Breaking News:

स्टेडियम में रंगारंग कार्यक्रमों ने बांधा समां -

Monday, November 12, 2018

एनाटाॅमिकल सोसायटी आॅफ इंडिया ने उत्कृष्ठ कार्य करने वालों को किया सम्मानित -

Monday, November 12, 2018

रेसलर को ललकारना राखी सावंत को पड़ा महंगा ,जानिए ख़बर -

Monday, November 12, 2018

निकाय चुनाव : कांग्रेस ने अपना दृष्टिपत्र किया जारी -

Monday, November 12, 2018

नगर निगम चुनाव : प्रेक्षकों को दिशा निर्देश जारी -

Monday, November 12, 2018

यूथ आईकॉन अवार्ड 2018 से “सोशल” सम्मानित -

Sunday, November 11, 2018

मेयर प्रत्याशी सुनील उनियाल गामा ने जनसंपर्क कर मांगे वोट -

Sunday, November 11, 2018

नहाय-खाय के साथ छठ पर्व का शुभारम्भ -

Sunday, November 11, 2018

भारत और पाकिस्तान आज फिर होंगे आमने सामने, जानिए खबर -

Sunday, November 11, 2018

जल्द रिलीज होगा रणवीर की फिल्म ‘सिंबा’ का ट्रेलर -

Sunday, November 11, 2018

डब्ल्यूआईसी: किड्स फैशन शो ‘डैजल’ का आयोजन -

Saturday, November 10, 2018

देव संस्कृति विश्वविद्यालय में राज्यपाल ने किया शौर्य दीवार का अनावरण -

Saturday, November 10, 2018

व्हाट्सएप ग्रुप पर सुसाइड नोट पोस्ट और शव पेड़ पर मिला लटका -

Saturday, November 10, 2018

आइटीबीपी का उत्तराखंड से अटूट रिश्ता….. -

Saturday, November 10, 2018

बजरंग पूनिया बने दुनिया के नंबर एक पहलवान -

Saturday, November 10, 2018

‘भारत’ फिल्म की फाइनल शूटिंग के लिए पंजाब पहुंचे सलमान -

Saturday, November 10, 2018

शीतकाल के लिए केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट हुए बंद -

Saturday, November 10, 2018

उत्तराखंड : “मैड” ने की प्लास्टिक की घर वापसी -

Friday, November 9, 2018

उत्तराखंड में आ रहा परिवर्तन ……… -

Friday, November 9, 2018

गाय को बचाने के लिए नहर में लगाई, जानिए खबर -

Friday, November 9, 2018

जिलाधिकारी नैनीताल दीपेंद्र चौधरी का जरूरतमंद बच्चो के प्रति अनोखी पहल

DM

“जरूरी है बच्चों को सिखाना कि बांटने से और बढ़ती हैं खुशियां”

मासूम चेहरों पर खिलखिलाने के लिए बेकरार रहने वाली लाखों की मुस्कान चंद पैसों की कमी से सिमट न जाए और गरीब परिवारों के बच्चे भी अच्छे खिलौनों से खेल सकें। बच्चों में खुशियां बांटने की आदत और चाहत का विकास हो साथ ही राजकीय प्राथमिक विद्यालयों और आगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति जनसहयोग से सुदृढ़ हो सकें इस लक्ष्य को सार्थक करने के लिए जिलाधिकारी दीपेंद्र कुमार चौधरी ने आंरभ किया अभियान “साथी हाथ बढ़ाना”। साथी हाथ बढ़ाना – ये नाम है उस कैंपेन का जिसमें हल्द्वानी के बच्चे कह रहे हैं “मेरे खिलौने- हमारे खिलौने” और “मेरी किताबें-सबकी किताबें”। राजकीय प्राथमिक विद्यालय जवाहर ज्योति, दमुवाढूंगा में डीएम दीपेन्द्र चौधरी ने बच्चों को अपनी चीज़ें मिल-बांट कर उपयोग करने का पाठ पढ़ाया और दीक्षांत इंटरनेशनल स्कूल के विद्यार्थियों की मदद से नन्हे-मुन्ने बच्चों को वितरित किये खिलौने और शिक्षण सामग्री। दीक्षांत इंटरनेशनल स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा डीएम दीपेन्द्र चौधरी की पहल पर करीब 2500 खिलोने एकत्रित किये गए। इस अवसर पर डीएम अंकल ने बच्चों को दिए उनके मनपसंद खिलौने और लुटाया बेपनाह प्यार। जिलाधिकारी अपने साथ बच्चों के लिए चॉकलेट भी लाये थे। डीएम अंकल से खिलौने लेकर बच्चे उछलने-कूदने लगे। अपने बच्चों की खुशियां देखकर सभी शिक्षिकाओं और अभिभावकों ने कहा शुक्रिया डीएम अंकल। जिलाधिकारी के प्रयास और बच्चों के प्रति लगाव की सराहना करते हुवे सभी उपस्थित लोग भावुक होकर कहने लगे कि काश सभी अधिकारी ऐसे होते तो देश की शिक्षा व्यवस्था सुधर जाती। जिलाधिकारी द्वारा बच्चों से सामान्य ज्ञान के प्रश्न भी पूछे गए एवं सही जवाब मिलने पर चॉकलेट दी साथ ही अपने पसंद का खिलौना चुनने को कहा गया। कक्षा 5 में पड़ने वाली बच्ची मोनिका आर्य को जब डीएम अंकल द्वारा पूछे गए सवाल का सही जवाब देने पर अपनी पसंद का टेडी बियर लेने का मौका मिला तो इतनी खुश हुई कि डीएम अंकल के जाते समय ख़ुशी से रोते हुई बोली कि डीएम अंकल थैंक यू, इतना बड़ा गिफ्ट तो मुझे पहले कभी नहीं मिला। इस अवसर पर जिलाधिकारी दीपेंद्र चौधरी ने कहा कि बच्चों में शुरू से ही उनमें शेयरिंग और केयरिंग की भावना विकसित की जाए। बच्चों का एक-दूसरे के साथ मिलजुल कर खेलना, खाने-पीने की चीजें आपस में बांटना ये सब बातें देखने में भले ही छोटी लगती हैं, लेकिन उनके व्यक्तित्व के विकास में इन छोटी-छोटी बातों की बहुत अहमियत होती है। उन्होंने कहा कि जनसहयोग, स्वयंसेवी संस्थाओं, एन.एस.एस., एन.सी.सी. के स्वयंसेवियों की मदद से बच्चों में शेयरिंग और केयरिंग की भावना विकसित करने को एक जनजागरण अभियान चलाने की कोशिश की जाएगी ताकि साझा करने, सहयोग करने, खुशियां बांटने की आदत को हम बच्चों के संस्कारों में ला सकें। इस अभियान मे पब्लिक और कान्वेंट स्कूल्ज को भी सहयोग करने का आग्रह किया जायेगा ताकि सक्षम परिवारों के बच्चों के पुराने सही स्थिति के खिलौने और शिक्षण सामग्री की मदद से ग्रामीण क्षेत्रों के राजकीय प्राथमिक विद्यालयों एवं आंगनवाड़ी केंद्रों में टॉय बैंक एवं बुक बैंक बनाये जा सकें साथ ही राजकीय प्राथमिक विद्यालयों और आगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति जनसहयोग से सुदृढ़ हो सकें।

Leave A Comment