Breaking News:

हरेला के महत्व पर मुख्यमंत्री ने लिखा ब्लॉग -

Wednesday, July 17, 2019

हंस फाउंडेशन की सहयोग से बनेगा आदर्श विद्यालय -

Wednesday, July 17, 2019

रिक्शा चलाने वाले का बेटा बना IAS अफसर, जानिए खबर -

Wednesday, July 17, 2019

दिव्‍यांग फैन ने पैर से बनाई सलमान की तस्‍वीर, जानिए ख़बर -

Wednesday, July 17, 2019

वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए चुनी जाएगी रेसलिंग टीम, जानिए ख़बर -

Wednesday, July 17, 2019

संजय दत्त को पसंद आया ‘ओ साकी साकी’ गाने के रीमेक -

Tuesday, July 16, 2019

शराब बॉटलिंग प्लांट के खिलाफ पूर्व सीएम भुवन चंद्र खंडूड़ी , जानिए खबर -

Tuesday, July 16, 2019

पांच वर्षीय बालिका के साथ दुराचार करने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Tuesday, July 16, 2019

उफनती गोरी नदी में गिरी कार, तीन लोगों की मौत -

Tuesday, July 16, 2019

हरेला पर्व : रिस्पना से ऋषिपर्णा अभियान के तहत सीएम त्रिवेंद्र ने किया वृक्षारोपण -

Tuesday, July 16, 2019

बजाज हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड के होम्स एंड लोन्स के साथ प्रॉपर्टी ढूँढें और फाइनेंस कराएं -

Tuesday, July 16, 2019

विराट को नहीं मिली आईसीसी वर्ल्ड कप टूर्नमेंट की टीम में जगह -

Monday, July 15, 2019

बिहार में टैक्‍स फ्री हुई ‘सुपर 30’, जानिये ख़बर -

Monday, July 15, 2019

सरकारी योजनाओं व अधिकारों की जानकारी महिलाओं को होना आवश्यक -

Monday, July 15, 2019

हरेला पर्व हमारी लोक संस्कृति, प्रकृति एवं पर्यावरण के साथ जुडाव का प्रतीक : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, July 15, 2019

उत्तराखण्ड सेवा का अधिकार आयोग कार्यालय भवन का हुआ लोकार्पण -

Monday, July 15, 2019

देश को नई दिशा देने में पत्रकारों की अहम भूमिकाः स्वामी कैलाशानंद -

Sunday, July 14, 2019

108 कर्मचारियों ने उत्तराखण्ड सरकार की शवयात्रा निकाली -

Sunday, July 14, 2019

दूनवासियों ने लगाई तर्ला नागल जंगल को बचाने की गुहार -

Sunday, July 14, 2019

त्रिकोण सोसायटी एवं फिक्की फ्लो की ओर से लगाया गया शिविर जानिए खबर -

Sunday, July 14, 2019

जीवन भगवान की सबसे बड़ी संरचना है : बाबा रामदेव

हरिद्वार । भगवान की सबसे बड़ी संरचना जीवन है। जीवन पूर्ण होता है लेकिन मनुष्य अपने आप को अधूरा महसूस करता है। उक्त उद्गार विश्व विख्यात योगगुरू बाबा रामदेव ने हरिहर पुरूषोत्तम भागवत धाम में आयोजित श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ के भव्य आयोजन में व्यक्त किये। बाबा रामदेव ने कहा कि भगवान ने जीवन में घास लेकर अणु-परमाणु, ज्ञान-विज्ञान सबकुछ जीवन में संजोया है लेकिन अज्ञानवश मनुष्य अपने आप को अधूरा समझकर किसी ओर कोई अन्य व्यक्ति को अपना अधूरापन समाप्त करने के लिए तलाशता रहता है जबकि जीवन भगवान की सबसे बड़ी संरचना है। कोई भी व्यक्ति किसी भी व्यक्ति को पूर्ण नहीं कर सकता जबकि हम अपने जीवन को स्वयं ही पूर्ण बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारत को धर्म व संस्कृति में पिरोने का काम श्रीमद् भागवत कथा के माध्यम म.मं. स्वामी जगदीशदास जी महाराज अपनी कथा द्वारा कर रहे हैं जो कि प्रशंसनीय है। कथा व्यास म.मं. स्वामी जगदीशदास उदासीन जी महाराज ने कहा कि श्रीमद् भागवत कथा जीवन को जीने की कला सिखाती है। धर्म, संस्कृति व शास्त्र का मार्ग भी प्रशस्त करती है। श्रीमद् भागवत कथा भगवान की कथाओं में सबसे अद्भुत ग्रंथ है जिसमें सभी धर्म, शास्त्रों का सार समाहित है। मनुष्य को अपने जीवन में कभी छल, कपट का सहारा नहीं लेना चाहिए। सत्य के मार्ग पर चलने वाले मनुष्य को कष्ट तो जरूर होते हैं लेकिन जीवन आनंदमय हो जाता है। महंत कमलदास महाराज के सयोजन में आयोजित अष्टम वार्षिकोत्सव के पावन अवसर पर श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का संचालन करत हुए म.मं. स्वामी हरिचेतनान्द महाराज ने कहा कि मां गंगा के पावन तट पर श्रीमद् भागवत कथा के श्रवण से जीवन भवसागर से पार हो जाता है। इस अवसर पर पंचायती बड़ा अखाड़ा उदासीन के कोठारी महंत प्रेमदास, महाराज, सेवादास, महाराज, अमरदास जी महाराज, सवज्ञामुनि, कृपालदास जी महाराज, जयन्त मुनि, निर्मलराम मुनि, महंत केशवनन्द महाराज, अर्जुनदास जी महाराज, जमनादास, चै. धर्मपाल नम्बरदार, कन्हैयालाल पंवार, चै. विजेन्द्र सिंह डागर, चै. महेन्द्र सिंह डागर, चै. आजाद सिंह डागर, चै. चतर सिंह ठेकेदार, पार्षद अनिल मिश्रा सहित श्रद्धालु भक्तगण उपस्थित रहे।

Leave A Comment