Breaking News:

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह -

Wednesday, January 17, 2018

पर्वतीय राज्यों को मिले 2 प्रतिशत ग्रीन बोनस : सीएम -

Wednesday, January 17, 2018

सिर दर्द हो तो करे यह उपाय …. -

Monday, January 15, 2018

उत्तरायणी महोत्सव में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम -

Monday, January 15, 2018

सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का दिया प्रस्तुतीकरण -

Monday, January 15, 2018

सीएम ने ईको फ्रेण्डली किल वेस्ट मशीन का किया उद्घाटन -

Monday, January 15, 2018

औद्योगीकरण को बढ़ावा देने को लेकर प्रदेश में सिंगल विंडो सिस्टम लागू -

Monday, January 15, 2018

युवा क्रिकेटर के लिए भारतीय तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मांगी मदद -

Sunday, January 14, 2018

कक्षा सात की बालिका ने प्रधानमंत्री के लिए लिखी चिट्ठी, जानिए खबर -

Sunday, January 14, 2018

हरियाली डेवलपमेंट फाउंडेशन ने की गरीब, अनाथ एवं बेसहारा लोगो की मदद -

Sunday, January 14, 2018

रेडिमेड वस्त्रों के 670 सेंटर स्थापित किये जायेंगेः सीएम -

Sunday, January 14, 2018

सीएम ने 14 विकास योजनाओं का किया शिलान्यास -

Saturday, January 13, 2018

एयरटेल और एमेजाॅन ने मिलाया हाथ , किया मेंबरशिप पेशकश -

Saturday, January 13, 2018

किसने ठुकराया 15 करोड़ रूपये का का ऑफर …. -

Saturday, January 13, 2018

परीक्षा में टॉप कीजिए सड़क आप के नाम ….. -

Saturday, January 13, 2018

महापुरुषों में से एक थे स्वामी विवेकानंद…. -

Friday, January 12, 2018

पवित्र ग्रंथों का ‘डिजिटलाइजेशन’ करेगा IIT कानपुर -

Friday, January 12, 2018

जीआरएसई ने डब्‍ल्‍यूजेएफएसी भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया

india

गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) द्वारा निर्मित वॅाटर जेट फास्ट अटैक क्राफ्ट (डब्‍ल्‍यूजेएफएसी), “तिहायु”  कोलकाता में भारतीय नौसेना के सुपुर्द कर दिया गया। जीआरएसई के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, रियर एडमिरल (सेवानिवृत्त) ए.के.वर्मा ने जीआरएसई में आयोजित एक समारोह में यह युद्धपोत जहाज के कमांडिंग अधिकारी कमांडर अजय केशव के सुपुर्द किया। पूर्वी नौसेना कमान के चीफ स्टाफ अधिकारी (तकनीकी) रियर एडमिरल एस. आर. सरमा ने नौसेना द्वारा स्वीकृत किए जाने से पहले जहाज का अंतिम निरीक्षण किया। इससे पहले जीआरएसई ने 2009 से 2011 तक 10 डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का निर्माण करके उन्‍हें भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया था, जो अच्‍छी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। भारतीय नौसेना ने चार और इसी तरह के डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का ‘फॉलो-ऑन’ युद्धपोत के रूप में आदेश दिया है। डब्‍ल्‍यूजेएफएसी श्रृंखला का ‘फॉलो-ऑन’ प्रथम पोत आईएनएस तारमुगली 23 मई 2016 को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था। दूसरा एफएसी तिहायु  जीआरएसई द्वारा सुपुर्द किया गया है।  ये युद्धपोत भारतीय नौसेना के लिए जीआरएसई द्वारा बनाए गए फास्ट अटैक क्राफ्ट्स के उन्नत संस्करण हैं। इस युद्धपोत का हल स्‍वरूप बहुत ही कुशल है, जिसे जीआरएसई के इन-हाउस डिजाइन केंद्र में विकसित किया गया है और व्यापक मॉडल परीक्षण से साबित हुआ है, कि यह 35 समुद्री मील की गति प्राप्त कर सकता है। यह युद्धपोत 48 मीटर लम्‍बा और 7.5 मीटर चौड़ा है और इसमें करीब 315 टन के लगभग विस्थापन क्षमता है तथा 12-14 समुद्री मील की गति पर यह लगभग 2000 समुद्री मील तक बिना रुके चल सकता है। इसमें रहने की अत्‍याधुनिक सुविधाएं हैं और यहां 29 कर्मी रह सकते हैं।

Leave A Comment