Breaking News:

आगामी महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा : त्रिवेन्द्र सिंह रावत -

Monday, July 23, 2018

टैलेंट शो प्रतिभा को निखारने में एक बेहतर प्लेटफार्मः शैल -

Monday, July 23, 2018

अजब गजब : “तेल चोर” सक्रिय गिरोह सीसीटीवी कैमरे में कैद -

Monday, July 23, 2018

रिस्पना टू ऋषिपर्णा अभियान में हजारों की संख्या मे जुटे लोग -

Sunday, July 22, 2018

निस्वार्थ भाव से मां गंगा की सेवा में जुटे हैं युवा, जानिए खबर -

Sunday, July 22, 2018

राज्य सरकार के योजनाओं की जानकारी आम जनता तक पहुंचाए भाजपा कार्यकर्ता : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, July 22, 2018

Social-Media पर झूठे व भ्रामक सन्देश पर होगी कड़ी कार्रवाई -

Sunday, July 22, 2018

जीएसटी : रजिस्ट्रेशन होगा अनिवार्य अब 20 लाख के टर्न ओवर पर -

Sunday, July 22, 2018

शैल का नया गीत “कोका” बना युवा दिलो का धड़कन -

Saturday, July 21, 2018

मुख्यमंत्री केरवां गांव से रिस्पना पुनर्जीविकरण का करेंगे शुभारंभ जानिये खबर -

Saturday, July 21, 2018

डब्ल्यूआईसी इंडिया में फोटो प्रदर्शनी को कला प्रेमियों ने सराहा -

Saturday, July 21, 2018

देशभर में सेब का हब बन सकता है उत्तराखण्ड, जानिये खबर -

Saturday, July 21, 2018

सीएम त्रिवेंद्र कल केरवां गांव से रिस्पना पुनर्जीविकरण का करेंगे शुभारंभ -

Saturday, July 21, 2018

2026 में FIFA वर्ल्ड कप खेल सकता है भारत यदि …. -

Saturday, July 21, 2018

त्रिवेंद्र सरकार उत्तराखंड की जनता के सपने को कर रही साकार , जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

पूजा बेदी द्वारा फिक्की फ्लो के लिए ‘लाइफ ट्रांसफॉर्मेशन’ कार्यशाला -

Friday, July 20, 2018

पर्यटन व वन विभाग के मध्य उचित समन्वय आवश्यक : मुख्यमंत्री -

Friday, July 20, 2018

धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा ‘मेघालय युग’ जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

सोनाली बेंद्रे ने बेटे रणवीर के लिए लिखी दिल छू जाने वाली बातें , जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

विकास कार्यों में धीमापन बरदाश्त नहींः मुख्यमंत्री -

Friday, July 20, 2018

जीआरएसई ने डब्‍ल्‍यूजेएफएसी भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया

india

गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) द्वारा निर्मित वॅाटर जेट फास्ट अटैक क्राफ्ट (डब्‍ल्‍यूजेएफएसी), “तिहायु”  कोलकाता में भारतीय नौसेना के सुपुर्द कर दिया गया। जीआरएसई के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, रियर एडमिरल (सेवानिवृत्त) ए.के.वर्मा ने जीआरएसई में आयोजित एक समारोह में यह युद्धपोत जहाज के कमांडिंग अधिकारी कमांडर अजय केशव के सुपुर्द किया। पूर्वी नौसेना कमान के चीफ स्टाफ अधिकारी (तकनीकी) रियर एडमिरल एस. आर. सरमा ने नौसेना द्वारा स्वीकृत किए जाने से पहले जहाज का अंतिम निरीक्षण किया। इससे पहले जीआरएसई ने 2009 से 2011 तक 10 डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का निर्माण करके उन्‍हें भारतीय नौसेना के सुपुर्द किया था, जो अच्‍छी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। भारतीय नौसेना ने चार और इसी तरह के डब्‍ल्‍यूजेएफएसी का ‘फॉलो-ऑन’ युद्धपोत के रूप में आदेश दिया है। डब्‍ल्‍यूजेएफएसी श्रृंखला का ‘फॉलो-ऑन’ प्रथम पोत आईएनएस तारमुगली 23 मई 2016 को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था। दूसरा एफएसी तिहायु  जीआरएसई द्वारा सुपुर्द किया गया है।  ये युद्धपोत भारतीय नौसेना के लिए जीआरएसई द्वारा बनाए गए फास्ट अटैक क्राफ्ट्स के उन्नत संस्करण हैं। इस युद्धपोत का हल स्‍वरूप बहुत ही कुशल है, जिसे जीआरएसई के इन-हाउस डिजाइन केंद्र में विकसित किया गया है और व्यापक मॉडल परीक्षण से साबित हुआ है, कि यह 35 समुद्री मील की गति प्राप्त कर सकता है। यह युद्धपोत 48 मीटर लम्‍बा और 7.5 मीटर चौड़ा है और इसमें करीब 315 टन के लगभग विस्थापन क्षमता है तथा 12-14 समुद्री मील की गति पर यह लगभग 2000 समुद्री मील तक बिना रुके चल सकता है। इसमें रहने की अत्‍याधुनिक सुविधाएं हैं और यहां 29 कर्मी रह सकते हैं।

Leave A Comment