Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

जीआरएसई ने डब्‍ल्‍यूजेएफएसी भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया

india

गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) द्वारा निर्मित वॅाटर जेट फास्ट अटैक क्राफ्ट (डब्‍ल्‍यूजेएफएसी), “तिहायु”  कोलकाता में भारतीय नौसेना के सुपुर्द कर दिया गया। जीआरएसई के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, रियर एडमिरल (सेवानिवृत्त) ए.के.वर्मा ने जीआरएसई में आयोजित एक समारोह में यह युद्धपोत जहाज के कमांडिंग अधिकारी कमांडर अजय केशव के सुपुर्द किया। पूर्वी नौसेना कमान के चीफ स्टाफ अधिकारी (तकनीकी) रियर एडमिरल एस. आर. सरमा ने नौसेना द्वारा स्वीकृत किए जाने से पहले जहाज का अंतिम निरीक्षण किया। इससे पहले जीआरएसई ने 2009 से 2011 तक 10 डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का निर्माण करके उन्‍हें भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया था, जो अच्‍छी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। भारतीय नौसेना ने चार और इसी तरह के डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का ‘फॉलो-ऑन’ युद्धपोत के रूप में आदेश दिया है। डब्‍ल्‍यूजेएफएसी श्रृंखला का ‘फॉलो-ऑन’ प्रथम पोत आईएनएस तारमुगली 23 मई 2016 को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था। दूसरा एफएसी तिहायु  जीआरएसई द्वारा सुपुर्द किया गया है।  ये युद्धपोत भारतीय नौसेना के लिए जीआरएसई द्वारा बनाए गए फास्ट अटैक क्राफ्ट्स के उन्नत संस्करण हैं। इस युद्धपोत का हल स्‍वरूप बहुत ही कुशल है, जिसे जीआरएसई के इन-हाउस डिजाइन केंद्र में विकसित किया गया है और व्यापक मॉडल परीक्षण से साबित हुआ है, कि यह 35 समुद्री मील की गति प्राप्त कर सकता है। यह युद्धपोत 48 मीटर लम्‍बा और 7.5 मीटर चौड़ा है और इसमें करीब 315 टन के लगभग विस्थापन क्षमता है तथा 12-14 समुद्री मील की गति पर यह लगभग 2000 समुद्री मील तक बिना रुके चल सकता है। इसमें रहने की अत्‍याधुनिक सुविधाएं हैं और यहां 29 कर्मी रह सकते हैं।

Leave A Comment