Breaking News:

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया जनता से संवाद, जानिए खबर -

Sunday, May 31, 2020

प्रदेश में खेती को व्यावसायिक सोच के साथ करने की आवश्यकताः सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, May 31, 2020

अनलॉक के रूप में लॉकडाउन , जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 749 -

Saturday, May 30, 2020

रहा है भारतीय पत्रकारिता का अपना एक गौरवशाली इतिहास -

Saturday, May 30, 2020

केदारनाथ धाम : छः लाख पचास हजार से अधिक श्रद्धालु टेक चुके हैं मत्था

dhaam

रुद्रप्रयाग। बारिश का सिलसिला थमने के बाद केदारनाथ की दूसरे चरण की यात्रा शुरू हो गयी है। विगत दस सितम्बर से भोले के दरबार में तीर्थयात्रियों की आमद बढ़ती जा रही है, जहां पहले बारिश के कारण कम तीर्थयात्री ही बाबा के दरबार पर पहुंच रहे थे, वहीं अब हर दिन एक हजार के करीब तीर्थयात्री बाबा के दरबार में पहुंच रहे हैं। हेली सेवाओं के आने के बाद से केदारघाटी में यात्रियों की आवाजाही बढ़ी है। केदारघाटी में मौसम के करवट बदलते ही यात्रा भी परवान चढ़ने लगी है। सुबह के समय घाटी में चटक धूप खिल रही है, जिसके बाद हेली सेवा के जरिये तीर्थयात्री केदारनाथ पहुंच रहे हैं। इसके अलावा राजमार्ग से भी तीर्थयात्रियों की आवाजाही हो रही है, लेकिन राजमार्ग के हालत खस्ता होने से तीर्थयात्री खासे परेशान हैं। ऐसे में राजमार्ग से आने वाले तीर्थयात्रियों को खासी दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है। हेली सेवाओं से यात्रा करने वाले तीर्थयात्री सुबह जाकर सांय को वापस लौट रहे हैं। यात्रियों की आवाजाही बढ़ने से केदारनाथ धाम भी गुलजार होने लगा है। धाम में यात्रियों की आवाजाही से रौनक लौट आई है। हर दिन एक हजार से अधिक तीर्थयात्री बाबा के दरबार में पहुंच रहे हैं। देश-विदेश से आये तीर्थयात्रियों को बस बाबा के पास जाने का इंतजार है। मौसम के खराब होने पर तीर्थयात्रियों के चेहरों पर मायूसी देखी जा रही है, मगर जैसे ही मौसम साफ हो रहा है, यात्रियों के चेहरों पर रौनक लौट रही है। केदारघाटी और केदारनाथ में मौसम कब बदल जाय, कहा नहीं जा सकता। सुबह के समय चटक धूप केदारघाटी में रहती है तो दोपहर में बादल छाने लगते हैं। इसके बाद बाद सांय के समय फिर बादल हट जाते हैं। ऐसे में हेली सेवाएं कंपनी सुबह छः बजे से सेवाएं दे रही हैं और एक बजे तक सेवा देने के बाद फिर चार से छः बजे तक हेली उड़ाने भर रही है। अब तक बाबा केदार के दरबार में 6 लाख 50 हजार से अधिक तीर्थयात्री मत्था टेक चुके हैं। यात्रियों के आने से व्यापारियों के चेहरे भी खिल उठे हैं। गुजरात से आये राहुल, सूरज, आकाश, शिव ने कहा कि वे पहली बार अपने गु्रप के साथ केदारनाथ की यात्रा पर आये हैं। केदारघाटी में आने के बाद शेरसी से हेली सेवा की बुकिंग कर केदारनाथ पहुंचे। उन्होंने कहा कि बाबा का धाम पवित्र और अद्भुत है। यहां आकर मन को शांति की प्राप्ति होती है। बताया कि देहरादून से फाटा तक का सफर राजमार्ग से तय किया गया। राजमार्ग के हालत काफी नाजुक हैं। जब से आॅल वेदर का कार्य शुस् किया गया है, तब से काफी दिक्कतें पैदा हो रही हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड काफी सुंदर राज्य है। वहीं हेली सेवा के नोडल अधिकारी सुरेन्द्र पंवार ने बताया कि केदारघाटी में आर्यन, ऐरो, हिमालयन, ग्लोबल चार हेली सेवा कंपनी सेवाएं दे रही हैं। 15 सितम्बर तक पांच और हेली सेवा कंपनी केदारघाटी में पहुंच जायेंगी, जिनमें पिनेकल, ट्रांस भारत, पवन हंस, यू टेयर, हैरिटेज शामिल हैं। उन्होंने बताया कि हेली सेवाओं के आने के बाद से यात्रा में काफी इजाफा हुआ है। तीर्थयात्रियों को हेली सेवा से काफी राहत मिल रही है। उन्होंने कहा कि केदारघाटी में सुबह और सांय के समय मौसम साफ है, जिससे हेली सेवाएं कंपनी पूरा फायदा उठा रही हैं।

Leave A Comment