Breaking News:

“डीआरएस” में बदलाव की जरूरत : सचिन -

Wednesday, July 15, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3686, आज कुल 78 नए मरीज मिले -

Tuesday, July 14, 2020

ग्रामीण विकास के केंद्र बनेगे रूरल ग्रोथ सेंटर : सीएम त्रिवेंद्र -

Tuesday, July 14, 2020

प्यार एक एहसास…….. -

Tuesday, July 14, 2020

सलमान खान ने शुरू की खेती , जानिए खबर -

Tuesday, July 14, 2020

नाबार्ड ने मनाया अपना 39 वां स्थापना दिवस , जानिए खबर -

Tuesday, July 14, 2020

सम्मान: मां बृजेश्वरी योग माया मंदिर ट्रस्ट द्वारा सचिन आनंद को किया गया सम्मानित -

Tuesday, July 14, 2020

“आईआईटीटी” ने ऑनलाइन इंटरनेशनल कांफ्रेंस और वेबिनार का किया आयोजन -

Monday, July 13, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3608, आज कुल 71 नए मरीज मिले -

Monday, July 13, 2020

आत्मनिर्भर भारत में पंचायतों की महत्वपूर्ण भूमिका: सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, July 13, 2020

पुलिस की यह वर्दी तुम्हारे बाप की गुलामी करने के लिए नहीं पहनी है…. -

Monday, July 13, 2020

उत्तरांचल पंजाबी महासभा महानगर युवा इकाई अध्यक्ष बने सन्तोष नागपाल -

Monday, July 13, 2020

खिलाड़ी वित्तिय तौर पर मजबूत हो : फेडरर -

Monday, July 13, 2020

अभिनेत्री रेखा का बंगला सील, जानिए क्यों -

Monday, July 13, 2020

कोरोना योद्धा : भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड द्वारा विजय कुमार नौटियाल सम्मानित -

Sunday, July 12, 2020

फिल्म के किरदार के लिए सब कुछ न्योछावर कर बैठे “मेजर मोहम्मद अली शाह” , जानिए खबर -

Sunday, July 12, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3537, आज कुल 120 नए मरीज मिले -

Sunday, July 12, 2020

रमाकांत जायसवाल की कैंसर पीड़ित पत्नी की मदद को आगे आये सलमान, जानिए खबर -

Sunday, July 12, 2020

पूर्व डब्ल्यूडब्ल्यूई स्टार जल्द ही मां बनने वाली है, तस्वीरें वायरल -

Sunday, July 12, 2020

जरा हटके : प्रकृति के बीच फैशन शो -

Sunday, July 12, 2020

कैंसर के इलाज एवं न्यूरोलोजिकल उपचार के विभिन्न विकल्पों पर जानकारी

काशीपुर । इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स के वरिष्ठ डॉक्टरों ने कैंसर के इलाज और न्यूरोलोजी के क्षेत्र में हाल ही में हुए विकास कार्यों पर एक सत्र का आयोजन किया, जो अब इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स के मरीजों के लिए उपलब्ध हैं। डॉ प्रवीण गर्ग, सर्जिकल ओंकोलोजिस्ट एवं डॉ रोबिन खोसला, रेडिएशन ओंकोलोेजिस्ट ने आंोकेलोजी के क्षेत्र में हाल ही में हुए विकास कार्यों पर चर्चा की, वहीं डॉ पी.एन. रंजन, न्यूरोलोजिस्ट एवं स्ट्रोक स्पेशलिस्ट ने स्ट्रोक के इलाज में हुए नए विकास कार्यों पर रोशनी डाली तथा गोल्डन आवर के अंदर इलाज के महत्व पर जोर दिया। सत्र के दौरान डाक्टरों ने विभिन्न प्रकार के कैंसर के इलाज एवं न्यूरोलोजिकल उपचार के विभिन्न विकल्पों पर जानकारी दी। डॉ रंजन ने कहा, ‘‘स्ट्रोक के लक्षण पहचानने के बाद समय पर कार्रवाई करना बहुत जरूरी होता है। स्ट्रोक के लक्षणों में शामिल हैं- चेहरे और बाजु में कमजोरी, बोलने में परेशानी, ठीक से देखने में परेशानी। अगर आप इसका समय पर इलाज न किया जाए तो कई मामलों में यह अपंगता का कारण बन सकता है। स्ट्रोक के बाद हर मिनट कीमती होता है और चार घण्टे के अंदर इलाज कर अपंगता की संभावना को कम किया जा सकता है। इमेजिंग के आधुनिक उपकरणों जैसे मल्टी-मॉडल एमआरई और सीटी ब्रेन और परफ्यूजन इमेजिंग के द्वारा तय किया जा सकता है कि मरीज को अडवान्स्ड क्लॉट बस्टिंग या हाइपर-एक्यूट स्ट्रोक पाथवे के द्वारा क्लॉट रीट्रिवल प्रक्रिया से फायदा होगा। क्लॉट को घोलने वाली दवाएं क्लॉट को घोल कर खून के प्रवाह को फिर से सामान्य कर देती हैं।’’डॉ रंजन ने स्ट्रोक के इलाज के आधुनिक तरीकों पर बात करते हुए कहा, ‘‘अगर क्लॉट इतना बड़ा हो कि इंटरावेनस थ्रोम्बोलाइटिक द्वारा इसका इलाज न किया जा सके तो इसके लिए नए तरीके जैसे क्लॉट रीट्रिवल प्रक्रिया को अपनाया जाता है। डॉ प्रवीण गर्ग ने कहा, ‘‘उत्तराखण्ड में 2014 से 2016 के बीच कैंसर के मामलों की संख्या 10.15 फीसदी बढ़ी है, यह आंकड़ा राष्ट्रीय औसत 9.2 फीसदी से अधिक है। तंबाकू और शराब के बढ़ते सेवन के कारण पहाड़ों पर मुख और फेफड़ों के कैंसर के मामले अधिक पाए जाते हैं। 2016 के आईसीएमआर आंकड़े दर्शाते हैं कि उत्तराखण्ड में कैंसर के हर चार मामलों में से एक का कारण तंबाकू है। रोग की रोकथाम केे लिए जल्द निदान सबसे अच्छा समाधान है, जिसके लिए नियमित रूप से जांच कराना महतवपूर्ण है, समय पर निदान के द्वारा इलाज जल्दी शुरू होता है और मरीज के जीवित रहने की संभावना बढ़ जाती है। आज बायोप्सी एवं रेडियोग्राफी के अलावा निदान के कई आधुनिक तरीके भी उपलब्ध हैं, जिनके द्वारा कैंसर की स्टेज और मरीज के जीवित रहने की संभावना का अनुमान लगाया जा सकता है।’’डॉ गर्ग और डॉ खोसा ने कैंसर के बढ़ते मामलों के खतरे को देखते हुए हाल ही में चिकित्सा जगत की आधुनिक तकनीकों पर जानकारी दी, गौरतलब है कैंसर आज सबसे आज गैर-संचारी रोगों की सूची में सबसे आम बीमारी है और भारत में मृत्यु एवं रूग्ण्ता का मुख्य करण बन चुका है। डॉ खोसा ने बताया कि कैसे रेडिएशन टेक्नोलॉजी मुश्किल ट्यूमर तक पहुंचने में भी मददगार साबित हो सकती है। डॉ रोबिन खोसा ने कैंसर के इलाज में हुए आधुनिक विकास कार्यों जैसे इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स में टोमोथेरेपी तथा अपोलो प्रोटोन कैंसर सेंटर में प्रोटोन बीन थेरेपी के बारे में जानकारी दी, जिसने आधुनिक पेंसिल बीम स्कैनिंग तकनीक के साथ कैंसर की देखभाल की देखभाल के क्षेत्र में नए मार्ग प्रशस्त किए हैं, और इलाज में उच्चतम सटीकता को सुनिश्चित किया है।

Leave A Comment