Breaking News:

फेक आईडी के प्रति रहें सचेतः डीआईजी -

Thursday, August 16, 2018

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर सीएम त्रिवेंद्र की श्रद्धांजलि -

Thursday, August 16, 2018

एशियन गेम्स : भारत ने भेजे 571 खिलाड़ी, जानिए खबर -

Thursday, August 16, 2018

नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी -

Thursday, August 16, 2018

कंगना की ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी लुक -

Thursday, August 16, 2018

राज्य हित में टीम भावना से काम किए जाने की आवश्यकता: मुख्यमंत्री -

Wednesday, August 15, 2018

एक-दूसरे के पति को किडनी देकर दो महिलाओं ने की मदद ,जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

देहरादून देश के दस शीर्ष रेलवे स्टेशनों की सूची में , जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के न्यू इंडिया के सपने को करना है साकार : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 15, 2018

प्रदेश में हरेला पर्व हो सरकारी तौर पर आयोजित -

Wednesday, August 15, 2018

पत्रकार चारूचन्द के स्वास्थ्य का हाल जानने पहुंचे महानिदेशक सूचना दीपेन्द्र चौधरी एवं मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट -

Tuesday, August 14, 2018

शहीद प्रदीप सिंह रावत की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : निष्कासित कर्मचारियों का उग्र आन्दोलन की चेतावनी -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : 343 किस्म की दवाओं को बेचने पर रोक -

Tuesday, August 14, 2018

त्रिवेंद्र सरकार की पर्यटन नीतियों के बदौलत पर्यटकों में आपार वृद्धि , जानिए खबर -

Tuesday, August 14, 2018

‘पलटन’ फिल्म के नए गीत के साथ आजादी का जश्न -

Tuesday, August 14, 2018

सूचना महानिदेशक दीपेन्द्र चौधरी नज़र आये शिक्षक की भूमिका में, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

सीएम त्रिवेंद्र शहीद जवान प्रदीप सिंह रावत को दी श्रद्धांजलि -

Monday, August 13, 2018

उत्तराखंड : खिलाड़ी गरिमा जोशी को दवाओं के साथ दुआवों की जरूरत, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आधारित लघु फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग में सीएम हुए शामिल -

Monday, August 13, 2018

चारधाम यात्रा शुरू होने के पहले सभी कार्य हो पूर्ण : सीएस

CS

देहरादून | चारधाम यात्रा शुरू होने के पहले केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के सभी कार्य पूर्ण हो जाने चाहिए। भारी बर्फबारी के बावजूद विषम परिस्थितियों में केदारनाथ में निम, लोनिवि और सिंचाई विभाग द्वारा पुनर्निर्माण का कार्य किया जा रहा है। दिसम्बर के महीने में भी कार्य हो रहा है। केदारनाथ में कार्य हो सकता है तो बदरीनाथ में क्यों नहीं हो सकता। मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह मंगलवार को सचिवालय में स्टेट गंगा कमेटी के बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होने कार्यदायी संस्था को परियोजना समय से पहले पूर्ण करने का लक्ष्य दिया। बैठक में बताया गया कि नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत म्यूनिसिपल सीवरेज की 21 परियोजनाओं में 18 का कार्य एवार्ड कर दिया गया है। इनमें से 12 परियोजनाओं पर कार्य भी शुरू हो गया है। बताया गया कि हरिद्वार में चंडीघाट का विकास किया जा रहा है। 11 स्नान घाट और 10 क्रेमेशन घाट बेपकास, 9 स्नान घाट और 11 क्रेमेशन घाट सिंचाई विभाग द्वारा बनाये जा रहे हैं। इसके अलावा वन विभाग द्वारा वृक्षारोपण, इको पार्क, नर्सरी आदि विकसित किये जायेंगे। बताया गया कि हरिद्वार में 18 एमएलडी का एसटीपी अहबाब नगर में, त्रिवेणी घाट में सीवरेज योजना, तपोवन में 3.5 एमएलडी एसटीपी, देव प्रयाग में 1.4 एमएलडी एसटीपी, जोशीमठ, गोपेश्वर, देवप्रयाग में डायवर्जन कार्य, गंगोत्री में एक एमएलडी एसटीपी और बदरीनाथ में डायवर्जन का कार्य पूर्ण हो गया है। देवप्रयाग, उत्तरकाशी और गंगोत्री में मरम्मत और पुनर्निर्माण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इसके अलावा 21 अन्य परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है। बैठक में बताया गया कि रीवर फ्रंट डेवलपमेंट के अंतर्गत ऋषिकेश से देवप्रयाग तक पौड़ी में फूलचट्टी, रामकुंड, भरत घाट, टिहरी से देवप्रयाग तक 7 घाट, हरिद्वार से राज्य की सीमा तक घाट और क्रेमेशन घाट का निर्माण बेपकास द्वारा किया जा रहा है। इसके अलावा देवप्रयाग से उत्तरकाशी, उत्तरकाशी से मनेरी, रूद्रप्रयाग से कर्णप्रयाग और कर्णप्रयाग से विष्णु प्रयाग तक कार्य किया जा रहा है।  बताया गया कि 5 क्लस्टर में सालिड वेस्ट मैनेजमेंट का कार्य काशीपुर, जसपुर, रामनगर, बाजपुर, महुआ खेड़ा, रूड़की, भगवानपुर, झबरेड़ा, लक्सर, मंगलोर, ऋषिकेश, मुनि की रेती, स्वर्गाश्रम, नरेन्द्र नगर, डोईवाला, टिहरी में प्रस्तावित है। बताया गया कि 7 जनपदों हरिद्वार, देहरादून, पौड़ी, रूद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, टिहरी में जनपद गंगा समिति का गठन कर मानिटरिंग की जा रही है। बैठक में सचिव पेयजल श्री अरविंद सिंह हंयाकी, परियोजना निदेशक नमामि गंगे राघव लांगर, आईआईटी रूड़की के प्रोफेसर डाॅ. एएन काजमी, नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ हाइड्रोलाजी के वैज्ञानिक डाॅ. ए.के.लोहनी सहित अन्य अधिकारी और विशेषज्ञ उपस्थित थे।

Leave A Comment