Breaking News:

जरा हट के : महिलाओं को दिया जा रहा ऐपण आर्ट का प्रशिक्षण -

Thursday, November 21, 2019

अवैध निर्माणों पर एमडीडीए हुआ सख्त, जानिए खबर -

Thursday, November 21, 2019

शूट की जा रही फिल्म ‘‘सौम्या गणेश‘‘ का सीएम त्रिवेंद्र ने मुहूर्त शॉट लिया -

Thursday, November 21, 2019

गोवा : अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शुभारंभ, विशेष सत्र में उत्तराखंड को स्थान -

Wednesday, November 20, 2019

शिक्षकों की कमी से प्रभावित हो रही छात्रों की पढ़ाई, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

सिपाही को ट्रैक्टर से कुचलने वाले आरोपी चालक गिरफ्तार -

Wednesday, November 20, 2019

मिस रेडिएंट स्किन और मिस ब्यूटीफुल हेयर उप प्रतियोगिताओं का आयोजन, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

कोटद्वार में मुख्यमंत्री ने मुस्लिम योग शिविर का किया उद्घाटन -

Wednesday, November 20, 2019

उत्तराखंड : महसूस हुए भूकंप के झटके -

Tuesday, November 19, 2019

उत्तराखण्ड : समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल निलंबित -

Tuesday, November 19, 2019

मैट्रो से नही दून-ऋषिकेश व हरिद्वार को मिनी मैट्रो से जोड़ा जायेगा -

Tuesday, November 19, 2019

भोजपुरी फिल्म प्रोड्यूसर एवं फिल्म निर्देशक सीएम से की भेंट -

Tuesday, November 19, 2019

केदारनाथ परिसर में बनेगा भगवान शिव की पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाओं का नया संग्रहालय, जानिए खबर -

Tuesday, November 19, 2019

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

गांधी पार्क में ओपन जिम का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Monday, November 18, 2019

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

जरूरत है आज के दौर में एजुकेशन सिस्टम को बदलने की: काजोल

kajol

एक न्यूज़ पोर्टल में बातचीत में काजोल ने एजुकेशन सिस्टम के बारे में अपने विचार बातए है की एजुकेशन सिस्टम ठीक नहीं है। शिक्षा व्यवस्था ऐसी है कि बच्चों को पढ़ना-लिखना बोझ लगता है। वह पढ़ाई पूरी करने के बाद राहत की सांस लेते हैं। काजोल इन दिनों अपनी रिलीज़ के लिए तैयार फिल्म ‘हेलीकाप्टर ईला’ के प्रमोशन में जुटी हैं। फिल्म में वह ऐसी सिंगल मदर बनी है, जो अपने बेटे की परवरिश में अपने शौक और जिंदगी को जीना भूल जाती हैं। काजोल कहती हैं, ‘मुझे लगता है कि हर जनरेशन के बच्चे यही सोचते हैं कि उनका समय और माहौल सबसे अच्छा है। मेरी माँ सोचती है कि जिस समय वह पली-बढ़ीं उनका वक्त सबसे बेस्ट था, मैं अपना बचपन बेहतर मानती हूं और मेरे बच्चे भी यही सोचते होंगे कि वह जिस समय में बड़े हो रहे हैं वह कमाल का है। सच बात तो यह है कि दुनिया बदल गई है, मिटटी और पानी भी बदल गया है। मेरा बचपन तो ऐसा था कि मैं लोनावला की सड़कों में अकेले घूमा करती थी, किसी बात का कोई डर नहीं था। आज डर बढ़ गया है। सबसे जरूरी है आज हम अपने बच्चों से लगातार बात करते रहें, हमेशा बच्चों से अपनी ही पसंद की बातें नहीं, बल्कि उनकी पसंद की बातें भी करें। आजकल के बच्चे सबकुछ बहुत जल्दी सीख लेते हैं और अडल्ट बातें भी करते हैं।’ आज के एजुकेशन सिस्टम पर सवाल उठाते हुए काजोल ने कहा, ‘आज की शिक्षा व्यवस्था पर सुधार की जरूरत है। आज स्कूल में पढ़ाई से ज्यादा रटने की बात सिखाई जाती है। आज जब बच्चे स्कूल खत्म करते हैं तब उन्हें लगता है, जैसे कोई बहुत बड़ा बोझ कम हो गया हो और वह राहत की सांस लेते हैं। कहने का मतलब है कि बच्चों में पढ़ाई बोझ बन गई है। बच्चे पढ़ाई के नाम पर भागते हैं। मैंने खुद अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद असली पढ़ाई की। मैंने अपनी मां की लाइब्रेरी में रखी सारी किताबों को पढ़कर ज्ञान अर्जित किया है।’

Leave A Comment