Breaking News:

2019 के शैक्षणिक सत्र में आधा हो जाएगा NCERT का पाठ्यक्रम -

Sunday, February 25, 2018

आपदा पुनर्निर्माण कार्य में मानकों की उड़ाई जा रही धज्जियां -

Sunday, February 25, 2018

एनएच-74 मुआवजा घोटाले की 300 करोड़ की राशि कहां गई : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत -

Sunday, February 25, 2018

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर 2-1 से सीरीज पर किया कब्जा -

Sunday, February 25, 2018

श्रीदेवी का 54 की उम्र में आकस्मिक निधन -

Sunday, February 25, 2018

जीएसटी ‘ई-वे बिल’ एक अप्रैल से लागू किया जा सकता है -

Saturday, February 24, 2018

सुपर डांसर के टॉप-5 में पहुंचे, देहरादून के आकाश थापा -

Saturday, February 24, 2018

भारत में गरीब और गरीब हो रहे हैं… -

Saturday, February 24, 2018

‘इन्वेस्टर मीट’ की सजावट में खर्च हो गए करोड़ रुपये -

Saturday, February 24, 2018

हेमकुंड साहिब के कपाट 25 मई को खुलेंगे -

Saturday, February 24, 2018

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

जरा हट कर : कांग्रेस के संस्थापक ने साड़ी पहन कर बचाई थी जान

peh

कांग्रेस के संस्थापक एवं इटावा के तत्कालीन जिलाधिकारी ए ओ ह्यूम को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान 17 जून, 1857 को उत्तर प्रदेश के इटावा में जंगे आजादी के सिपाहियों से जान बचाने के लिए साड़ी पहन कर ग्रामीण महिला का वेष धारण कर भागना पड़ा था। इटावा के हजार साल और इतिहास के झरोखे में इटावा नाम ऐतिहासिक पुस्तकों मे ह्यूम के बारे में अनेक उल्लेख उपलब्ध हैं।आज भी उनका महत्व बना हुआ है इटावा के सैनिकों ने ह्यूम और उनके परिवार को मार डालने की योजना बनाई थी। सेनानियों ने उनका बंगला घेरने की तैयारी कर रहे थे। भनक लगते ही 17 जून, 1857 को ह्यूम को महिला के वेष मे गुप्त ढंग से इटावा से निकल कर बढ़पुरा पहुंच गए और सात दिनों तक बढ़पुरा में छिपे रहे। कांग्रेस के जिला अध्यक्ष उदयभान सिंह यादव बताते हैं कि बेशक आज के वक्त में इटावा की राजनितिक पहचान समाजवादी पार्टी के गढ़ के रूप में होती हुई दिख रही हो, लेकिन आजादी के दरम्यान इटावा को यहां के तत्कालीन जिलाधिकारी ए ओ ह्यूम ने बहुत कुछ दिया है, इसी कारण ह्यूम का मह्त्व उनके ना रहने के बाद भी बना हुआ है। आज भी उनका महत्व बना हुआ है इटावा के सैनिकों ने ह्यूम और उनके परिवार को मार डालने की योजना बनाई थी। सेनानियों ने उनका बंगला घेरने की तैयारी कर रहे थे। भनक लगते ही 17 जून, 1857 को ह्यूम को महिला के वेष मे गुप्त ढंग से इटावा से निकल कर बढ़पुरा पहुंच गए और सात दिनों तक बढ़पुरा में छिपे रहे। कांग्रेस के जिला अध्यक्ष उदयभान सिंह यादव बताते हैं कि बेशक आज के वक्त में इटावा की राजनितिक पहचान समाजवादी पार्टी के गढ़ के रूप में होती हुई दिख रही हो, लेकिन आजादी के दरम्यान इटावा को यहां के तत्कालीन जिलाधिकारी ए ओ ह्यूम ने बहुत कुछ दिया है, इसी कारण ह्यूम का मह्त्व उनके ना रहने के बाद भी बना हुआ है।खुद के अंश से 32 स्कूलों का निर्माण करवाया
अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने अपने कार्यकुशलता के बल पर इटावा के लोगों के मन में अपना स्थान बना लिया। 16 जून, 1856 को ह्यूम ने लोगों की जनस्वास्थ्य सुविधाओं को मद्देनजर इटावा मुख्यालय पर एक सरकारी अस्पताल का निर्माण कराया। स्थानीय लोगों की मदद से ह्यूम ने खुद के अंश से 32 स्कूलों का निर्माण कराया जिसमे 5683 बालक-बालिका अध्ययनरत रहे। उस समय बालिका शिक्षा का जोर ना के बराबर रहा जिसके कारण विद्यालय में मात्र दो बालिका ही अध्ययन के लिए सामने आई। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने अपने कार्यकुशलता के बल पर इटावा के लोगों के मन में अपना स्थान बना लिया। 16 जून, 1856 को ह्यूम ने लोगों की जनस्वास्थ्य सुविधाओं को मद्देनजर इटावा मुख्यालय पर एक सरकारी अस्पताल का निर्माण कराया। स्थानीय लोगों की मदद से ह्यूम ने खुद के अंश से 32 स्कूलों का निर्माण कराया जिसमे 5683 बालक-बालिका अध्ययनरत रहे। उस समय बालिका शिक्षा का जोर ना के बराबर रहा जिसके कारण विद्यालय में मात्र दो बालिका ही अध्ययन के लिए सामने आई। एक अंग्रेज अधिकारी होने के बावजूद भी ह्यूम का यही इटावा प्रेम उनके लिए मुसीबत का कारण बना। इटावा में स्थानीय रक्षक सेना के गठन की भी बड़ी दिलचस्प कहानी है। 1856 में ह्यूम इटावा के कलक्टर बन कर आए। कुछ समय तक यहां पर शांति रही। डलहौजी की व्ययगत संधि के कारण देसी राज्यों में अपने अधिकार हनन को लेकर ईस्ट इंडिया कंपनी के विरुद्ध आक्रोश व्याप्त हो चुका था। चर्बी लगे कारतूसों क कारण 6 मई, 1857 में मेरठ से सैनिक विद्रोह भड़का था। उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली से लगे हुए अन्य क्षेत्र ईस्ट इंडिया कंपनी ने अत्यधिक संवेदनशील घोषित कर दिए थे।

Leave A Comment