Breaking News:

हिमालया द्वारा ‘माई बेबी एण्ड मी’ कार्यक्रम का हुआ आयोजन -

Tuesday, October 15, 2019

जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी द्वारा फ्रेशर्स डे का आयोजन -

Tuesday, October 15, 2019

अनाथ बच्चों के साथ केक काटकर मनाई एपीजे अब्दुल कलाम की जयंती -

Tuesday, October 15, 2019

गाड़ियों के भिड़ंत में तीन लोगों की मौत, जानिए खबर -

Tuesday, October 15, 2019

हिमालया : नैचुरल शाईन हिना बालों को प्रदान करता है प्राकृतिक चमक -

Tuesday, October 15, 2019

भारतीय फुटबॉलर प्रथमेश ने किया रैंप -

Monday, October 14, 2019

कवि सम्मेलन : प्यार से भी हम मर जाते, आपने क्यों हथियार खरीदा… -

Monday, October 14, 2019

तीन निजी शिक्षण संस्थानों के खिलाफ दर्ज हुए केस, जानिए खबर -

Monday, October 14, 2019

आम लोगों के लिए लगाया प्याज मेला , जानिए ख़बर -

Monday, October 14, 2019

उत्तराखंड : मंत्रिमण्डल की बैठक होगी पेपरलेस -

Monday, October 14, 2019

जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

दून में लाइफस्टाइल फैशन वीक हुआ शुरू -

Sunday, October 13, 2019

चमोली में मैक्स गिरी खाई में नौ लोगों की मौत -

Sunday, October 13, 2019

एक वर्ष हो गए अभी भी घोषित नहीं हुए परीक्षा परिणाम , जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

“भारत भारती” के नाम से राज्य में प्रतिवर्ष हो एक कार्यक्रम -

Sunday, October 13, 2019

जापान में 60 साल का सबसे भीषण तूफान -

Saturday, October 12, 2019

बिग बॉस धारावाहिक के खिलाफ रक्षा दल -

Saturday, October 12, 2019

अज्ञात बीमारी से एक माह में छह लोगों की हो चुकी मौत,जानिए ख़बर -

Saturday, October 12, 2019

विरासत: कत्थक डांसर गरिमा आर्य व शाहिद नियाजी की प्रस्तुति -

Saturday, October 12, 2019

छड़ी यात्रा से उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, October 12, 2019

जेईई मेन के अंक और रैंक में सुधार करने का दूसरा मौका, जानिए खबर

देहरादून । जेईई मेन में अच्छी रैंक पाने के इच्छुक उम्मीदवारों के पास पहले से बेहतर करने के लिए अब दूसरा मौका भी उपलब्ध है। 2019 से वर्ष में दो बार जेईई मेन परीक्षा आयोजित करने के एनटीई के निर्णय से, कई उम्मीदवारों को एक अतिरिक्त लाभ मिल रहा है। जो छात्र पहले प्रयास में चूक गए या जेईई एडवांस के लिए क्वालिफाई करने के लिए अपनी रैंकिंग में सुधार करना चाहते हैं, उनके लिए अपनी तैयारी में सुधार करने का यह बेहतर मौका है। पहली मेन परीक्षा के प्रयास को मॉक टेस्ट माना जाना चाहिए जो विस्तृत विश्लेषण और आगे की तैयारी के लिए कमजोर क्षेत्रों को जानने और समझने में सहायक साबित होगा। जेईई मेन का दूसरा सत्र 7 अप्रैल से आयोजित होने वाला है। पहला पेपर (बी.ई. ध् बी.टेक.) 8, 9, 10 और 12 अप्रैल, 2019 को होगा, और दूसरा पेपर (बी.आर्क. ध् बी. प्लानिंग) 7 अप्रैल, 2019 को आयोजित होगा। जेईई मेन 2019 के जनवरी या अप्रैल दोनों में हासिल अधिक अंकों पर जेईई मेन 2019 की मेरिट सूची तैयार करते समय विचार किया जाएगा। इस बार जेईई मेन 2019 के जनवरी और अप्रैल सत्र कंप्यूटर आधारित टेस्ट हैं। जेईई मेन 2019 में कट ऑफ को क्लीयर करने वाले छात्र 19 मई 2019 को जेईई एडवांस के लिए उपस्थित हो सकेंगे। जेईई मेन के पिछले कट ऑफ छात्रों के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे क्योंकि देश के सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक को क्रैक करने की इच्छा रखने वाले छात्र इससे प्रेरित होते हैं। फिटजी के विशेषज्ञ रमेश बैटलिश ने कहा, ‘‘पहली मेन परीक्षा में षामिल होने वाले छात्रों को इसे एक मॉक टेस्ट के रूप में लेना चाहिए जो विस्तृत विश्लेषण और आगे की तैयारी के लिए कमजोर क्षेत्रों को जानने और समझने में सहायक साबित होगा। पिछले साल के पेपर की प्रवृत्ति को जानना छात्रों के लिए आसान और उपयोगी साबित होगा। परीक्षा को क्रैक करने के लिए समय का प्रबंधन करना, भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित प्रत्येक विषय में महत्वपूर्ण टॉपिक पर फोकस करना और परीक्षा के पैटर्न के बारे में जानकारी होना जैसे कुछ महत्वपूर्ण सुझाव लाभदायक साबित होंगे। जेईई मेन 2019 अप्रैल का परिणाम 30 अप्रैल (पहला पेपर) और 15 मई (दूसरा पेपर) को घोषित किया जाएगा। जेईई मेन 2019 का परिणाम एनआईटी, आईआईआईटी और जीएफटीआई में स्नातक कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए गेटवे के रूप में भी काम करेगा।’’जेईई मेन 2019 के दूसरे सत्र में अपने अंकों में सुधार करने और बेहतर रैंक प्राप्त करने के लिए, छात्रों को प्रत्येक विषय यानी भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित में कम से कम 50-60 न्यूमेरिकल प्रति दिन हल करने की सलाह दी जाती है। हालांकि अच्छी संख्या में प्रॉब्लम को हल करना आवश्यक है, लेकिन इन्हें अवधारणा की स्पष्टता के साथ करना जरूरी है क्योंकि इससे अधिक सफलता हासिल होती है क्योंकि परीक्षा में एक निश्चित पैटर्न नहीं हो सकता है। हालांकि सवालों को हल करना अच्छा है, लेकिन अवधारणाओं को समझने पर अधिक ध्यान केंद्रित करें। जेईई को क्रैक करने के लिए क्रिटिकल थींकिग पर अधिक जोर देने के साथ-साथ विश्लेषणात्मक कौशल की अच्छी समझ और पकड़ की आवश्यकता होती है। इस प्रकार अवधारणा के अनुप्रयोग को भी समझना अत्यावश्यक है।

Leave A Comment