Breaking News:

सात बार विधायक रहे भगवती सिंह के पास ना अपना घर है ना गाड़ी, जानिए खबर -

Saturday, September 21, 2019

सीएम त्रिवेंद्र वरिष्ठ पत्रकार चंद्रशेखर जोशी की पत्नी आरती बडोनी जोशी के निधन पर जताया शोक -

Friday, September 20, 2019

देहरादून में जहरीली शराब पीने से छह लोगों की मौत -

Friday, September 20, 2019

लाखों की स्मैक के साथ एक दबोचा -

Friday, September 20, 2019

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय : 11 छात्रों को प्रतिष्ठित कंपनियों में प्लेसमेंट -

Friday, September 20, 2019

शराब कारखाने लगाने की नीति पर हो पुनर्विचार : साध्वी प्राची -

Friday, September 20, 2019

देहरादून : फैशन वीक 20 सितंबर से, जानिए खबर -

Thursday, September 19, 2019

सुपर 30 के संस्थापक आनंद अमेरिका में हुए सम्मानित -

Thursday, September 19, 2019

पंचायत चुनाव : महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष ने पर्यवेक्षक नियुक्त किए -

Thursday, September 19, 2019

ईमानदारी की मिशाल किया पेश, जानिए खबर -

Thursday, September 19, 2019

केदारनाथ के दरबार मे थल सेनाध्यक्ष -

Thursday, September 19, 2019

त्रिवेंद्र सरकार के ढाई वर्ष : उत्तराखंड राज्य के विकास दर में हुई वृद्धि -

Wednesday, September 18, 2019

केजरीवाल सरकार : मजदूर की बेटी शशि बनेगी एमबीबीएस -

Wednesday, September 18, 2019

पुलिस कर्मियों के सामने ‘बेघर’ का संकट -

Wednesday, September 18, 2019

डेंगू और अब स्वाइन फ्लू का अटैक -

Wednesday, September 18, 2019

पंचायत चुनाव: विकास खण्ड मुख्यालय पर होगा चुनाव चिन्ह आवंटन -

Wednesday, September 18, 2019

गरीब बच्चों को राज्यपाल ने स्कूल टिफिन और छाते उपहार स्वरूप किये भेंट -

Tuesday, September 17, 2019

मोटोरोला ने लांच किया स्मार्ट टीवी , जानिए खबर -

Tuesday, September 17, 2019

पीएम नरेन्द्र मोदी के जन्मोत्सव पर चित्र प्रदर्शनी का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारंभ -

Tuesday, September 17, 2019

सिर पर हेल्मेट होती तो बच जाती लगभग पचास हज़ार लोगों की जान , जानिए खबर -

Tuesday, September 17, 2019

जिंदगी और मौत से जूझ रहीं लड़की के लिए ,फरिश्ते बने 4 लड़के

नई दिल्ली | जोगेंद्र सिंह एक एयरलाइंस में जॉब करते हैं। उनकी बेटी गुड़गांव में एक एमएनसी में जॉब करती है। सोनाली ने एमबीए किया है। उन्हें जो पता लगा है कि सोनाली की दोस्त नेहा है। वह भी वहीं देवली गांव में रहती है। नेहा और उसके चचेरे भाई राहुल ने सोनाली से उधार लिया था। जोगेंद्र को यह नहीं पता है कि यह रकम सोनाली ने इन्हें कब दी थी। सोनाली उनसे उधार दिए पैसे मांग रही थी। दोनों पैसे देने में आनाकानी कर रहे थे। शुक्रवार दोपहर बाद राहुल ने सोनाली को फोन करके कहा गया कि आज तुम्हें तुम्हारे पैसे दे ही देता हूं। राहुल ने सोनाली को वसंत कुंज में एक जगह बुलाया। उसने सोनाली को कार में बैठाया। 20 हजार रुपये दिए और इसके बाद दोनों के बीच शायद कुछ कहासुनी हुई। आरोप है कि राहुल ने सोनाली को चलती कार में ही गोली मार दी। वह लहूलुहान हालत में उन्हें जौनपुर-छतरपुर की ओर वाले जंगलों में मरा हुआ समझकर फेंककर भाग गया। कुछ देर बाद वहां से चार लड़के गुजर रहे थे। उन्होंने सोनाली को घायल हालत में देखा। सोनाली के पिता का कहना है कि यह उधार दिए गए पैसों का ही मामला है। जबरदस्ती दोस्ती वाला मामला नहीं। आरोपी राहुल इलाके में पानी के टैंकर आदि की सप्लाई कराता है। उसका टैक्सी का भी कारोबार है। जिंदगी और मौत से जूझ रहीं सोनाली के पिता जोगेंद्र सिंह ने कहा कि ऑपरेशन करके सोनाली की आंख के नीचे लगी गोली निकाल दी गई है। डॉक्टरों ने अगले कुछ घंटे खतरनाक बताए हैं। उनके टल जाने के बाद स्थिति खतरे से बाहर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी की जिंदगी बचाने में वह 4 लड़के फरिश्ते बनकर आए। उन्होंने पुलिस को फोन भी किया और उनकी बेटी को फोर्टिस में भर्ती भी कराया। अगर समय पर उनकी सोनाली को अस्पताल ना ले जाया गया होता, तो पता नहीं क्या होता।

Leave A Comment