलोमीटर की दूरी पर है. यह प्रयोग शुरू किया है एक युवा किसान ब्रजेश त्रिपाठी ने, जिनकी शैक्षिक योग्यता ‘इंटर पास, बीए इनकम्पलीट (यानी अधूरा) है.’ ग्राम पूरेझाम के खेतों से बिजली की बड़ी लाइन गुजरती है. गाँव में बिजली देने के लिए कुछ साल पहले खंभे भी गड़ गए थे. लेकिन न तार खिंचे, न बिजली आई. राशन की दूकान से मिट्टी तेल महीने में प्रति परिवार केवल दो लीटर मिलता है. इसीलिए रोशनी का इंतज़ाम एक मुश्किल काम है. ब्रजेश त्रिपाठी का कहना है, “करीब दो महीने पहले मैंने पेपर में पढ़ा था कि ऐसा हो सकता है. उसको प्रैक्टिकल करके देखा तो लाइट जल गई, जल गई तो फिर बाजा भी लगाकर देखा गया कि जब लाइट जली तो बाजा भी चलना चाहिए.”

Leave A Comment