Breaking News:

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

मीका सिंह को छेड़छाड़ मामले में कोर्ट में पेश किए जाएंगे -

Friday, December 7, 2018

सड़क पर बच्चे का जन्म, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गन्ना किसानों का बकाया भुगतान जल्द, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

फैशन में करियर की अपार संभावनाएंः पूर्व मिस इंडिया इको ख्याती -

Thursday, December 6, 2018

उत्तराखंड : 1111 पुरूष व महिला होमगार्डस की नई भर्तियां जल्द -

Thursday, December 6, 2018

उत्तराखंड : जिलाधिकारियों के पाले में केदारनाथ फिल्म की रिलीज -

Thursday, December 6, 2018

गौतम गंभीर कोटला पर आखिरी बार थामेंगे बल्ला -

Thursday, December 6, 2018

खनन को लेकर स्वामी शिवानन्द के आरोप बेबुनिाद : जिलाधिकारी हरिद्वार

DM-HARIDWAR

जिलाधिकारी एच.सी.सेमवाल ने कहा कि जनपद में खनन से सम्बन्धित समस्त कार्य शासन द्वारा निर्धारित नियमों के तहत किया जा रहा है। मातृसदन के स्वामी शिवानन्द का यह आरोप है कि समतलीकरण के नाम पर 100 करोड़ रूपये के वारे-न्यारे किये गये हैं और एक भी पैसा राजकोष में जमा नहीं किया गया है। इस सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि कृषकों को अपनी भूमि कृषि योग्य बनाये जाने के लिए अनुमति प्रदान की गई थी, जिनमें रायल्टी के रूप में 7340065 रूपये राजकोष में जमा कराये गये तथा जनपद में भारी वर्षा होने तथा गंगा एवं सहायक नदियों के जलस्तर में व अवैध खनन को रोकने के दृष्टिगत समस्त अनुमति निरस्त कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि जनपद हरिद्वार में शासन द्वारा 74 खनन पट्टे स्वीकृत किये गये हैं, जिसमें से वर्ष 2015 में वर्षाकाल प्रारम्भ होने से पूर्व 35 पट्टों पर खनन चुगान कार्य की नियमानुसार अनुमति प्रदान की गई थी। गंगा व सहायक नदियों के पट्टा क्षेत्रों के तल में जल आने के कारण 15 जून 2015 से पूर्व ही खनन/चुगान की कार्यवाही स्थगित कर दी गई थी। संचालित खनन पट्टों से फरवरी से जून 2015 की समयावधि में लगभग 3.40 करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ। मातृसदन ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन द्वारा 50 पोकलैंड मशीने पकड़ी थी, इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने कहा कि एन्टी माइनिंग फोर्स /पुलिस/वन/खनन/राजस्व विभाग द्वारा समय-समय पर खनन क्षेत्रों में प्रवर्तन सम्बन्धी कार्यवाही की जाती है तथा अवैध खनन सम्बन्धी कार्यों में प्रयुक्त मशीनरी आदि पर नियमानुसार जुर्माने की कार्यवाही अमल में लाई जाती है। उन्होंने कहा कि जनपद में वर्तमान में 54 स्टोन क्रेशरों हेतु शासन द्वारा अनापत्ति प्राप्त होने के उपरान्त संचालित हैं। समय-समय पर स्टोन क्रेशरों की सक्षम अधिकारियों द्वारा जांच की जाती है तथा किसी प्रकार की अनियमित्ता पाये जाने पर नियमानुसार कार्यवाही की जाती है।

Leave A Comment