Breaking News:

30 साल से बिना वेतन के संभालते हैं गंगाराम जी ट्रैफिक, जानिए खबर -

Saturday, September 22, 2018

रमेश सिप्पी को भा गई दून की वादियां, उत्तराखंड फिल्म इंडस्ट्री का भविष्य -

Saturday, September 22, 2018

रोटी डे क्लब 23 सितंबर को मनाएगा रोटी दिवस महोत्सव -

Friday, September 21, 2018

शौचालयों के संबंध में कैग की रिपोर्ट पर निदेशक की स्पष्टीकरण , जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

उत्तराखंड : सदन में पटल पर रखी गई कैग की रिपोर्ट -

Friday, September 21, 2018

पर्यटन स्थलों को स्वच्छ रखना सभी की सामूहिक जिम्मेदारीः राज्यपाल -

Friday, September 21, 2018

डीएम मंगेश घिल्डियाल राइंका खेड़ाखाल में जाकर बच्चों को पढ़ाया -

Friday, September 21, 2018

Asia Cup 2018: भारत-पाकिस्तान के बीच फिर होगा मुकाबला, जानिए खबर -

Friday, September 21, 2018

इस साल दो पीढ़ियों ने एक साथ बनाया गणेशोत्सव और मुहर्रम -

Friday, September 21, 2018

निवेशकों की पहली पसंद बन रहा है उत्तराखण्ड -

Thursday, September 20, 2018

गोविंदा इस ऐक्टर को मानते है सबसे मेहनती, जानिए खबर -

Thursday, September 20, 2018

हार्दिक पंड्या चोटिल, स्ट्रेचर पर मैदान से बाहर ले जाए गए -

Thursday, September 20, 2018

उत्तराखंड : 22 सितम्बर को ‘रेलवे स्वच्छता दिवस’ -

Thursday, September 20, 2018

बाजार में नकली हेलमेटों की बाढ़ -

Thursday, September 20, 2018

दून में आयोजित करेंगी जुड़वा पर्वतारोही बहनें नुंग्शी व ताशी बेस कैंप फेस्टिवल आॅफ इंडिया -

Thursday, September 20, 2018

विधानसभा में गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने के अनुरोध का संकल्प पारित -

Wednesday, September 19, 2018

पाकिस्तान से क्रिकेट पर शर्तों के साथ प्रतिबंध नहीं होना चहिए -

Wednesday, September 19, 2018

2500 बच्चियों को शिक्षा के लिए 90 दिन में तय करेंगे 6 हजार किमी -

Wednesday, September 19, 2018

‘मेंटल है क्या’ की राइटर का खुलासा, जानिए खबर -

Wednesday, September 19, 2018

फर्जी प्रमाणपत्रों के जरिए फर्जी तरीके से नौकरी कर रहे हैं कई लोगः चौहान -

Wednesday, September 19, 2018

झील के पानी की गुणवत्ता समय-समय पर जांची जायः मंडलायुक्त

uk

नैनीताल। नैनी झील का पानी पेयजल के तौर पर शहर के वाशिन्दों के साथ ही आने वाले पर्यटकों द्वारा प्रयोग किया जाता है। शहर में पेयजल की आपूर्ति के लिए झील ही एकमात्र साधन है जिससें शहर व आप पास के क्षेत्रों को पेयजल आपूर्ति की जा रही है। झील के पानी की गुणवत्ता समय-समय पर जाॅची जाये। यह बात आयुक्त कुमायू मण्डल राजीव रौतेला ने झील विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि लोगों को शुद्ध एवं गुणवत्तायुक्त पेयजल की आपूर्ति करना हमारा दायित्व है। इस काम के लिए जल संस्थान और सिंचाई विभाग दोनों संयुक्त रूप से समय-समय पर नैनी झील के पानी का नमूना लेकर आधुनिकतम प्रयोगशालाओं से उनकी जाॅच कराये। उन्होंने महाप्रबन्धक जल संस्थान डीके मिश्रा को निर्देश दिये कि वह सिंचाई विभाग के साथ समन्वय कर झील के पानी के नमूने लें। उन्होंने हिदायत दी कि झील में आने वाले नाले जहाॅ-जहाॅ झील में प्रवेश कर रहे हैं, उन स्थानों के साथ ही झील के मध्य व अन्य कोनो के पानी के सम्पल लिए जाये। आयुक्त ने जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन से कहा कि नैनी झील की सफाई के लिए झील के पास सीवर ट्रीटमेन्ट प्लांट (एसटीपी) लगाये जाने की जुरूरत है इसके लिए आईआईटी रूड़की ने भी अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया है। उन्होंने जिलाधिकारी से कहा कि वह एसटीपी निर्माण के लिए विशेषज्ञों के मार्ग दर्शन में एक कार्य योजना तैयार करें ताकि एसटीपी स्थापना की दिशा में कार्यवाही की जा सके। गौरतलब है कि वर्तमान में रूसी बाईपास पर एसटीपी कार्यरत है। आयुक्त द्वारा अधिकारियों के साथ लोअर माल रोड की मरम्मत कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिशासी अभियन्ता चन्दन सिंह नेगी से कहा कि नन्दा देवी महोत्सव आयोजन का समय नज़दीक आता जा रहा है, ऐसे में लोअर माल रोड पर मरम्मत का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाये ताकि माॅ नन्दा के डोले को परम्परागत तौर पर लोअर माल रोड से गुजारा जा सके। उन्होंने जिलाधिकारी से कहा कि डोला विसर्जन के समय लोअर माल रोड पर श्रद्धालुओं को ही अनुमति दी जाये। लोअर माल रोड की नाजुक स्थिति को ध्यान में रखते हुए डोले के साथ गुजरने वाले वाहनों को एहतियात के तौर पर अपर माल रोड से गुजारा जाये। इसके लिए प्रशासन को चाहिए कि मेला आयोजकों से वार्ता कर निर्णय लिया जाये। उन्होंने कहा कि मेले में जो भी दुकाने झूले व अन्य भारी सामान लगाया जा रहा है उसका ट्रान्सपोर्टेशन अपर माल रोड से न किया जाये। मेला प्रारम्भ होने और उसके बाद झूले व मेले का अन्य सामान कालाढुंगी रोड से वापस भेजा जाये। आयुक्त ने जिलाधिकारी श्री सुमन से कहा कि नैनी झील का स्तर काफी संतोष जनक है, झील लबालब भरी हुई है, झील के पानी का डिस्चार्ज किया जा रहा है। पानी डिस्चार्ज करने के स्थान पर शहरवासियों एवं श्रद्धालुओ के लिए पेयजल उलब्धता के लिए पेयजल आपूर्ति के समय को बढ़ाने के लिए प्रशासन विचार कर ले ताकि मेला अवधि में पेयजल की कोई दिक्कत न रहे। बैठक में अपर जिलाधिकारी हरबीर सिंह, अधिशासी अभियन्ता लोनिवि सीएस नेगी, सहायक अभियन्ता डीएस बिष्ट, एमएम जोशी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave A Comment