Breaking News:

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया जनता से संवाद, जानिए खबर -

Sunday, May 31, 2020

प्रदेश में खेती को व्यावसायिक सोच के साथ करने की आवश्यकताः सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, May 31, 2020

अनलॉक के रूप में लॉकडाउन , जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 749 -

Saturday, May 30, 2020

रहा है भारतीय पत्रकारिता का अपना एक गौरवशाली इतिहास -

Saturday, May 30, 2020

गुट निरपेक्षता ही शान्ति का सहारा

sasasa

गुट निरपेक्षता अन्तर्राष्टी्रय मामलों में एक शक्तिशाली शक्ति बन गयी है। ऐसे समय में जबकि विश्व में दो गुटों के बीच अविश्वास, भय एंव संदेह तथा पारस्पारिक दुश्मनी का बोलबाला है, मानव जाति की मुक्ति के लिए गुट निरपेक्षता की आशा की एक किरण प्रदान करती है। विश्व पर प्रभुत्व जमाने हेतु महाशक्तियों के पास विनाशकारी शक्ति के नाभिकीय अस्त्र हैं; ऐसे समय में गुट निरपेक्षता ही शान्ति का सहारा मालूम पडता है। अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्धों में गुट निरपेक्षता पूर्ण रूप से नई चीज नहीं है। यह धारणा किसी न किसी रूप में आस्तित्व में रही है। पुराने जमाने में भी शान्ति और युद्ध के समय तटस्थ देशों की धारणा विद्यमान थी। जब कभी दो देशों के बीच युद्ध होता था तो कुछ देश अपनी तटस्थता की द्योषणा कर देते हैं और अन्तर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार उनके कुछ अधिकार और उत्तरदायित्व हो जाते हैं। वर्तमान युग में वर्तमान परिस्थितियों के सन्दर्भ में इस धारणा ने नया महत्व ग्रहण किया है। अब विश्व दो शक्ति गुटों में विभाजित है-यू0 एस0 ए0 के नेतृत्व वाला पश्चिमी गुट एवं रूस के नेतृत्व वाला पूर्वी गुट। कुछ देश दोनों में से किसी एक गुट के साथ हैं। इस प्रकार नाटो नाम का एक प्रतिरक्षा संगठन है। जिसमें संयुक्त राज्य अमरीका सहित बहुत से पश्चिमी देश सम्मिलित हैं, और दूसरा संगठन वारसा पैक्ट है जिसमें रूस सहित बहुत से पूर्वी यूरोपीय देश है। इन दोनों गुटों में शीत युद्ध चलता रहता है। और यह शीत युद्ध कभी भी गर्म युद्ध में परिवर्तित हो सकता है जिससे इन देशों में ही मौत और विनाश नहीं आएगें बल्कि सम्पूर्ण विश्व में, दोनों गुटों के मध्य युुद्ध में प्रयुक्त नाभिकीय अस्त्रों के प्रभाव से पृथ्वी का कोई भी कोना सुरक्षित नहीं बचेगा।

Leave A Comment