Breaking News:

उत्तराखंड : महसूस हुए भूकंप के झटके -

Tuesday, November 19, 2019

उत्तराखण्ड : समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल निलंबित -

Tuesday, November 19, 2019

मैट्रो से नही दून-ऋषिकेश व हरिद्वार को मिनी मैट्रो से जोड़ा जायेगा -

Tuesday, November 19, 2019

भोजपुरी फिल्म प्रोड्यूसर एवं फिल्म निर्देशक सीएम से की भेंट -

Tuesday, November 19, 2019

केदारनाथ परिसर में बनेगा भगवान शिव की पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाओं का नया संग्रहालय, जानिए खबर -

Tuesday, November 19, 2019

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

गांधी पार्क में ओपन जिम का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Monday, November 18, 2019

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

शीघ्र ही नई शिक्षा नीति : निशंक -

Sunday, November 17, 2019

उत्तराखंड : युवा इनोवेटर्स ने विकसित किए ऊर्जा दक्ष वाहन -

Sunday, November 17, 2019

यमकेश्वर : कार्यरत स्टार्ट अप को मुख्यमंत्री ने दिए 10 लाख रूपए -

Sunday, November 17, 2019

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

गंगा की स्वच्छता को आगे बढ़ाने का संकल्प

Ganga_svchchhta_abhiyan

गंगा सबसे पवित्र नदियों में से एक है तथा करोड़ों भारतीयों की जीवन रेखा है। तथापि तेज वृद्धि कर रही आबादी तथा सम्बद्ध औद्योगिक विकास, बांधों के निर्माण एवं निर्वनीकरण ने प्रतिकूल रूप में जलप्रवाह अधिशासन को प्रभावित किया है। इसके अलावा नदी में अवशिष्ट जल के वर्धित जमाव ने पारस्थितिकीय प्रवाह द्वारा अनुरक्षित मंदन के जरिए नदी की स्वतः सफाई करने की क्षमता को घटाकर समस्याओं को बढ़ाया है।वन अनुसंधान संस्थान 16-17 अप्रैल, 2015 को ‘‘गंगा के लिए वानिकी हस्तक्षेपों की डीपीआर तैयार करना’’ विषय पर उत्तराखण्ड राज्य के लिए दो दिवसीय पहली परामर्शी बैठक का आयोजन कर रहा है। यह बैठक गंगा सफाई के लिए राष्ट्रीय मिशन, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा नवीकरण मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली द्वारा स्वीकृत परियोजना के तहत आयोजित की जा रही है। इस बैठक में आई.आई.टी., राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान, सुदूर संवेदी, भारतीय वन सर्वेक्षण, मृदा संरक्षण, राष्ट्रीय गंगा प्राधिकरण, ए एम यू, राज्य वन विभाग, सिंचाई, पेयजल निगम, कृषि, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जैव विविधता बोर्ड, जल विद्युत परियोजनाओं से विशेषज्ञ एवं पणधारी तथा विभिन्न गैर सरकारी संगठन भाग ले रहे हैं। सहभागीगण परियोजना सूत्रीकरण एवं कार्यान्वयन पर विचार-विमर्श करेंगे और गंगा की सफाई करने के लिए सुअवसरों एवं दबाव की पहचान करेंगे। बैठक के प्रारम्भ में श्री कुणाल सत्यार्थी, प्रमुख, वन संवर्धन प्रभाग ने बैठक में भाग ले रहे सभी सहभागियों का स्वागत किया और परियोजना तथा इसके उद्देश्यों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी। इसके बाद डा0 पी.पी.भोजवैद, निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान एवं प्रमुख परियोजना समन्वयक ने वानिकी हस्तक्षेपों के जरिए गंगा सफाई में चिंता के मुख्य-मुख्य विषयों की जानकारी दी और अत्यधिक सुअवसरों का उल्लेख किया। डा0 जी.एस.गोराया, उपमहानिदेशक (अनुसंधान), भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् ने भी विभिन्न नई प्रौद्योगिकियों के द्वारा नदी गंगा की सफाई करने के महत्व और हिमालयन नदियों के लिए विद्यमान संकटों के बारे में अपना दृष्टिकोण रखा। डा0 एस.चंदोला, प्रबंध निदेशक, उत्तराखण्ड वन निगम ने गंगा के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने में सम्भावित वानिकी हस्तक्षेपों के ब्योरों के बारे में विचार प्रस्तुत किया और उन्होंने परियोजना की सफलता के लिए भी शुभकामनाएं दी। 16 अप्रैल को विभिन्न विशेषज्ञों एवं हितधारकों ने तीन तकनीकी सत्रों, यथा गंगा सफाई प्रयासों के अनुभव एवं भावी सम्भावनाएं, वानिकी हस्तक्षेप: सुअवसर एवं दबाव तथा वानिकी हस्तक्षेपों के जरिए साफ गंगा के लिए समुदाय सहभागिता माॅडल, में गंगा सफाई पर अपने अपने दृष्टिकोण प्रस्तुत किए। दो तकनीकी सत्र और अंतिम पैनल विचार-विमर्श एवं संस्तुतियां 17 अप्रैल, 2015 को की जाएंगी।

Leave A Comment