Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

गंगा से गाद निकालने के लिए चितले समिति ने कई उपायों की सिफारिश

Ganga-River

गंगा से गाद निकालने के लिए चितले समिति ने कई उपायों की सिफारिश की है, जिनमें गाद हटाने के कार्य के लिए वार्षिक गाद बजट से सबसे अधिक गाद हटाने की प्रक्रिया का अध्‍ययन करना, पहले हटाई गई तलछट/गाद के बारे में बताते हुए वार्षिक रिपोर्ट(रेत पंजीयन) तैयार करना और तलछट बजट बनाने का कार्य एक तकनीकी संस्‍थान को सौंपा जा सकता है, आकृति और बाढ़ प्रवाह का अध्‍ययन जिसमें सबसे अधिक गाद वाले स्‍थान से गाद हटाने की आवश्‍यकता का निरीक्षण और पुष्टि करने पर विचार किया जाना शामिल है। जल संसाधन नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय ने भीमगौड़ा(उत्‍तराखंड) से फरक्‍का(पश्चिम बंगाल) तक गंगा नदी की गाद निकालने के लिए दिशा निर्देश तैयार करने के वास्‍ते जुलाई 2016 में इस समिति का गठन किया था। राष्ट्रीय गंगा नदी घाटी प्राधिकरण (एनजीआरबीए) के विशेष सदस्‍य माधव चितले को समिति का अध्‍यक्ष नियुक्‍त किया गया था। समिति के अन्‍य सदस्‍य जल संसाधन, नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय में सचिव, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में सचिव और केन्‍द्रीय जल तथा विद्युत अनुसंधान स्‍टेशन, पुणे के निदेशक डॉक्‍टर मुकेश सिन्‍हा थे। समिति से गाद और रेत खनन के बीच अंतर करने तथा पारिस्थितिकी और गंगा नदी के ई-प्रवाह के लिए गाद हटाने की आवश्‍यकता के बारे में बताने को कहा गया था।

Leave A Comment