Breaking News:

रोटी डे क्लब 23 सितंबर को मनाएगा रोटी दिवस महोत्सव -

Friday, September 21, 2018

शौचालयों के संबंध में कैग की रिपोर्ट पर निदेशक की स्पष्टीकरण , जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

उत्तराखंड : सदन में पटल पर रखी गई कैग की रिपोर्ट -

Friday, September 21, 2018

पर्यटन स्थलों को स्वच्छ रखना सभी की सामूहिक जिम्मेदारीः राज्यपाल -

Friday, September 21, 2018

डीएम मंगेश घिल्डियाल राइंका खेड़ाखाल में जाकर बच्चों को पढ़ाया -

Friday, September 21, 2018

Asia Cup 2018: भारत-पाकिस्तान के बीच फिर होगा मुकाबला, जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

इस साल दो पीढ़ियों ने एक साथ बनाया गणेशोत्सव और मुहर्रम -

Friday, September 21, 2018

निवेशकों की पहली पसंद बन रहा है उत्तराखण्ड -

Thursday, September 20, 2018

गोविंदा इस ऐक्टर को मानते है सबसे मेहनती, जानिए खबर -

Thursday, September 20, 2018

हार्दिक पंड्या चोटिल, स्ट्रेचर पर मैदान से बाहर ले जाए गए -

Thursday, September 20, 2018

उत्तराखंड : 22 सितम्बर को ‘रेलवे स्वच्छता दिवस’ -

Thursday, September 20, 2018

बाजार में नकली हेलमेटों की बाढ़ -

Thursday, September 20, 2018

दून में आयोजित करेंगी जुड़वा पर्वतारोही बहनें नुंग्शी व ताशी बेस कैंप फेस्टिवल आॅफ इंडिया -

Thursday, September 20, 2018

विधानसभा में गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने के अनुरोध का संकल्प पारित -

Wednesday, September 19, 2018

पाकिस्तान से क्रिकेट पर शर्तों के साथ प्रतिबंध नहीं होना चहिए -

Wednesday, September 19, 2018

2500 बच्चियों को शिक्षा के लिए 90 दिन में तय करेंगे 6 हजार किमी -

Wednesday, September 19, 2018

‘मेंटल है क्या’ की राइटर का खुलासा, जानिए खबर -

Wednesday, September 19, 2018

फर्जी प्रमाणपत्रों के जरिए फर्जी तरीके से नौकरी कर रहे हैं कई लोगः चौहान -

Wednesday, September 19, 2018

हर मुद्दे पर विधानसभा में चर्चा को तैयार सरकार : सीएम -

Wednesday, September 19, 2018

भारतीय सेना में चयनित लेफ्टिनेंट मालविका रावत को सीएम त्रिवेंद्र ने किया सम्मानित -

Wednesday, September 19, 2018

गरीब बच्चों को पढ़ाने में बिताता है अपनी छुट्टियां, जानिए खबर

pahal

भोपाल |अपने घर से दूर दूसरे शहर में काम करने वाले वीकेंड में अपने घर पहुचंना चाहते हैं। वे पहली ट्रेन पकड़कर साप्ताहिक छुट्टियां मनाने घर जाते हैं, लेकिन भोपाल का एक इंजिनियर ऐसा है जो अपनी साप्ताहिक छुट्टियों में पहली ट्रेन पकड़ता है लेकिन घर के लिए नहीं बल्कि जरूरतमंद गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए। राहुल टीकमगढ़ में काम करता है। वह हर हफ्ते ट्रेन से भोपाल आते हैं। यहां के दुर्गा नगर स्लम में बने स्कूल में आकर गरीब बच्चों को फ्री में पढ़ाते हैं। उनका यह सफल चार साल पहले शुरू हुआ था। तब राहुल एमएएनआईटी के छात्र थे। उन्होंने राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा शुरू किए गए इस स्कूल में पढ़ाना शुरू किया। दुर्गानगर में यह एकलौता ऐसा स्कूल है जो संचालित है। लोहे की चादर के नीचे चलने वाले इस स्कूल में स्लम के 25 बच्चे आते हैं, वे यहां पढ़ते हैं, पेंट करते हैं, खेलते और नई-नई चीजें सीखते हैं। राहुल कहते हैं, ‘मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं इस तरह से बच्चों के साथ जुड़ूंगा और इतने लंबे समय तक जुड़ा रहूंगा लेकिन जब मैंने इन बच्चों का टैलंट देखा तो इनसे जुड़ गया।’राहुल हर महीने इस स्कूल के बच्चों पर आठ हजार रुपये खर्च करते हैं। कहते हैं, ‘हम लोगों ने पहले डेली क्लासेस शुरू कीं जिसमें दो दिन खेल के तौर पर खिलाते थे। अब पंद्रह दिन में एक बार क्विज प्रतियोगिता का आयोजन करते हैं। 30 बच्चे जो स्कूल में आते हैं उनमें से कुछ सरकारी स्कूल में भी पढ़ते जाते हैं। जो सरकारी स्कूल नहीं जाते हैं वे यहीं पर पढ़ना और लिखना सीखते हैं।’

Leave A Comment