Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

ग्रामीण बस्ती बचाने को भगवान की शरण में, जानिये खबर

JRA HATKE

विकासनगर। कहीं सुनवाई न होने के बाद ग्रामीण अब बस्ती बचाने को भगवान की शरण में पहुंचे हैं। प्रशासन की ओर से शीशमबाड़ा में परिवारों की बस्ती को अवैध घोषित करने के बाद ध्वस्तीकरण की चेतावनी दिए जाने से परेशान स्थानीय बाशिंदों ने अब भगवान की शरण ली है। बस्ती बचाने को मुख्यमंत्री, राज्यपाल, मानवाधिकार आयोग सहित राष्ट्रपति तक से गुहार लगाने के बावजूद काई ठोस आश्वासन नहीं मिलने पर रविवार को बस्ती के मंदिर में ही पूजा-अर्चना कर बस्ती को बचाने की मन्नत मांगी। जबकि सोमवार को हवन के साथ ही भंडारा भी आयोजित किया जाएगा। स्थानीय बाशिंदों ने बताया कि इस बस्ती को उन्होंने मेहनत से बसाया है। हालांकि जमीन उन्होंने सस्ते दामों पर खरीदी, लेकिन कोई भी बाशिंदा यहां अवैध रूप से नहीं बसा है। जबकि प्रशासन बिल्डर को फायदा पहुंचाने के लिए साजिश के तहत बस्ती को अवैध करार दे रहा है। शीशमबाड़ा में दो सौ अस्सी परिवारों की बस्ती को प्रशासन ने कुछ समय पूर्व अवैध करार देते हुए खाली करने की मुनादी कराई थी। मुनादी के वक्त जिला व तहसील का प्रशासनिक अमला बस्ती में मौजूद रहा। प्रशासन की कार्रवाई के बाद बस्ती उजड़ने की आशंका से भयभीत स्थानीय बाशिदों ने सीएम, राज्यपाल से लेकर राष्ट्रपति तक से न्याय की गुहार लगाई। लेकिन कहीं से कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला। हालांकि कुछ दिन पूर्व क्षेत्रीय विधायक सहदेव पुंडीर ने जरूर बस्ती के बाशिंदों के समर्थन में तहसील प्रशासन को ध्वस्तीकरण की कार्रवाई नहीं करने के निर्देश दिए थे। लेकिन विधायक के मौखिक निर्देश भी स्थानीय बाशिंदों को ठोस आश्वासन नहीं दे पाए। लिहाजा शासन, प्रशासन से निराश बस्ती के बा¨शदे अब भगवान की शरण में गए हैं। रविवार को स्थानीय बाशिंदों ने बस्ती के मंदिर में सामूहिक पूजा-अर्चना कर ईश्वर से न्याय की गुहार लगाई। इस दौरान विजेंद्र, लक्ष्मण, पवन, रजनीश, मधुबाला, मोती लाल, अवधेश, महिपाल आदि मौजूद रहे।

Leave A Comment