Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया जनता से संवाद, जानिए खबर -

Sunday, May 31, 2020

प्रदेश में खेती को व्यावसायिक सोच के साथ करने की आवश्यकताः सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, May 31, 2020

अनलॉक के रूप में लॉकडाउन , जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 749 -

Saturday, May 30, 2020

रहा है भारतीय पत्रकारिता का अपना एक गौरवशाली इतिहास -

Saturday, May 30, 2020

पहचान : फ्री ऑन लाइन कोचिंग दे रहे फुटबाल कोच विरेन्द्र सिंह रावत, जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

एक वर्ष की सफलता ने प्रधानमंत्री मोदी को बनाया विश्व नेता : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, May 30, 2020

श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली के आयोजन स्थलों पर पौधारोपण होगा : नैथानी -

Friday, May 29, 2020

हरेला पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगाः सीएम -

Friday, May 29, 2020

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन -

Friday, May 29, 2020

चोराबाड़ी में नहीं बनी है कोई झील : जिला प्रशासन

केदारनाथ से जाते-जाते अफवाह भी फैला गया कर्मचारी

रुद्रप्रयाग । दरअसल, चोराबाड़ी ताल को वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा का कारण माना जाता है। इससे लोगों के मन में चोराबाड़ी ताल को लेकर आज भी खौफ बना हुआ है। कुछ दिन पहले सिक्स सिग्मा के एक कर्मचारी ने चोराबाड़ी ताल से अपना एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया। इस वीडीओ को वट्सअप से लेकर हर गु्रप में देखा गया, जिसके बाद मीडिया में चोराबाड़ी ताल में झील बनने की खबरे आने लगी। सिक्स सिग्मा के कर्मचारी केदारनाथ में स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे थे, मगर कुछ दिन पहले ही वे भी यहां से चले गये और जाते-जाते केदारनाथ में डर का माहौल भी पैदा कर गये। सिक्स सिग्मा के कर्मचारी ने चोराबाड़ी ताल से नहीं, बल्कि केदारनाथ से कुछ ऊपर ही जाकर अपना वीडियो बनाया। ग्लेशियर के बगल में खड़े होकर कर्मचारी ने उसे चोराबाड़ी ताल बताकर गलत-गलत सूचना दे दी। वीडीओ में कर्मचारी कह रहा है कि यह झील जो आप देख रहे हैं कि ये चोराबाड़ी ताल है। वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा का मुख्य कारण चोराबाड़ी ताल है। फिर से चोराबाड़ी ताल में झील बनने लगी है। कर्मचारी ने इस वीडीओ को सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया और कुछ मीडिया कर्मियों ने इस वीडीओ को सच मानकर आग की तरह फैला दिया, जिसके बाद देश-विदेश से यात्रा में आने वाले तीर्थयात्रियों के मन में डर पैदा हो गया और यात्रा का आंकड़ा एकदम से घटता गया। कुछ मीडिया कर्मियों की गलती के कारण केदारनाथ यात्रा पर भारी असर देखने को मिला। बिना किसी सच्चाई और पुख्ता सबूत के चोराबाड़ी ताल में झील बनने की खबर को प्रकाशित किया गया। मीडिया में खबर आने के बाद प्रशासन भी हरकत में आ गया और वाॅडिया इंस्ट्टयूट से चोराबाड़ी ताल की जांच करने को कहा गया, लेकिन इससे पहले प्रशासन की ओर से आपदा प्रबंधन की टीम को वस्तुस्थिति जानने के लिए चोराबाड़ी भेजा गया। केदारनाथ धाम में चोराबाडी ग्लेशियर की झील को लेकर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने डीडीआरएफ की एक टीम को चोराबाडी भेजा। डीडीआरएफ टीम ने चोराबाडी ग्लेश्यिर पर पहंुचने पर जिलाधिकारी को अवगत कराया कि ग्लेश्यिर में कोई झील नहीं है और टीम की ओर से ग्लेशियर के छायाचित्र भेजे गये। जिलाधिकारी ने बताया कि कुछ लोगों ने ग्लेशियर को झील का नाम देकर अफवाह फैलाने का काम किया है। जिस स्थान पर चोराबाड़ी ताल है, वहां पर कोई झील नहीं बनी है। उन्होंने बताया कि चोराबाडी में कोई झील नहीं है। संभवतः ग्लेश्यिर की तलहटी पर झील हो सकती है, जिसके सर्वे के लिए जल्द ही वाडिया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों की टीम आ रही है।

Leave A Comment