Breaking News:

सफाई कार्मिकों को किया पुरस्कृत, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

फूल उगाने वाले किसानों के चेहरे मुरझाए, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

हेल्प मी वेलफेयर सोसायटी ने गरीबों की मदद किये -

Tuesday, April 7, 2020

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

चुनाव आते ही राजनीतिक दलों को याद आने लगी मलिन बस्तियां

देहरादून । रिस्पना और बिन्दाल नदियों के किनारे बसी मलिन बस्तियों में लाखों लोग रह रहे हैं। चुनाव आते ही इन स्लम एरिया का महत्व बढ़ जाता है और सियासी दलों की भी नजरें इन पर गड़ जाती हैं। जानकार इन अवैध बस्तियों को राजनीतिक दलों की वोटों की खेती भी कहते हैं। उधर इन लोगों के मन में एक डर हमेशा बना रहता है कि चुनाव के बाद क्या इनके आशियाने छिन जाएंगे। प्रदेश की करीब 584 मलिन बस्तियों में रह लोग भी आम चुनावों में काफी हद तक सियासी दलों को प्रभावित कर सकते हैं. इन एरिया में करीब 12 लाख के लोग रहते है जो अच्छा-खासा बड़ा वोट बैंक है। हाईकोर्ट की सख्ती के बाद इन लोगों में डर है कि उनका आशियाना छिन जाएगा। उधर सरकार रिवर फ्रंट योजना से नदियो के किनारों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की योजना बना रही है और नदियों के डूब क्षेत्र में रहने वाले लोगों को मकान के बदले फ्लैट देने का वादा किया गया है। लेकिन इन बस्तियों में रह रहे लोगों का कहना है कि उन्हें फ्लैट नहीं वही घर चाहिए जिसमें वह रह रहे हैं। चुनाव करीब है तो राजनीतिक दलों को भी इन लोगों की या इनके वोटों की चिंता है। भाजपा प्रवक्ता वीरेंद्र बिष्ट दावा करते हैं कि भाजपा ने कभी भी गरीबों की उपेक्षा नहीं की, हमेशा साथ ही दिया है. बिष्ट कहते हैं कि नदियों को पुनर्जीवित करना है तो डूब क्षेत्र में रहने वाले लोगों का विस्थापन करना ही पड़ेगा। वह डूब क्षेत्र में रहने वाले लोगों को आश्वासन देते हैं कि उनके लिए डरने की कोई बात नहीं है क्योंकि बीजेपी सरकार उनके लिए कोई व्यवस्था करेगी तभी उन्हें हटाया जाएगा। देहरादून में ही रिस्पना, बिंदाल नदियों के किनारे करीब 2 लाख से अधिक वोटर रहते हैं जिनका साथ जीत के लिए जरूरी है। अपने आशियाने को गंवाने के डर से फिलहाल ये लोग मौजूदा सरकार से खफा नजर आ रहे हैं। कांग्रेस इनकी नाराजगी को कितना कैश कर पाती है या बीजेपी इनको समझा-बुझा कर कितना अपने पाले में ला पाती है यह देखना दिलचस्प होगा।

Leave A Comment