Breaking News:

जरा हट के : ब्याज पर पैसे लेकर ग्रामीणों ने खुद बनाई डेढ़ सौ मीटर लम्बी सड़क -

Sunday, November 18, 2018

देहरादून : दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के सोमवार को दर्ज होंगे बयान -

Saturday, November 17, 2018

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला का निधन -

Saturday, November 17, 2018

मिस उत्तराखंड : मिस रेडिएंट स्किन एंड ब्यूटीफुल हेयर सब प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, November 17, 2018

सभी नागरिक अपने मताधिकार का करे प्रयोग : सीएम -

Saturday, November 17, 2018

मतदाता चुनेेंगे शहर की सरकार …. -

Saturday, November 17, 2018

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका अहम -

Friday, November 16, 2018

चैटर्जी बहनों द्वारा बांसुरी प्रदर्शन का आयोजन -

Friday, November 16, 2018

आखिरी दिन कांग्रेस ने रोड शो में झोंकी ताकत -

Friday, November 16, 2018

स्टिंग ऑपरेशन केस : उमेश शर्मा को मिली जमानत -

Friday, November 16, 2018

त्रिवेंद्र एवं अजय भट्ट ने मांगे भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट -

Friday, November 16, 2018

निकाय चुनाव : 9399 लाइसेंसी शस्त्रों को किया गया जमा -

Friday, November 16, 2018

भारतीय लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

स्टिंग मामला : नार्को व ब्रेन मैपिंग टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक -

Thursday, November 15, 2018

हिमालया ने लॉन्च किया ‘‘खुश रहो, खुशहाल रहो’’ -

Thursday, November 15, 2018

नजूल भूमि पर बसे किसी भी परिवार को उजड़ने नहीं दिया जायेगा : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

मेयर प्रत्याशी सुनील उनियाल गामा ने जनसंपर्क कर मांगे वोट -

Wednesday, November 14, 2018

भ्रष्टाचार तथा ब्लैकमनी पर बनाई गई पेंटिंग को खूब सराहा गया , जानिए खबर -

Wednesday, November 14, 2018

मधुमेह बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा ….. -

Wednesday, November 14, 2018

यूनाईटेड नेशस डेवलपमेंट प्रोग्राम के सदस्यों ने सीएम से की भेटवार्ता -

Wednesday, November 14, 2018

झील के पानी की गुणवत्ता समय-समय पर जांची जायः मंडलायुक्त

uk

नैनीताल। नैनी झील का पानी पेयजल के तौर पर शहर के वाशिन्दों के साथ ही आने वाले पर्यटकों द्वारा प्रयोग किया जाता है। शहर में पेयजल की आपूर्ति के लिए झील ही एकमात्र साधन है जिससें शहर व आप पास के क्षेत्रों को पेयजल आपूर्ति की जा रही है। झील के पानी की गुणवत्ता समय-समय पर जाॅची जाये। यह बात आयुक्त कुमायू मण्डल राजीव रौतेला ने झील विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि लोगों को शुद्ध एवं गुणवत्तायुक्त पेयजल की आपूर्ति करना हमारा दायित्व है। इस काम के लिए जल संस्थान और सिंचाई विभाग दोनों संयुक्त रूप से समय-समय पर नैनी झील के पानी का नमूना लेकर आधुनिकतम प्रयोगशालाओं से उनकी जाॅच कराये। उन्होंने महाप्रबन्धक जल संस्थान डीके मिश्रा को निर्देश दिये कि वह सिंचाई विभाग के साथ समन्वय कर झील के पानी के नमूने लें। उन्होंने हिदायत दी कि झील में आने वाले नाले जहाॅ-जहाॅ झील में प्रवेश कर रहे हैं, उन स्थानों के साथ ही झील के मध्य व अन्य कोनो के पानी के सम्पल लिए जाये। आयुक्त ने जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन से कहा कि नैनी झील की सफाई के लिए झील के पास सीवर ट्रीटमेन्ट प्लांट (एसटीपी) लगाये जाने की जुरूरत है इसके लिए आईआईटी रूड़की ने भी अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया है। उन्होंने जिलाधिकारी से कहा कि वह एसटीपी निर्माण के लिए विशेषज्ञों के मार्ग दर्शन में एक कार्य योजना तैयार करें ताकि एसटीपी स्थापना की दिशा में कार्यवाही की जा सके। गौरतलब है कि वर्तमान में रूसी बाईपास पर एसटीपी कार्यरत है। आयुक्त द्वारा अधिकारियों के साथ लोअर माल रोड की मरम्मत कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिशासी अभियन्ता चन्दन सिंह नेगी से कहा कि नन्दा देवी महोत्सव आयोजन का समय नज़दीक आता जा रहा है, ऐसे में लोअर माल रोड पर मरम्मत का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाये ताकि माॅ नन्दा के डोले को परम्परागत तौर पर लोअर माल रोड से गुजारा जा सके। उन्होंने जिलाधिकारी से कहा कि डोला विसर्जन के समय लोअर माल रोड पर श्रद्धालुओं को ही अनुमति दी जाये। लोअर माल रोड की नाजुक स्थिति को ध्यान में रखते हुए डोले के साथ गुजरने वाले वाहनों को एहतियात के तौर पर अपर माल रोड से गुजारा जाये। इसके लिए प्रशासन को चाहिए कि मेला आयोजकों से वार्ता कर निर्णय लिया जाये। उन्होंने कहा कि मेले में जो भी दुकाने झूले व अन्य भारी सामान लगाया जा रहा है उसका ट्रान्सपोर्टेशन अपर माल रोड से न किया जाये। मेला प्रारम्भ होने और उसके बाद झूले व मेले का अन्य सामान कालाढुंगी रोड से वापस भेजा जाये। आयुक्त ने जिलाधिकारी श्री सुमन से कहा कि नैनी झील का स्तर काफी संतोष जनक है, झील लबालब भरी हुई है, झील के पानी का डिस्चार्ज किया जा रहा है। पानी डिस्चार्ज करने के स्थान पर शहरवासियों एवं श्रद्धालुओ के लिए पेयजल उलब्धता के लिए पेयजल आपूर्ति के समय को बढ़ाने के लिए प्रशासन विचार कर ले ताकि मेला अवधि में पेयजल की कोई दिक्कत न रहे। बैठक में अपर जिलाधिकारी हरबीर सिंह, अधिशासी अभियन्ता लोनिवि सीएस नेगी, सहायक अभियन्ता डीएस बिष्ट, एमएम जोशी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave A Comment