Breaking News:

108 सेवा : आधा दर्जन आंदोलनरत कर्मियों की तबीयत बिगड़ी -

Wednesday, May 22, 2019

मिसेज इंडिया प्रतियोगिता का देहरादून में हुआ ऑडिशन -

Wednesday, May 22, 2019

शर्मसार : शिक्षक ने पांचवीं की छात्रा के साथ किया दुष्कर्म -

Wednesday, May 22, 2019

ऑक्‍सिजन की नली के साथ 300 किलोमीटर दूर वोट डालने पहुंची महिला -

Wednesday, May 22, 2019

वर्ल्ड कप से पहले पब्जी खेलते दिखे टीम इंडिया के खिलाड़ी -

Wednesday, May 22, 2019

भंसाली की फिल्म ‘मलाल’ का ट्रेलर लॉन्च ले गए 6 साल पीछे , जानिए ख़बर -

Wednesday, May 22, 2019

पुण्यतिथि पर याद किए गए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी -

Tuesday, May 21, 2019

एक जून से फूलों की घाटी का दीदार, जानिए खबर -

Tuesday, May 21, 2019

गवर्नर्स कप गोल्फ प्रतियोगिता 24 मई से होगी प्रारम्भ -

Tuesday, May 21, 2019

भारत के विश्व कप में महेंद्र सिंह धोनी की भूमिका बहुत बड़ी : रवि शास्त्री -

Tuesday, May 21, 2019

पुरे जोश में नजर आयी फिल्म ’83’ की टीम,जानिए ख़बर -

Tuesday, May 21, 2019

केदार यात्रा में घोड़े-खच्चर संचालकों ने मचाई लूट -

Tuesday, May 21, 2019

धूमधाम से मना एसएन मैमोरियल स्कूल का वार्षिकोत्सव ’नवरस’ -

Monday, May 20, 2019

अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी नहीं रखने होंगे साथ, जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

उत्तराखंड बोर्ड का 10वीं व 12वीं का रिजल्ट 30 मई को -

Monday, May 20, 2019

अटल आयुष्मान योजना के मरीजों से अवैध वसूली पर होगी कार्यवाही -

Monday, May 20, 2019

पाकिस्तानी क्रिकेटर की 2 वर्षीय बेटी का कैंसर से निधन -

Monday, May 20, 2019

‘लाल कप्तान ‘ का फर्स्ट लुक रिलीज,जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

जब तक शरीर साथ देगा तब तक लिखता रहूंगाः रस्किल बांड -

Sunday, May 19, 2019

स्थाई राजधानी बनाये जाने की मांग को लेकर धरना जारी रखा, जानिए खबर -

Sunday, May 19, 2019

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान

देहरादून। रिटेल सेक्टर के लघु एवं मध्यम उद्यम भारतीय रिटेल कारोबार में चीन के तेजी से उभरने से चिंतित हैं और इसे उनके कारोबार पर संकट मान रहे हैं। हाल में भारत सरकार ने भी अपने अधिकारियों को उनके एंड्राइड मोबाइल पर चीनी ऐप्स डाउनलोड न करने की अधिसूचना जारी की है। सरकार की अधिसूचना में कहा गया है कि डाटा सुरक्षा के लिहाज से वाइबो, एमआई वीडियो काॅल-एक्सोमि, शेयरइट, सेल्फी सिटी, क्यू-क्यू लांचर, मेल मास्टर, वायरस क्लीनर, एमआई कम्युनिटी, यूसी न्यूज, एपस ब्लोसर, यूकेन मेकअप, 360 डिग्री सिक्योरिटी, आदि बहुत खतरनाक हैं और इनका देश की सुरक्षा व्यवस्था पर बुरा असर पड़ सकता है। यह अधिसूचना खुफिया विभाग से मिली जानकारी के आधार पर दी गई है। इसमें उल्लेख है कि चीनी कम्पनियों में विकसित कई ऐप्स स्पायवेयर या मालवेयर हैं और डाटा सुरक्षा के लिए खतरानक हैं। सभी अधिकारियों को उनके एंड्राइड फोन में ये ऐप्स नहीं डाउनलोड करने की चेतावनी दी गई है और जो पहले से इनका इस्तेमाल कर रहे हैं उन्हें तत्काल बंद कर देने की हिदायत दी गई है। भारतीय बाजार पर चीनी वार के मद्देनजर बजाज आॅप्टिक्स के मालिक सचिन बजाज ने कहा, ‘‘हमारे देश की अर्थव्यवस्था मज़बूत हुई है। खास कर रिटेल सेक्टर में अच्छी तेजी आई है। इसलिए चीन की कम्पनियां भारतीय बाजार पर अधिकार करना चाहती हैं। परंतु इन कम्पनियों के सस्ते पीओएस का भारी संख्या में भारतीय बाजार आना हमारे लिए गंभीर खतरा हो सकता है। उन कम्पनियों को बड़ी मात्रा में हमारे डाटा मिलने से भारतीय रिटेल जगत मुसीबत में पड़ सकता है।’’ फिक्की और डेल्वाइट की एक साझा रिपोर्ट में बताया गया है कि स्मार्टफोन, ऐप्स, वेब और सोशल मीडिया के बढ़ते उपयोग से ओम्नी-चैनल रिटेल में तेजी आएगी। देश में 10 प्रतिशत की दर से बढ़ती रिटेल इंडस्ट्री में आॅफलाइन और आॅनलाइन सेवाओं का तालमेल होगा और यह इंडस्ट्री 2021 तक लगभग दोगुना हो कर रु. 85 ट्रिलियन (लाख करोड़) का आंकड़ा छू लेगा। रिटेलरों का कहना है कि भारत में रिटेल आॅटोमेशन कम्पनियां पहले से मौजूद होने के बावजूद हमारा देश हार्डवेयर और ऐप्स में चीनी घुसपैठ क्यों होने दे। खास कर चीनी ऐप्स की खतरनाक चाल को देखते हुए क्यों न इसकी रोकथाम में तेजी आए! नई दिल्ली में परिधानों की एक दुकान साई राम कलेक्शन के मालिक नीरज रामरखयानी ने बताया, ‘‘चीनी कम्पनियों से सतर्क रहना जरूरी है। खास कर ई-काॅमर्स और रिटेल कारोबार से जुड़े लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर अधिक सतर्क रहना होगा।’’ दिल्ली में पतंजलि प्रोडक्ट्स की दुकान मित्तल स्टोर के मालिक हर्ष मित्तल का कहना है, ‘‘बाजार में चीनी प्रोडक्ट्स भरे पड़े हैं। उपभोक्ता सामानो के लगभग सभी सेगमेंट में आप चीनी प्रोडक्ट देख सकते हैं हालांकि आपके पास भारतीय उत्पादों के बेहतर विकल्प हैं। यह घेरलू रिटेल कारोबार पर खतरे का स्पष्ब्ट संकेत है।’’

Leave A Comment